अब कलेक्टर करेंगे शंकराचार्य के लिए धातु इकट्ठा

एकात्म यात्रा को पहनाया सरकारी जामा, मप्र जनअभियान परिषद से जोड़ा, कलेक्टर को सौंपी जिम्मेदारी

धार. चुनाव आते ही प्रदेश की भाजपा सरकार ने आदि शंकराचार्य के नाम पर एकात्म यात्रा का आयोजन कर लिया, जिसे सरकारी जामा पहनाते हुए मप्र जनअभियान परिषद से जोड़ दिया गया। शंकराचार्य की प्रतिमा निर्माण के लिए धातु एकत्रित किया जाना है, जिसकी जिम्मेदारी कलेक्टरों को सौंप दी गई।
इसके लिए गुरुवार को मप्र जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष प्रदीप पांडे ने जिला पंचायत सभा कक्ष में बैठक लेकर एकात्म यात्रा की तैयारियों पर चर्चा की। बता दें कि लोकसभा चुनाव से पूर्व भाजपा ने देशभर में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के नाम पर लोहा इकट्ठा किया था, जिसका आज तक पता नहीं चल पाया और ना ही अब तक सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा तैयार हो पाई है। तत्कालीन जिला भाजपा अध्यक्ष रमेशचंद्र धाड़ीवाल ने बताया कि सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा के लिए जिलेभर से करीब ३५-४० टन धातु संग्रहण किया गया था।
१२ जिलों पर एक जोन
एकात्म यात्रा के लिए प्रदेशभर में अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें प्रत्येक १२ जिलों पर एक जोन बनाया गया है। यात्रा के जिला संयोजक रमेशचंद्र धाड़ीवाल के अनुसार ओंकारेश्वर में लगने वाली आदि शंकराचार्य की १०८ फीट की प्रतिमा के लिए १०२ सदस्यीय राज्य स्तरीय समिति बनाई गई है। इसमें प्रत्येक जिले का प्रभार वहां के प्रभारी मंत्री को सौंपा गया है। धार जिले को शामिल करने वाले जोन में बड़वानी, खरगोन, झाबुआ, आलीराजपुर, मंदसौर, नीमच, शाजापुर, रतलाम, सीहोर, आगर, मालवा शामिल हैं। धार जिले में ४ दिन तक यात्रा चलेगी, जिसके तहत बड़वानी जिले से ३० दिसंबर को यात्रा धार में प्रवेश करेगी, जिसका रात्रि विश्राम कुक्षी तहसील के निसरपुर में बताया जा रहा है। यहां से यात्रा आलीराजपुर जिले में चली जाएगी जो दोबारा ५ जनवरी २०१८ को वापस लौटेगी। इसके बाद यात्रा ७ जनवरी को रतलाम जिले के लिए कुच कर जाएगी। धार जिले में यात्रा २०३५ किमी की रहेगी, जिसके लिए स्थानीय प्रशासन को इंतजाम करना हैं। एकात्म यात्रा मप्र के सांस्कृतिक विभाग व मप्र जनअभियान परिषद के तत्वावधान में आयोजित की जा रही है, जिसका पूरा खर्च सरकारी खजाने से होगा।
कलेक्टर ने किया आदेश जारी
एकात्म यात्रा के लिए जिलेभर में होने वाले आयोजन के लिए कलेक्टर श्रीमन शुक्ला ने अपने अधिनस्थ अधिकारियों को आदेश जारी किया है, जिसमें २१ बिंदुओं पर व्यवस्था करने के निर्देश जारी किए गए हैं। यात्रा के प्रचार-प्रसार के लिए दीवारें पोतने से लेकर यात्रा के दौरान आने वाले संतों व कार्यकर्ताओं के ठहरने के इंतजाम के आदेश भी शामिल हैं। आदेश पत्र में स्पष्ट किया गया कि जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण स्तर तक के कार्यक्रमों के अलावा स्कूलों में आयोजित होने वाली स्पर्धाओं व यात्रा के दौरान रात्रि विश्राम स्थल पर शंकराचार्य के जीवन पर आधारित सांस्कृतिक आयोजन के भी आदेश हैं। आदेश में कलेक्टर ने यह भी लिखा है कि शंकराचार्य की प्रतिमा के लिए गांव की मिट्टी के अलावा लोहा, पीतल व तांबा भी एकत्रित किया जाना है, जिसे जनसंवाद स्थल तक ले जाने के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत से एक प्रतिनिधि की नियुक्ति का आदेश जारी किया गया।
आचार संहिता का रोड़ा
धार जिले में स्थानीय निकाय के चुनाव होना है, जिसके लिए आचार संहिता लग जएगी। आचार संहिता के दौरान निकलने वाली यात्रा के लिए स्थानीय प्रशासन किस तरह से इंतजाम करेगा यह बड़ा सवाल है। सूत्रों की मानें को सरकार ने पूरी तैयारी कर आचार संहिता से पूर्व ही कलेक्टरों को यात्रा के इंतजाम के निर्देश दे दिए हैं, जिससे चुनावी तैयारियों पर प्रभाव पड़ रहा है।
निर्देश मिले हैं
एकात्म यात्रा के लिए निर्देश मिले हैं। जनअभियान परिषद के अंतर्गत आयोजन होना है, लेकिन आचार संहिता की स्थिति में चुनाव आयोग को संज्ञान में ले कर ही काम किया जाएगा। जो भी आयोग के निर्देश होंगे उसी हिसाब से यात्रा की व्यवस्थाएं की जाएंगी।
श्रीमन शुक्ला, कलेक्टर, धार

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned