विस चुनाव : धार में कांग्रेस कर रही मेल-मिलाप तो भाजपा शक्ति प्रदर्शन

विस चुनाव : धार में कांग्रेस कर रही मेल-मिलाप तो भाजपा शक्ति प्रदर्शन

Amit S. Mandloi | Publish: Sep, 03 2018 05:06:31 PM (IST) Dhar, Madhya Pradesh, India

‘पत्रिका’ ने जिले के ऐसे 5-5 मतदान केंद्रों का जायजा लिया, जहां 2013 के चुनाव में भाजपा और कांग्रेस को बंपर वोट मिले थे।

धार. चुनावी समर के द्वार पर खड़ी भाजपा के विधायक सार्वजनिक कार्यक्रमों शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, कांग्रेस नेता मेल-मिलाप के जरिए नए सिरे से जमीन तैयार कर रहे हैं। वे हर छोटे-बड़े उत्सवों को राजनीतिक रंग देकर मना रहे हैं। भाजपाई विकास कार्य गिना रहे हैं। कांग्रेस अधूरे वादों को तूल दे रही है। इस बीच ‘पत्रिका’ ने जिले के ऐसे 5-5 मतदान केंद्रों का जायजा लिया, जहां 2013 के चुनाव में भाजपा और कांग्रेस को बंपर वोट मिले थे। इस दौरान व्यापारियों, महिलाओं, युवाओं और नौकरीपेशा सहित करीब 125 लोगों से बात कर हकीकत जानी। उनके प्रतिनिधि कितने खरे उतरे और कितने वादों को पूरा किया। यह तस्वीर खींचने की कोशिश की कि 2018 में इन बूथों पर क्या स्थिति रहेगी।

धार, मनावर, कुक्षी, गंधवानी, सरदारपुर, बदनावर, धरमपुरी विधानसभा के प्रमुख पांच-पांच बूथों के एनालिसिस में सामने आया कि इन मतदान केंद्रों पर अब स्थितियां बदल सकती हैं। जिन बूथों पर सर्वाधिक वोट हासिल करने वाली पार्टी को वहां और अधिक मेहनत करना पड़ सकती है। सरदारपुर विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी रहे प्रताप ग्रेवाल को बूथ क्रमांक एक पर सर्वाधिक 710 वोट हासिल हुए। वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी रहे वेलसिंह भूरिया ने बूथ नंबर 175 में सर्वाधिक 859 वोट प्राप्त किए। इसी तरह बदनावर विधानसभा के बूथ क्रमांक 53 पर कांग्रेस प्रत्याशी राजवर्धनसिंह दत्तीगांव ने 825 वोट हासिल किए तो वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी भाजपा के भंवरसिंह शेखावत ने बूथ क्रमांक 133 पर 784 वोट प्राप्त किए थे। धार विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याशी बालमुकुंद गौतम ने बूथ क्रमांक 193 में 669 वोट प्राप्त किए थे तो वहीं भाजपा की नीना वर्मा ने बूथ 152 पर 795 वोट हासिल किए थे। वहीं धरमपुरी विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी रहे पाचीलाल मेड़ा ने बूथ क्रमांक 87 पर 681 और भाजपा के कालूसिंह ठाकुर ने बूथ क्रमांक 103 पर 755 वोट हासिल किए थे। गंधवानी में कांग्रेस के प्रत्याशी उमंग सिंघार ने बूथ क्रमांक 190 में 770 तथा भाजपा के सरदारसिंह मेड़ा ने बूथ क्रमांक 14 में 831 वोट हासिल किए थे। उधर, कुक्षी विधानसभा के बूथ क्रमांक 1 में कांग्रेस के सुरेंद्रसिंह बघेल ने 863 तथा उनके प्रतिद्वंद्वी भाजपा के मुकामसिंह किराड़े ने बूथ क्रमांक 36 में 659 वोट प्राप्त किए थे। मनावर विधानसभा में कांग्रेस के प्रत्याशी रहे निरंजन डावर ने बूथ क्रमांक 76 पर 649 तथा उनकी प्रतिद्वंद्वी रंजना बघेल ने बूथ क्रमांक 19 पर 688 वोट हासिल किए थे।

स्थानीय मुद्दों पर होंगे दो-दो हाथ

जिले में मनावर, धार, धरमपुरी और बदनावर, गंधवानी ऐसी विधानसभा रही हैं, जहां पानी, बिजली, सडक़ और शिक्षा के क्षेत्र में जीते विधायक सक्रिय रहे। वहीं सरदारपुर में इसकी कमी नजर आई। कुक्षी में भी विधायक स्थानीय मुद्दे पर तो मुखर रहे, लेकिन विकास कार्यों को लेकर कम सक्रिय रहे। इसकी वजह विपक्ष में होने की बताई जा रही है।

जिले के पांच टॉप 5-5 बूथ

1. धरमपुरी विधानसभा
कांग्रेस प्रत्याशी- पाचीलाल मेड़ा
बूथ क्रमांक 87 पर 681
भाजपा - कालूसिंह ठाकुर
बूथ क्रमांक 103 पर 755 वोट

2.गंधवानी विणानसभा
कांग्रेस प्रत्याशी - उमंग सिंघार
बूथ क्रमांक 190 में 770
भाजपा प्रत्याशी - सरदारसिंह मेड़ा
बूथ क्रमांक 14 में 831 वोट

3. धार विधानसभा
कांग्रेस प्रत्याशी - बालमुकुंद गौतम
बूथ क्रमांक 193 में 669 वोट
भाजपा प्रत्याशी - नीना वर्मा
बूथ क्रमांक 152 पर 795 वोट

4. कुक्षी विधानसभा
कांग्रेस प्रत्याशी - सुरेंद्रसिंह बघेल
बूथ क्रमांक 1 में 863
भाजपा प्रत्याशी - मुकामसिंह किराड़े
बूथ क्रमांक 36 में 659 वोट

5.मनावर विधानसभा
कांग्रेस के प्रत्याशी - निरंजन डावर
बूथ क्रमांक 76 पर 649
भाजपा प्रत्याशी - रंजना बघेल
बूथ क्रमांक 19 पर 688 वोट।, जहां भाजपा
और कांग्रेस को सर्वाधिक वोट मिले

जहां माइनस वहां कैसे आगे रहें, पर मंथन

हर बूथ पर 20 से 25 लोगों की टोली तैनात रहती है। हम जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं। कहां क्या-क्या समस्याएं हैं। उनकी जमीनी हकीकत तलाश रहे हैं। जहां हम माइनस में थे वहां कैसे आगे बढ़ें और जहां अच्छी स्थिति है वहां कैसे और बेहतर हों। इस पर मंथन हो रहा है। जनता का भरोसा हमारे साथ नजर आता है।

डॉ. राज बर्फा, भाजपा, जिलाध्यक्ष, धार

जनता का मन बदलने लगा

हार के बाद भी जनता से दूर नहीं हुए। जनता के सुख-दुख में हमेशा साथ खड़े रहते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सत्ता में कुक्षी के विधायक की भले ही भागीदारी न हो, लेकिन प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने इस क्षेत्र के साथ बिना भेदभाव के विकास कार्यों पर स्वीकृति देकर विधानसभा का संपूर्ण विकास करवाया। कुक्षी से रोड्स की कनेक्टिविटी बेहतर हुई है। नई मंडी और सिविल अस्पताल जैसी बड़ी सुविधाओं से क्षेत्र विकसित हुआ है। लोगों को मूलभूत सुविधाओं के लिए तरसना नहीं पड़ा है। विधायक ने कुक्षी के विकास को लेकर कोई प्रयास किए हो ध्यान नहीं आता। इतना सब कुछ होने के बाद जनता का मन बदलने लगा है और वह भी विकास के साथ इस बार भाजपा को जिताने के मूड में है।

मुकामसिंह किराड़े, भाजपा नेता

अपने कार्यकाल पर संतोष है, लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी है। पूरे समय जनता के बीच रहकर सुख-दुख में भागीदार बना और समस्याओं के लिए सरकार को जमकर घेरा भी लगातार प्रयासों से विकास कार्यों को गति भी मिली और क्षेत्र की जनता के विश्वास को बनाए भी रखा। इस बार वे खुद का रिकार्ड जीत का तोड़ेंगे।

-सुरेंद्रसिंह बघेल, कांग्रेस नेता

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned