पुलिस पर एक पक्षीय कार्रवाई का आरोप

अभिमत, कथन व दस्तावेज देख दर्ज किया प्रकरण: एसडीओपी

धामनोद/धार. पुलिस द्वारा गुरुवार को हरिराम पाटीदार के खिलाफ जैसे ही धोखाधड़ी व अन्य मामलों का प्रकरण दर्ज हुआ, सूचना मिलते ही पाटीदार अपने सहयोगियों के साथ थाने पहुंचे। करीब 2 घंटे तक एसडीओपी व थाना प्रभारी से रिपोर्ट के संबंध में चर्चा हुई। बिना सूचना के धोखाधड़ी की धारा से सहयोगी नाराज दिखे। मौजूद लोगों ने इस कार्रवाई को एक पक्षीय बताया। मामले को लेकर हरिराम पाटीदार व सहयोगी शुक्रवार को एसपी से मिलने धार पहुंचे।
एसपी से मिले पाटीदार
इस मामले में हरिराम पाटीदार ने शुक्रवार शाम एसपी बीके सिंह से मुलाकात कर बताया कि एक पक्षीय बिना आधार की कार्रवाई की गई है। इस दौरान पाटीदार ने जमीन से संबंधित दस्तावेज दिखाने के साथ विभिन्न न्यायालयों से हुए निर्णय व हाईकोर्ट से मिले स्टे की प्रतियां भी दिखाई। पाटीदार ने एसपी को बताया कि मामला पहले ही एडीजे कोर्ट में लंबित है। ऐसे में दोबारा कोई भी कार्रवाई षडयंत्र लग रही है।
इधर एसडीओपी सीताराम अवास्या ने बताया कि अभिमत, कथन व प्रस्तुत दस्तावेज के आधार पर हरिराम पाटीदार के खिलाफ प्रकरण दर्ज हुआ है। हालाकि अवास्या ने दोनों पक्ष सुनकर वैधानिक कार्रवाई की बात भी कही।
क्या था मामला
कैलाश पिता छोगालाल जाट निवासी तलावडा ने पुलिस को दस्तावेज प्रस्तुत कर हरिराम पाटीदार के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जी अनुबंध की शिकायत की है। दरअसल वर्ष 2012 में आईसीआईसी बैंक से निलामी टेंडर 9.5 बीघा के लिए 3 करोड़ रुपए में लेन-देन हुआ। इस मामले में कैलाश जाट द्वारा 1 करोड़ 77 लाख हरि पाटीदार से लिए गए। इस पेटे पाटीदार को 10 स्टॉम्प 100 रुपए के भी दिए गए थे। लेन-देन चेक से होना बताया गया। पुलिस ने कैलाश जाट द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज के आधार पर हरिराम पाटीदार के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है।
कार्यालय पर चस्पा किया आवेदन
धार. भोजशाला की मुक्ति और उसके गौरव की पुर्नस्थापना के लिए संकल्पित भोज उत्सव समिति व हिंदू जागरण मंच के पदाधिकारी शुक्रवार को मांडू पहुंचे। वहां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अधिकारी से मुलाकात करने का प्रयास किया गया। जब वे नहीं मिले तो समिति व मंच के पदाधिकारियों ने अपना आवेदन नउनके कार्यालय पर चस्पा कर दिया।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned