आंखों के मरीज बैरंग ना लौटे, दो घंटे सेवाएं दे रहे सीएमएचओ

जिला अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ के ट्रेनिंग पर होने से परेशान थे मरीज, दो घंटे की सेवा से फौरी राहत

By: atul porwal

Updated: 07 Jul 2019, 11:55 AM IST

धार. पिछले कुछ दिनों से जिला अस्पताल में नेत्र रोग विशेषज्ञ की कमी मरीजों को परेशान कर रही थी। सीएमएचओ डॉ. एसके सरल ने कमान संभाली और ओपीडी में मरीजों की जांच शुरू की। हालांकि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी होने के नाते उनके पास जिले भर के स्वास्थ्य केंद्रों और अस्पतालों की देखरेख का जिम्मा भी है, जिसके चलते वे ओपीडी में केवल दो घंटे ही सेवा दे पा रहे हैं। लेकिन इससे फौरी राहत महसूस की जा रही है। पिछले 6 दिनों में 229 आंखों के मरीज जिला अस्पताल पहुंचे, जिनमें से आधे से अधिक मरीजों की जांच डॉ. सरल ने की। हालांकि बाहर जाने के कारण शनिवार को सीएमएचओ ओपीडी में नहीं पहुंचे। गौरतलब है कि जिला अस्पताल में पदस्थ नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. सौरभ बौरासी दो माह के लिए ट्रेनिंग पर चित्रकुट गए हैं, जिससे नेत्र मरीजों की देखरेख के लिए डॉक्टर की आवश्यकता महसूस की जा रही थी।

सुबह 10 से 12
हालांकि जिला अस्पताल में ओपीडी सुबह 9 बजे शुरू हो जाती है, लेकिन डॉ. सरल 10 बजे से मरीज देखना शुरू करते हैं। बता रहे हैं कि मरीजों की भीड़ का समय 10 से 12 बजे तक रहता है, जिस दरमिशन वे अपनी सेवाएं दे रहे हैं। दोपहर १२ बजे बाद डॉ. सरल चले जाते हैं, जिसके बाद सहायक के भरोसे काम चल रहा है। ओपीडी का समय सुबह 9 से शाम 4 बजे तक का है, जिसमें दोपहर 1.30 बजे से 2.15 बजे तक लंच का समय होता है। इससे ओपीडी पहले दो समय में बंटी थी, जिसमें सुबह 8 से ोपहर 1 बजे तक तथा शाम 5 से 6 बजे तक मरीजों को देखा जाता था। हालांकि इमरजेंसी में एक डॉक्टर पूरे समय उपलब्ध रहते हैं, लेकिन बीमारी की जांच पड़ताल के लिए ओपीडी में ही सुविधा मिलती है। इमरजेंसी में दुर्घटना या आकस्मिक बीमारी का उपचार होता है।

तारीख वार आंख के मरीज
1 जुलाई 51 मरीज
2 जुलाई 51 मरीज
3 जुलाई 33 मरीज
4 जुलाई 37 मरीज
5 जुलाई 18 मरीज
6 जुलाई 20 मरीज

atul porwal Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned