बिल जमा करने के बाद भी बिजली कर्मचारियों ने किसान से की मारपीट

सभी ठेकेदार के हैं कर्मचारी, खुद ही बनाते हैं पंचनामा और करते हैं कार्रवाई

By: amit mandloi

Published: 25 Nov 2018, 11:54 PM IST

धार.स्थायी कनेक्शन होने के बाद भी तार और स्टार्टर निकाल कर ले गए, बिजली का पूरा बिल भी भर दिया। फिर भी मारपीट की, बिल दिखाने के बाद भी नहीं सुनी। यह पीड़ा किसान नारायण ने बताई।
रविवार को जिला अस्पताल में इलाज करवा रहे ग्राम बिल्लौद के निवासी किसान नारायण तोलाराम ने बताया कि तलाई स्थित बिजली ऑफिस में सात हजार का बिल भरकर आ गया था। बाद में बिल दिखाया और कहा कि यह मेरा बिल है, मेरा सामान वापस दे दो। वहीं कर्मचारी कागज पर साइन करवाने लगे। मैंने कहा पहले समान दो फिर साइन करूंगा। इस पर मारपीट चालू कर दी। ग्रिड के सुपरवाइजर ने कहा कि मारो इसे । मुझे गाड़ी में बैठाकर सादलपुर थाने ले गए। वहीं कर्मचारियों ने आरोप लगाए के यह केश काउंटर से चोरी कर रहा था। मुझ पर झूठे आरोप लगाए गए। घर आकर उपचार गांव के डॉक्टर से करवाया। स्वास्थ सुधार न होने पर जिला अस्पताल में लाया गया। वहीं जब पत्रिका ने जानकारी निकाली तो तलाई ग्रिड में 20 कर्मचारी काम करते वे सभी ठेकेदार के है। ये स्वयं ही बिना पंचनाम बनाए कार्रवाई करते है। वहीं पहले भी इस तरह की कई लोगों से हरकत कर चुके है। कई बार लोगों ने शिकायत की थी, लेकिन किसी भी जिम्मेदार अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया। मामले में सुपर वाइजर सुनील मंडलोई का कहना है कि वह ग्रिड पर आया और केश काउंटर के पास खड़ा होकर गाली देने लगा। मेरे पैसे वापस दो, मना किया तो केश काउंटर में हाथ डाला तो हमने बाहर खींचा और समझाया तो नहीं माना। हम उसके खेत गए थे जहां दो मोटर चल रहे थे, एक का स्थायी कनेक्शन था व उसका भी बिल बाकी था। उसे कहा कि बिल जमा कर दो और अवैध जो मोटर चला रहा था उसका सामान हम ग्रिड पर लेकर आ गए। 22 तारीख को इसने बिल जमा करवा दिया और अवैध स्टार्टर मांगने लगा। जिस पर यह गालियां देने लगा और मारपीट चालू कर दी। इसलिए हम इसे थाने ले गए थे।

amit mandloi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned