डॉक्टर के पास से मिले खतरनाक इंजेक्शन, कतार में थे 250 मरीज, अधिकारियों से बोला- 4 घंटे में छूट जाऊंगा

डॉक्टर के इस इंजेक्शन धीरे-धीरे खराब होने लगता है लीवर और किडनी

धार/ मध्यप्रदेश के धार जिले में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक फर्जी डॉक्टर के ऊपर कार्रवाई की है। उस डॉक्टर के क्लिनिक को सील कर दिया है। उसके पास से ऐसी-ऐसी दवाईयां मिली हैं, जिसे कोई एमबीबीएस डॉक्टर भी नहीं लिखा सकता है। साथ ही कुछ ऐसे इंजेक्शन भी बरामद हुए हैं जिसे लगाने के बाद धीरे-धीरे किडनी और लीवर खराब होने लगता है। वहीं, कार्रवाई के लिए गए अधिकारियों को फर्जी डॉक्टर धमकाता भी रहा।

दरअसल, धार में पिछले पच्चीस साल से फर्जी डॉ महेश माहेश्वरी एक क्लिनिक चला रहा था। जिसका नाम भी माहेश्वरी क्लिनिक ही रखा था। उसके क्लिनिक पर बुधवार को जब छापेमारी हुई तो एलोपैथी के साथ आयुर्वेदिक दवाईयां भी मिली। स्वास्थ्य विभाग के अफसर जब वहां कार्रवाई के लिए पहुंचे तो क्लिनिक पर इलाज के लिए 250 मरीजों का तांता लगा हुआ था। जो तत्काल राहत पाने के चक्कर में माहेश्वरी के जाल में फंसे हुए थे।

चार घंटे तक चली कार्रवाई
बुधवार को गुणावद में आपकी सरकार आपके द्वार पहुंची थी, जिस दौरान कलेक्टर की जानकारी में आते ही उनके निर्देशन में छापामार कार्रवाई को अंजाम दिया गया। सीएम एमएचओ डॉ सरल के अनुसार डॉक्टर के यहां कार्रवाई करने में चार घंटे लगे। माहेश्वरी क्लिनिक से हाथों से बनाई हुई दवाईयां जब्त की गई, जो एलोपैथी और आयुर्वेदिक दवाईयों का मिश्रण कर बनाई गई है। फर्जी डॉक्टर एलोपैथिक दवाईयों की पैक बोतलों को खोलकर छोटी-छोटी शिशियां बनाता। उनमें कुछ और दवाओं को मिश्रण कर मरीजों को देता था।

5_7.jpg

जल्द हो जाती थी मौत
माहेश्वरी क्लिनिक में इलाज कराने वाले लोगों को राहत तो तुरंत मिल जाती थी। लेकिन गलत दवाओं की वजह से इंसान शारीरिक रूप से धीरे-धीरे कमजोर होते गए और समय से पहले उनकी मौत हो गई। यहां पहले भी कई बार कार्रवाई हुई लेकिन कुछ लोगों के साथ सांठगांठ की वजह से यह फर्जी डॉक्टर बचने में कामयाब रहा। छापेमारी के दौरान माहेश्वरी क्लिनिक से लगभग आधा ट्रक दवाईयां जब्त की गई हैं। यह कार्रवाई दोपहर एक बजे शुरू हुई और शाम पांच बजे तक चली।

61.jpg

स्टेरॉयड का लगाता था इंजेक्शन
यह डॉक्टर क्लिनिक में आने वाले लोगों के दो से ढाई सौ रुपये का फीस लेता था। कुल्हे, घुटने का दर्द और सूजन में इस्तेमाल होने वाले स्टेरॉयड का इंजेक्शन भी यह मरीजों को लगा देता था। जिससे कि किडनी और लीवर फेल होने का खतरा रहता है। कई लोग इसके शिकार भी हुए। इस इंजेक्शन की वजह से लोगों की धीरे-धीरे मौत हो जाती थी। वहीं, डॉक्टर के क्लिनिक से हार्मोंस और गर्भपात की गोलियां भी मिलीं, जिसे केवल एमबीबीएस डॉक्टर खाने की सलाह देते हैं।

71.jpg

अफसरों को देता रहा धमकी
कार्रवाई के लिए गए अफसरों ने कहा कि डॉ माहेश्वरी करीब पच्चीस सालों से यहां क्लिनिक चल रहा था। स्वास्थ्य विभाग को जानकारी मिली थी कि यह बच्चों का इलाज बिना कोई डिग्री के कर रहा था। इसके पास से कुछ नशे की गोलियां और प्रतिबंधित दवाएं भी मिली हैं। इसके क्लिनिक को सील कर दिया गया है। अधिकारी ने कहा कि कार्रवाई के दौरान डॉक्टर कह रहा था कि ऐसी कार्रवाई तो मेरे ऊपर कई बार हुई है। लेकिन एक फोन कॉल से चार घंटे बाद दुकान खुल जाती थी। लेकिन मैंने कहा कि यह दुकान परमानेंट तुम्हारी बंद होगी।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned