‘खुले में शौच के लिए जावा में लज्जा तो आवे पर शौचालय नहीं बनिया तो कई करा साहब’

तहसील की कई ग्राम पंचायतों के गरीबों के घरों में नहीं बने शौचालय

By: shyam awasthi

Published: 01 Mar 2021, 01:27 AM IST

रिंगनोद. सरदारपुर जनपद पंचायत के अधिकारियों द्वारा कागजों में ही पूरी तहसील की ग्राम पंचायतों को खुले में शौच मुक्त बताकर ओडीएफ घोषित कर दिया । ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीण खुले में शौच कर रहे हैं दूसरी ओर सरदारपुर जनपद पंचायत और ग्राम पंचायतों द्वारा शौचालयों निर्माण में घोर लापरवाही बरती गई जिसके नतीजन कई पंचायतों के गरीब परिवार के लोगों के घरों में शौचालय नहीं है। जिसके कारण ने खुले में शौच के लिए जाना पड़ रहा है और अपने घर के बाहर प्लास्टिक,झाडिय़ों की दीवार बनाकर स्नान आदि कार्य करना पड़ रहे है । पत्रिका टीम सरदारपुर तहसील की कई ग्राम पंचायतों में पहुंची तो वहां मौजूद महिला शौचालय नहीं बनने की पीड़ा बताते हुए गुमानपुरा पंचायत की महिला पिंकीबाई पति बसंत और बिछिया पंचायत की मीरा बाई पति सीताराम ने बताया कि खुले में शौच के लिए जावा में लज्जा तो आवे पर शौचालय नहीं बनिया तो कई करा साहब...हम गरीबों की कोई नहीं सुने ना सरपंच सचिव ना अधिकारी काई करा। सरदारपुर जनपद पंचायत के अधिकारियों द्वारा ओडीएफ घोषित कर भले ही खानापूर्ति कर दी गई होगी लेकिन सरदारपुर जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायतों में करोड़ों खर्च करने के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रमुख मिशन स्वच्छ भारत अभियान के तहत बनाए गए शौचालयों में बड़ी ही गड़बड़ी और लापरवाही बरती गई है जिसके कारण कई गरीब परिवारों के घर में आज तक शौचालय नहीं बन पाए हैं तो कई ग्राम पंचायतों में अधूरे शौचालय तो, कई में घटिया शौचालयों निर्माण किए हुए हैं जो कि कुछ ही समय में बदहाल और जर्जर हो गए हैं। ग्रामीणों को खुले में शौच के लिए जाना पड़ रहा है।

shyam awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned