नई पुलिस चौकी के लिए जमीन स्वीकृत, निर्माण नहीं हुआ शुरू

ग्रामीणों का कहना है रिपोर्ट लिखवाने जाना पड़ता है धामनोद

By: रमेश वैद्य

Published: 07 Jun 2018, 01:00 AM IST

खलघाट. नगर में नई पुलिस चौकी भवन की जमीन स्वीकृत होने के बाद भी निर्माण शुरू नही हो पाया है। खलघाट के चौराहे पर लोहे के टीन शेड में बना पुलिस सहायता केंद्र बरसों से स्थित है। इसी में बैठकर थाना धामनोद के पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी करते हैं। उल्लेखनीय है कि खलघाट एवं आसपास का क्षेत्रफल खरगोन की सीमा से लेकर बड़े क्षेत्र को जोड़ता है। यहां स्थाई पुलिस चौकी बनना बेहद जरूरी है। बीच चौराहे में रोड पर स्थित इस सहायता केंद्र में पुलिस जवान गर्मी में परेशान होते हैं। यहां तक कि चौकी के भीतर बैठने के लिए मात्र एक या दो पुलिसकर्मी की ही जगह रहती है। ऐसी स्थिति में रात में ड्यूटी संभाल रहे पुलिसकर्मी परेशान होते हैं। जानकारी के अनुसार हाइवे पर विद्युत मंडल के पास चौकी भवन की जमीन स्वीकृत है, लेकिन इसका काम शुरू नहीं हो पा रहा है।

स्थायी पुलिस चौकी बने तो मिले राहत
गर्मी में पुलिसकर्मी इस सहायता केंद्र के भीतर लोहे की टीन शेड में बैठे रहते हैं। जिससे वह परेशान होते हैं। पुलिसकर्मियों के अनुसार यदि स्थाई पुलिस चौकी बन जाती है तो एक हद तक इस समस्या से निजात मिलेगी। अभी धामनोद थाना अंतर्गत केवल एक चौकी दूधी में स्थित है।

अपराधों पर लगेगा अंकुश
यदि नई स्वीकृत जमीन पर चौकी का निर्माण शीघ्र शुरू हो जाता है तो अपराधों पर अंकुश भी लगेगा। गौरतलब है कि नया रोड निर्माण होने के बाद से ही यातायात दोनों तरफ से बढ़ा है। जहां पर पुरानी पुलिस अस्थाई चौकी है। उस जगह से सिर्फ इंदौर से आने वाले वाहनों को ही देख पाते हैं, जबकि महाराष्ट्र से इंदौर की ओर जाने वाले वाहन हाइवे से गुजर जाते हैं। जिस पर पुलिस की नजर नहीं पहुंच पाती।

बड़ा क्षेत्रफल है खलघाट का
खलघाट व्यवसायिक दृष्टि से महत्वपूर्ण होकर समीप निमरानी औद्योगिक नगरी के साथ-साथ करीब 50 से अधिक गांव को जोड़ता है। इसलिए खलघाट के आसपास का क्षेत्रफल भी अधिक है। स्थाई चौकी बनने से ग्रामीणों को धामनोद तक अपनी समस्या लेकर नहीं जाना पड़ेगा।

चार मार्गों का प्रमुख मध्य केंद्र खलघाट
खलघाट चौराहा चार प्रमुख मार्गों को भी जोड़ता है। यहां से गुजरात के लिए मनावर होकर आगंतुक जाते हैं। वहीं महाराष्ट्र के लिए भी इसी मार्ग से दक्षिण की ओर जाते हैं। पूर्व में जाने पर यह मार्ग खरगोन की ओर आगे जाकर कसरावद फाटे से जाता है। वहीं दक्षिण में इंदौर और अन्य राज्यों की ओर जाने वाला एकमात्र चौराहा माना जाता है। यहां पर पुलिस चौकी बनने से आगंतुकों की भी परेशानी कम होगी।

शासन को प्रस्ताव भेजा है। प्रस्ताव स्वीकृत होते ही चौकी का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। कार्य को शीघ्र गति दी जाएगी।

-बीरेंद्रकुमारसिंह, एसपी, धार

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned