अनारद आंगनवाड़ी में न लाइट, न ही पानी

विभाग की उपेक्षा से बच्चे अंधेरे में बैठने को विवश, जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

धार. जिला मुख्यालय से १० किमी दूर स्थित ग्राम अनारद में ३० लाख रुपए की लागत से आंगनवाड़ी भवन सह बैठक कक्ष बनाया गया था। इस भवन का निर्माण वर्ष २०१४ में किया गया था। उस समय से लेकर अब तक यहां पर बिजली और पानी की व्यवस्था नहीं हो सकी। बताया जा रहा है कि आंगनवाड़ी भवन का निर्माण ग्रामीण यांत्रिकी सेवा (आरईएस) द्वारा किया गया था और आरईएस ने इससे बनाने के लिए कार्य एजेंसी उमेश शर्मा को दिया था। निर्माण एजेंसी ने यहां पर बिजली और पानी के उचित व्यवस्था नहीं की। ग्रामीणों ने बताया कि यह 28 आंगनवाड़ी केंद्र लगते हैं और यहीं पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सुपरवायजरों की बैठक भी होती है।
शिकायत भी की : बताया जा रहा है कि विगत तीन सालों से आंगनवाड़ी सह बैठक कक्ष में बिजली की व्यवस्था नहीं है। इसके चलते यहां पर कई बार शिकायत भी की गई। वहीं जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा भवन में बिजली व्यवस्था की शिकायत को अनसुना किया जा रहा है। ग्राम अनारद के आंनगवाड़ी सह बैठक कक्ष में नियमित रूप से आंगनवाड़ी संचालित होती है। इसमें अनारद ग्राम के ५० से अधिक बच्चे नियमित रूप से आते हैं। ये बच्चे इस भवन में अंधेरे में बैठे रहते हैं।
बारिश में आती है समस्या
बताया जा रहा है कि बैठक कक्ष में ४ रूम, 1 हॉल, किचन और बाथरूम बनाए गए हैं। यहां पर निर्माण एजेंसी ने सभी कक्षों में लाइट कनेक्शन तो दे दिए हैं, लेकिन बिजली कनेक्शन नहीं होने के चलते यहां पर अंधेरा रहता है। यहां सबसे ज्यादा दिक्कत बारिश के दिनों में आती है। गत दिनों ग्राम पंचायत द्वारा बोरिंग करवाया गया, लेकिन अभी तक यहां पर बोरिंग में मशीन नहीं डाली गई। सूत्रों ने बताया कि जब भी यहां पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सुपरवायजरों की बैठक होती है तो पानी के लिए ग्राम की तरफ रूख करना पड़ता है।
व्यवस्था करवाते हैं
ग्राम अनारद में बिजली और पानी की व्यवस्था करवाई जाएगी। इस मामले को जल्द दिखवाता हूं और यहां की कमियों को दूर करने के लिए आदेश भी देता हूं।
एसके पंवार, कार्यपालन यंत्री, आरईएस, धार

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned