बालिकाओं को इंसाफ दिलाने सड़क पर उतरे सैकड़ों समाज के लोग

तख्तियां थाम कलेक्टोरेट पहुंचे, एसपी के समक्ष उठाए पुलिस जांच पर सवाल, गत दिनों जिले के ग्राम नरावला में कुएं में मिली थी दो बच्चियों के शव

By: vishal yadav

Published: 06 Mar 2021, 11:17 AM IST

बड़वानी. जिले में गत दिनों दो बच्यिों के शव कुएं से पाए गए थे। इस मामले में जांच की मांग को लेकर आदिवासी संगठनों के तत्वावधान में सैकड़ों लोग सड़कों पर उतरे और विरोध जताया। इस दौरान कलेक्टोरेट पहुंचकर एसपी निमिष अग्रवाल के ज्ञापन सौंपा। उल्लेखनीय है कि 27 फरवरी की सुबह ग्राम नरावला में दो बालिकाओं के शव गांव के समीप कुएं में पाए गए थे। इसके बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच विवेचना में लिया है। वहीं इस मामले में आदिवासी संगठनों ने शुक्रवार को ज्ञापन सौंपकर निष्पक्ष जांच की मांग की।
शुक्रवार दोपहर एक बजे आदिवासी संगठनों द्वारा कारंजा चौराहा से हाथों में तख्तियां थाम कलेक्टोरट तक रैली निकाली। यहां कलेक्टोरट गेट पर ज्ञापन लेने के लिए नायब तहसीलदार जगदीश बिलगावे पहुंचे। इस पर समाजजनों ने एसपी को बुलाने की मांग की। इसके बाद एएसपी आरडी प्रजापति पहुंचे, लेकिन उन्हें भी ज्ञापन देने से इंकार कर दिया। करीब एक घंटा कलेक्टोरेट गेट पर बैठे रहने और नारेबाजी के बाद एसपी निमिष अग्रवाल पहुंचे और ज्ञापन लेकर निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। समाज के सुुमेर बड़ोले व सीमा वास्कले ने बताया कि 26 फरवरी की सुबह नरावला में कुएं में मिले दो बच्चियों के शव से प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि उनके साथ दुष्कर्म व हत्या का अपराध हुआ होगा। वहीं घटना के बाद आठ दिन बाद भी पुलिस जांच में कोई स्पष्ट कारण नहीं सामने आ सका है।
अब तक पुलिस के हाथ है खाली
उन्होंने कहा कि शासन द्वारा बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ का संदेश दिया जाता है, लेकिन यहां आदिवासी बालिकाओं की हत्या के बाद पुलिस जांच में ढिलाई बरत रही है। अब तक मामले में पुलिस के हाथ खाली है। ज्ञापन में घटना की उच्च स्तरीय जांच करने, आरोपितों को कड़ी सजा देने, पीडि़त परिवार को एक करोड़ रुपए आर्थिक सहायता प्रदान करने की मांग की। साथ ही जल्द ही मामले का खुलासा नहीं होने की स्थिति में प्रदेश स्तरीय आंदोलन शुरु करने की बात कही।

Show More
vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned