पुुरातन धरोहर को सहेजना और अगली पीढ़ी का सौंपना हमारी नैतिक जिम्मेदारी

पुुरातन धरोहर को सहेजना और अगली पीढ़ी का सौंपना हमारी नैतिक जिम्मेदारी
dhar

Amit S mandloi | Updated: 20 Jul 2019, 11:55:36 AM (IST) Dhar, Dhar, Madhya Pradesh, India

मंदिर पुरातन होकर लोगों की आस्था का केंद्र है

बदनावर.
नगर की पुरातन धरोहर को सहेजना और अगली पीढ़ी को सौंपना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। इसमें शासन के जवाबदार विभाग की भी महती जिम्मेदारी है कि वे अपने अधीन पुरातन धरोहर की देखभाल करे, जिम्मेदारी का निर्वहन करे और शहर को उसके सही रखरखाव की सौगात प्रदान करे। लेकिन दस साल गुजर जाए और जवाबदार धरोहर के प्रति उदासीन रवैया अपनाए तो इससे बडक़र दुर्भाग्य की बात नही हो सकती है। यह बात श्री बैजनाथ महादेव मंदिर के पत्थरों में लेपन के अभाव में हो रहे क्षरण को लेकर परातत्व विभाग द्वारा की जा रही कोताही को लेकर नगर के संभ्रांत वर्ग के लोगों ने कही।

मंदिर पुरातन होकर लोगों की आस्था का केंद्र है। लेपन के अभाव में मंदिर के पत्थरों में क्षरण चिंता का विषय है। समय रहते इसके लेपन का इंतजाम नहीं किया तो धीमे धीमे यह जर्जर होने लगेगा।

जीपीसिंह अध्यक्ष श्री वैष्णव पंच जीर्णोद्धार समिति

बैजनाथ महादेव मंदिर पुरातत्व विभाग के अइधीन है। दस सालो में भी लेपन की कार्रवाई के अभाव में पत्थरों में क्षरण हो रहा है। कितने दु:ख की बात है कि लोगों की आस्था के केंद्र के प्रति लापरवाही बरती जाकर पुरातन धरोहर के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जवाबदारो का दायित्व बनता है कि इसकी सुध ले।
दिनेशसिंह भदौरिया वरिष्ठ अभिभाषक

श्री बैजनाथ हमारी आस्था से जुड़ा है पुरातन स्थल लापरवाही के कारण दम तौड़े यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लोग तो अपना काम कर रहे है लेकिन केमिकल से लेपन तो पुरातत्व विभाग की कराएगा। तो फिर लापरवाही क्यों। जवाबदार ध्यान दे अन्यथा भक्तजनों को आंदोलन की राह अपनाना होगी।

यशपालसिंह सिसौदिया अध्यक्ष गौर रक्षा सेवा संस्थान

श्री बैजनाथ मंदिर नगर का श्री है। हर शुभ कार्य की शुरूआत यही से होती है लेकिन लेपन के अभाव में पत्थरों में क्षरण इसके पुरातन वैभव को खराब कर रहा है। समय रहते नहीं जागे तो अगली पीढ़ी को पुरातन सामग्री कैसे सौंप पाएंगे। केमिकल से लेपन का कार्य पुरातत्व विभाग को शीघ्र शुरू करना चाहिए।

राधिका सोनी समाज सेविका
ंपत्थरों में क्षरण जारी हे लेकिन पुरातत्व विभाग 10 सालों से इस पर लेपन नहीं करा सका। यह शर्म का विषय है। मंदिर शहर के प्रत्येक व्यक्ति की आस्था का केंद्र है। पुरातन धरोहर के प्रति किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। विभाग यदि यह कार्य नहीं करा सकता तो लोगों को इसके बारे में प्रशिक्षण देकर तैयार करे।
रानी वर्मा समाजसेविका

श्री बैजनाथ मंदिर में हमारी आस्था बसी है। पुरातन धरोहर के साथ किसी प्रकार की लापरवाही यह शहर बर्दाश्त नहीं करेगा। केमिकल से लेपन का कार्य शीघ्र प्रारंभ किया जाना चाहिए ताकि पत्थरो में क्षरण रूक सके और पुरातन धरोहर में किसी प्रकार का कोई नुकसान न हो। रेखा अग्रवाल समाज सेविका

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned