डेढ़ माह बाद हाइवे की सुध लेने पहुंचे एसपी, कलेक्टर

मजदूरों का घर वापसी का दर्द....

By: shyam awasthi

Published: 12 May 2020, 11:07 PM IST

गुजरी. हाइवे से पैदल जा रहे मजदूरों का सिलसिला लगातार जारी है। महाराष्ट्र से लोग बायपास होते हुए अपने-अपने राज्यों की ओर जा रहे हैं। डेढ़ माह से ये सिलसिला बना हुआ है। डेढ़ महीने बाद कलेक्टर श्रीकांत बनोठ और एसपी आदित्यप्रतापसिंह यहां पहुंचे। अधिकारियों की खबर पाकर अभी तक बायपास से गुजर रहे मजदूरों की पीड़ा से अनजान एसडीएम दिव्या पटेल भी पहुंच गई।
यहां गुजरात की तरफ से भी मजदूर साइकिल से यूपी के लिए बड़ी संख्या में निकल रहे हंै । एक ट्रेलर में जान जोखिम में डालकर अगले पिछले हिस्से पर बैठे मजदूरों से बात की तो इन्होंने कहा कि जब मरना ही है तो घर जाकर मरेंगे । पैदल जा रहे मजदूरों में कुछ लोग परिवार के साथ हैं। इसमें महिलाओं के हाथों में मासूम बच्चे भी शामिल है । पैदल चलकर इनके पैर जवाब दे चुके ंथकान की वजह से अब हरेक कदम भारी पड़ रहा है लेकिन घर पहुंचने की आस इन्हें चलाए हुए है । रास्ते में कोई सामाजिक संगठन भोजन व पानी दे दे तो ठीक नहीं तो यह पीठ पर बैग टांग चले जा रहे हैं। महाराष्ट्र के पालघर की तरफ से आए यूपी के इलाहबाद, बांदा, समस्तीपुर आदि जिले के लोगों ने बताया कि वह नासिक, नवी मुम्बई, भिवंडी की ओर से पैदल ही घर जा रहे हैं । महाराष्ट्र सीमा के बाद एमपी में कई लोगों ने मदद की । कई लोगों की चप्पल व जूते घिस चुके थे जिससे चलना भारी पड़ रहा था । कुछ लोग पैरों में पड़े छालों के दर्द से परेशान दिखे, लेकिन वह इस दर्द को दरकिनार कर चले जा रहे थे।
साधन नहीं तो पैदल ही चल दिए
यूपी के एटा जिले के निवासी सुखदेव करीब 15 साल से परिवार के साथ मुम्बई के पालघर में किराए के मकान में रहकर पानी पतासे बेचकर परिवार का भरण पोषण कर रहे थे । लॉक डाउन के बाद से धंधा बंद हो गया। कमरे के किराए के लिए पैसे तक नहीं बचे । मकान मालिक ने कमरा खाली करवा दिया। जब कोई चारा नहीं बचा तो ग्रहस्थी का सामान लेकर परिवार के साथ पैदल ही अपने घर के लिए चल दिए । सुखदेव ने बताया कि लॉकडाउन लंबा होने से भूखे मरने की नौबत आ गई थी। इससे तो अपने घर वह कोई छोटा-मोटा काम कर परिवार को पाल लेंगे । जो बचत थी वह लॉक डाउन के बीच खर्च हो गई। कहीं से कोई मदद नही मिली तो वह घर जाना ही बेहतर समझा ।
महीनों बाद सुध लेने पहुंचे एसपी कलेक्टर
हाइवे से करीब डेढ माह से राहगीरों का भूखे-प्यासे पैदल आना.जाना जारी है । इन्हें भोजन व ठंडा पानी सामाजिक संगठन उपलब्ध करा रहे हैं । सोमवार को हाइवे की सुध लेने कलेक्टर श्रीकांत बनोठ, एसपी आदित्य प्रताप, अपर कलेक्टर शैलेन्द्र सोलंकी पहुंचे । उच्च अधिकारियों की आने की खबर लगते ही एसडीएम दिव्या पटेल भी तत्काल पहुंच गई।

shyam awasthi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned