संस्कृति को सुरक्षित रखना ही धर्म है: उपाध्याय

गरीब को खिलाना, सहयोग देना धर्म का आचरण हो सकता है, लेकिन धर्मान्तरण को रोकना धर्म रक्षा है

बदनावर.हमारे देश में शस्त्र की उतनी कीमत है, जितनी शास्त्र की। गोवंश के साथ, लोग एवं धर्म की रक्षा होनी चाहिए तभी धर्म हमारी रक्षा कर सकेगा। मंदिर, पूजा, आरती यह धर्म का आचरण है, लेकिन हमारी संस्कृति को सुरक्षित रखने के प्रयास ही धर्म रक्षा है। गरीब को खिलाना, सहयोग देना धर्म का आचरण हो सकता है, लेकिन धर्मान्तरण को रोकना धर्म रक्षा है। राम मंदिर निर्माण के लिए शौर्य यात्राएं आयोजित हो रही है। यह बात रविवार को विहिप एवं बजरंग दल द्वारा आयोजित शौर्य यात्रा के अवसर पर आयोजित धर्मसभा में विहिप प्रांत मंत्री नंदकिशोर उपाध्याय ने बतौर मुख्य वक्ता कही। अपने 28 मिनट के उदबोधन में कहा कि देश पराक्रम के अभाव में 800 सालों तक गुलामी की जंजीरो से बंधा रहा। पराक्रम के ही अभाव में देशवासियों को अनेक कष्ट झेलना पड़े। सातरूंडा के गोकर्णी महाराज ने कहा कि नियमित माला जपने से संचालन शक्ति में देशभक्ति की भावना में वृद्धि होती है। आज माहौल को अपने भीतर प्रकट करने की आवश्यकता है। तहसील संयोजक लाखनसिंह जादोन ने स्वागत भाषण दिया। भगवान श्रीराम एवं भारतमाता के चित्रों पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन के बाद धर्मसभा शुरू हुई। इस दौरान कार्यकर्ता जय जय श्रीराम के उदघोष लगा रहे थे। स्वागत गीत योगश पाटीदार एवं हरिओम पाटीदार ने प्रस्तुत किया। दीपक मकवाना, नारायण मुरड़का, चतरसिंह डोडिय़ा, संजय मकवाना उपस्थित थे। आभार धर्मेंद्र डोडिया ने माना। मंडी परिसर में ही एकत्रिकरण हुआ।
निकली शौर्य यात्रा : धर्मसभा के बाद शौर्य यात्रा निकली। आगे ठेलागाडिय़ों पर महापुरुषों के कटआउट लगे थे। नगर भ्रमण के दौरान भाजपा, रूद्राक्ष ग्रुप सहित अनेक स्थानों पर यात्रा का स्वागत किया गया। कार्यकर्ता केशरिया पताका हाथ लिए शौर्य यात्रा में चल रहे थे। नगर भ्रमण के बाद सरकारी नंदराम चोपड़ा स्कूल परिसर में समापन हुआ। शौर्य यात्रा में बड़ी संख्या में विहिप एवं बजरंग दल कार्यकर्ता शामिल हए। शौर्ययात्रा को लेकर कार्यकर्ताओं सहित नगर में उत्साह का माहौल था। जगह-जगह तोरण द्वार एवं भगवा पताका माहौल को धर्ममय बना रही थी। लोगों ने अपने मकानों की छतों एवं गलियों से शौर्ययात्रा का पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।
ये था खास
- शौर्ययात्रा को लेकर स्थानीय एवं पुलिस प्रशासन काफी चौकस नजर आया।
- आरपीएफ, 34 बटालियन, जिला बल, एसएफ, होमगार्ड सहित लगभग 325 का बल लगाया गया।
- यात्रा में ब्लॉक के सभी आरआई, पटवारी एवं नगर परिषद का पूरा स्टाफ व्यवस्था में जुटा नजर आ रहा था।
- एसडीएम विजय मंडलोई, एसडीओपी कैलाश मालवीय, तहसीलदार वायएस मौर्य, टीआई सुनील गुप्ता, नायब तहसीलदार महेंद्रसिंह चौहान सहित अमला पूरी नजर रखे हुए थे।
- पूर्व रात्रि में शौर्ययात्रा निकलने के रूट के आसपास पड़ी भवन निर्माण सामग्री भी हटवाई गई थी।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned