सब्जियों, दूध व फसल की आवक बंद

सब्जियों, दूध व फसल की आवक बंद
photo

Shruti Agrawal | Publish: Jun, 01 2017 11:29:00 PM (IST) Dhar, Madhya Pradesh, India

पहले दिन गांवों से माल लेकर मंडी नहीं पहुंचे किसान, लाभकारी मूल्य की कर रहे मांग, लोगों को नहीं जानकारी

धार. लगभग कुछ महीने से किसानों को सब्जियों व अनाज  के उत्पादन में भारी नुकसान हो रहा है। लागत तो दूर मंडी में फसल परिवहन खर्च भी नहीं निकल रहा था।   दूसरी ओर थोक मंडी में आलू और प्याज के भाव एक रुपए किलो तक पहुंच गए। किसानों को लगातार दूसरे साल आलू-प्याज में भारी नुकसान हुआ। लगातार गिरते मूल्य और खराब माली हालत के कारण किसानों ने गुरुवार से सब्जियों, दूध की सप्लाय बंद कर लाभकारी मूल्य की मांग पर किसानों ने हड़ताल घोषित कर दी।  
हालांकि पहले दिन इस हड़ताल से आम जन-जीवन में कोई फर्क नहीं पड़ा है, लेकिन इसके परिणाम आने वाले दिनों में दिखेंगे, क्योंकि पूरे प्रदेश के किसानों ने उपज के कम मूल्य मिलने को लेकर 10 दिन की  हड़ताल घोषित की गई है। पहले दिन मंडी में सब्जी, उपज और दूध की सप्लाय प्रभावित हुई। 
किसानों ने इस हड़ताल के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। किसानों ने विभिन्न ग्रुप पर रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुओं की सप्लाय रोकने के लिए किसानों और साथियों को बताया। वॉट्सअप ग्रुप पर लिखा कि किसानों के साथ लंबे समय से अन्याय किया जा रहा है। पसीने से हुई उपज मिट्टी के मोल खरीदी जा रही है। इससे किसान कर्ज में फंसेगा और बर्बाद होगा। इससे सप्लाय रोकेंगे तो ही सरकार जागेगी। हमारा एक-दो दिन का नुकसान होगा, लेकिन भविष्य अच्छा होगा। किसान संगठित रहें। किसान साथियों को हड़ताल का महत्व बताए। हड़ताल शांतिपूर्ण रहेगी। 
गुरुवार को आसपास के गांवों से मंडी में माल नहीं पहुंचा। स्थानीय सब्जी मंडी लगभग पूर्ण रुप से बंद रही एवं कृषि उपज मंडी में भी गिने-चुने वाहन ही  धार फाटे पर पहुंचे। गुरुवार सुबह महात्मा फूले बा सब्जी मंडी में एक भी सब्जी वाहन नहीं आया।  मंडी अध्यक्ष गोपाल मौर्य ने बताया कि मंडी में 35 से अधिक व्यापारी है जो प्रतिदिन 4 लाख रुपए का व्यवसाय किसानों से करते है। 
सब्जी नहीं आने से करीब 4 लाख रुपए का नुकसान हड़ताल के दौरान हुआ है। वहीं कृषि उपज मंडी में प्रतिदिन 100 से अधिक टै्रक्टर ट्रॉली में उपज लेकर किसान आते हैं।  गुरुवार को मात्र 5 ट्रैक्टर ट्रॉली उपज पहुंची।  मंडी में 20 बोरी सोयाबीन, 139 बोरी गेहूं और 17 बोरी डॉलर चना आया। मंडी में 179 बोरी ही उपज आई। 
तुलावटी और हम्माल बैठे रहे
किसानों की हड़ताल होने के साथ ही स्थानीय कृषि उपज मंडी में कुछ तुलावटी छांव में खेलते हुए नजर आए तो कुछ हम्माल आराम करते दिखाई दिए। सब्जी मंडी में भी सुबह  सभी व्यापारी आ गए थे, लेकिन किसानों के नहीं आने पर हिसाब मिलाते हुए नजर आए। दोपहर तक व्यापारी भी घर चले गए। लोगों को  जानकारी सोशल मीडिया के जरिए मिली।  

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned