घर में इस जगह भूलकर भी ना करें नीले रंग का उपयोग वरना...

घर में इस जगह भूलकर भी ना करें नीले रंग का उपयोग वरना...

Tanvi Sharma | Updated: 08 Sep 2019, 04:34:57 PM (IST) धर्म कर्म

फेंगशुई का रंगों के बारे में कुछ अलग ही मानना है आइए जानते हैं

हमारे जीवन में रंगों का बहुत महत्व है। रंगों से जीवन में बहार होती है और हर रंग अपनी जगह एक विशेषता भी रखता है। जब भी हम अपनी जरुरत की चीज़ों से कपड़े , चप्पल, घर या घर में रखने वाला कोई भी सामान हो सभी में हम रंगों का चुनाव करते हैं। क्योंकि रंगों का हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। चाहे वह नेगेटिव प्रभाव हो या पॉजिटिव प्रभाव हो।

 

रंगों से हमें लगातार ऊर्जा मिलती है, जिस प्रकार के रंगों का हम उपयोग करेंगे उस प्रकार की ऊर्जा हमें मिलती है और वैसा ही वह हमारे जीवन पर इम्पेक्ट डालती है। वहीं फेंगशुई का रंगों के बारे में कुछ अलग ही मानना है आइए जानते हैं....

 

fengshui tips for home

फेंगशुई में भी रंगों का बहुत अधिक महत्व होता है। फेंगशुई में माना जाता है की यदि रंग व्यक्ति के जीवन में गुडलक और बैडलक दोनों ला सकते हैं। इसलिए अपने घरों में या आसपास रंगों का चुनाव बहुत ही सोच-समझकर करें। क्योंकि कभी-कभी हम जाने अनजाने में रंगों का ऐसा चुनाव कर लेते हैं और बाद में हमें उसके नकारात्मक प्रभाव झेलने पड़ते हैं। इसलिए रंगों का चयन परिस्थिति और सही जगह पर ही करें।

 

fengshui tips for home

1. किचन सहित इन जगहों पर ना करें लाल रंग का प्रयोग

लाल रंग बहुत मंगलमय रंग माना जाता है, लेकिन इसके अलावा यह बहुत तीव्र रंग भी है। लाल रंग अग्नि तत्व से जुड़ा भी माना जाता है इसलिए इस रंग को कभी भी किचन, वर्कप्लेस और बच्चों के रुम में कभी नहीं करवाना चाहिए। ऐसे उत्तेजनात्मक रंग बच्चों के रुम में, किचन में, डाइनिंग रुम या वर्कप्लेस में नहीं करवाना चाहिए। इससे गुस्से और पारिवारिक क्लेश के आसार बनते हैं। इसके अलावा पूर्व और पश्चिम दिशा की तरफ दरवाजे पर लाल रंग भूलकर भी नहीं करवाना चाहिए।

2. सिरदर्द या मेंटल स्ट्रैस ला सकता है ये रंग

पीला रंग बहुत शुभ माना जाता है, खासकर हिंदू धर्म में पीले रंग का बहुत उपयोग किया जाता है। यह रंग बौद्धिकता और ज्ञान को दर्शाता है। इस रंग का उपयोग यदि सही जगह पर किया जाए तो यह व्यक्ति को उन्नती दिलवाता है। लेकिन यदि इसे घर में किसी गलत जगह पर उपयोग किया जाए तो यह व्यक्ति की बीमारी से घेर सकता है। इस रंग को बाथरुम और मीटिंग रूम में कभी प्रयोग ना करें वरना आपको मानसिक तनाव या सिरदर्द जैसी बिमारी घेर सकती हैं।

 

3. यहां न प्रयोग करें हरा रंग

फेंगशुई में हरे रंग को संपन्नता का रंग माना जाता है। कहा जाता है की हरा रंग प्रोग्रेस और ताजगी को दर्शाता है। वहीं घर में यह रंग सही जगह पर करवाने से परिवार के लोग बहुत प्रोग्रेस भी करते हैं। यह रंग सुकून और शांति का प्रतीक भी माना जाता है। इससे एक पॉजिटीव ऊर्जा का स्त्राव होता है, यह रंग आप अपने बेडरुम और बाथरूम में करवा सकते हैं।

4. यहां भूलकर भी ना करें नीले रंग का उपयोग वरना

फेंगशुई में नीले रंग को बहुत ही शुभ माना जाता है क्योंकि चीन में नीले रंग को स्वर्ग का प्रतीक माना जाता है। वहीं फेंगशुई के अनुसार नीले रंग का उपयोग कभी भी ड्राइंग रुम या डाइनिंग रुम में नहीं करना चाहिए। बल्कि इसका प्रयोग पूजाघर या किचन, बेडरूम में कर सकते हैं।

5. सौभाग्य का प्रतीक है सुनहरा रंग

सुनहरा रंग प्रगति का रंग माना जाता है। इस रंग को चीन में धन का प्रतीक रंग माना जाता है। कहा जाता है की सुनहरा रंग सौभाग्य व शुभता का प्रतीक है। इसलिए यह रंग घर के मंदिर और घर की तिजोरी में कर सकते हैं। इसके अलावा सुनहरा रंग डायनिंग रुम में भी करवा सकते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned