साल का पहला सूर्य ग्रहण: इस दौरान इन बातों का रखें ध्यान, सावधानी से करें ये कार्य

Priya Singh

Publish: Feb, 15 2018 09:15:25 AM (IST)

Dharma Karma
साल का पहला सूर्य ग्रहण: इस दौरान इन बातों का रखें ध्यान, सावधानी से करें ये कार्य

आज अमावस्या को सूर्य ग्रहण पड़ रहा है।

नई दिल्ली। जनवरी में पूर्णिमा के दिन पड़े चंद्र ग्रहण के बाद आज अमावस्या को सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। यह सूर्य ग्रहण आंशिक है। ये साल 2018 का पहला सूर्य ग्रहण है। आज को सूर्य ग्रहण है। अमावस्या के दिन लगने वाला यह आंशिक सूर्य ग्रहण होगा। साल 2018 में 15 दिन के अंतराल में ये दूसरा ग्रहण लगने जा रहा है। पहला 31 जनवरी को पूर्णिमा के दिन खग्रास चंद्र ग्रहण लगा था। आज होने वाला सूर्य ग्रहण आंशिक होगा। आंशिक ग्रहण में सूर्य पूरा चंद्रमा की परछाई से नहीं ढकेगा, जिस कारण सूर्य का कुछ हिस्सा चमकदार दिखाई देगा। आपको बता दें कल लगे ग्रहण को भारत के लोग नहीं देख पाए। यह ग्रहण दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत महासागर, चिली, ब्राजील और अंटार्कटिका और एशिया के कुछ हिस्सों में दिखाई दिया।

Solar eclipse,Surya grahan,Surya Grahan News,Dos and donts for Surya Grahan,surya grahan effect on rashi,surya grahan tips,surya grahan 2018 in india,

भारतीय समायानुसार आज रात 12 बजकर 25 मिनट पर ग्रहण शुरु होगा और सूतक काल सुबह 4 बजे समाप्त होगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण के दौरान ब्रह्माण में ऊर्जा की कमी से हर कोई प्रभावित होता है। ऐसे में हर किसी को इस दैरान विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। ग्रहण के दौरान आलस्य करना हानिकारक माना जाता है। ग्रहण लगने से पहले स्नान कर लेना चाहिए। ग्रहण के दौरान पूजा, उपासना और मंत्रों का जाप शुभ माना जाता है। यदि आप बीमार नहीं हैं तो ग्रहण काल में भोजन और भौतिक कार्य नहीं करने चाहिए।

Solar eclipse,Surya grahan,Surya Grahan News,Dos and donts for Surya Grahan,surya grahan effect on rashi,surya grahan tips,surya grahan 2018 in india,

गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दिन विशेष सावधानी बरतनी चाहिए और इस दौरान सोना नहीं चाहिए। ऐसे में भगवान का भजन और मंत्रों का उच्चारण किया जाता है और मन में किसी के भी प्रति शक-संदेह नहीं करना चाहिए। ग्रहणकाल के पहले बने हुए भोजन में तुलसी के पत्ते डालकर खाएं। तुलसी के पत्तों में पारा होता है जो नकारात्मक शक्तियों को दूर करता है। ग्रहण काल के दौरान भगवान की मूर्ति को स्पर्श करना निषिद्ध माना जाता है। खान-पीना, सोना, नाखून काटना, भोजन पकाना, तेल लगाना आदि कार्य भी इस समय वर्जित माना जाता है। सूतक काल में बच्चे, बढ़ू, गर्भावस्था स्त्री आदि को भोजन करवाने में कोई समस्या नहीं मानी जाती है।

Solar eclipse,Surya grahan,Surya Grahan News,Dos and donts for Surya Grahan,surya grahan effect on rashi,surya grahan tips,surya grahan 2018 in india,

खास बात यह है कि इस साल होने वाले ये तीनों सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखाई देंगे। क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि तीनों ही ग्रहण आंशिक हैं। इसीलिए इन्हें पूरी दुनिया में एक साथ नहीं देखा जा सकता है। कहा जा रहा है कि सूर्य ग्रहण को दक्षिण और पश्चिम अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत, अटलांटिक, हिंद महासागर, अंटार्कटिका में देखा जा सकता है।

Solar eclipse,Surya grahan,Surya Grahan News,Dos and donts for Surya Grahan,surya grahan effect on rashi,surya grahan tips,surya grahan 2018 in india,
1
Ad Block is Banned