आज से श्राद्ध पक्ष आरंभ, आज इन मुहूर्त में पूजा से प्रसन्न होंगे पितृगण

Sunil Sharma

Publish: Sep, 06 2017 09:24:00 (IST)

Dharma Karma
आज से श्राद्ध पक्ष आरंभ, आज इन मुहूर्त में पूजा से प्रसन्न होंगे पितृगण

पूर्णिमा तिथि दोपहर १२.३३ तक, तदन्तर आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा प्रारंभ हो जाएगी

पूर्णिमा तिथि दोपहर १२.३३ तक, तदन्तर आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा प्रारंभ हो जाएगी। वैसे श्राद्ध पक्ष प्रारंभ हो गया है। पर समय शुद्ध हो तो पूर्णिमा व कृष्ण प्रतिपदा में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य, प्रतिष्ठा, यज्ञकर्म, विवाह, यात्रा व वास्तु सम्बंधी कार्य शुभ कहे गए हैं।

नक्षत्र: शतभिषा ‘चर व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र रहेगा। शतभिषा नक्षत्र में यथाआवश्यक यत्रा, सवारी, गृहारंभ, प्रवेश, उपनयनादि तथा पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र में साहसिक कार्य, कृषि, कुआ, तालाब व जलयंत्र सम्बंधी कार्य करने चाहिए।

योग: धृति नामक नैसर्गिक शुभ योग रात्रि १२.३२ तक, इसके बाद शूल नामक नैसर्गिक अशुभ योग है। शूल नामक योग की प्रथम पांच घटी शुभ कार्यों में त्याज्य है। विशिष्ट योग: कुमार योग नामक शुभ योग दोपहर १२.५७ से अगले दिन सूर्योदय तक है। कुमार योग में शिक्षा-दीक्षा देना-लेना, मैत्री करना व व्रतादि रखना शुभ होता है। करण: बव नामकरण दोपहर १२.३३ तक, इसके बाद बालवादि करण रहेंगे।

शुभ विक्रम संवत् : 207४
संवत्सर का नाम : साधारण
शाके संवत् : 193९
हिजरी संवत् : 143८, मु.मास: जिलहिज-१४
अयन : दक्षिणायन
ऋतु : शरद्
मास : भाद्रपद।
पक्ष : शुक्ल।

शुभ मुहूर्त: आज तिथि, वार, नक्षत्र, समय व योगानुसार शतभिषा नक्षत्र में अन्नप्राशन व हलप्रवहण आदि के शुभ मुहूर्त हैं।

श्रेष्ठ चौघडि़ए: आज सूर्योदय से प्रात: ९.१९ तक, लाभ व अमृत, पूर्वाह्न १०.५२ से दोपहर १२.२५ तक शुभ तथा अपराह्न ३.३२ से सूर्यास्त तक चर व लाभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं। बुधवार को अभिजित नामक मुहूर्त शुभ कार्यों में वर्जित माना गया है।

व्रतोत्सव: आज सत्यव्रत, पंचक, भागवत सप्ताह व गोत्रि रात्रि व्रत समाप्त, संन्यासियों का चातुर्मास पूर्ण, गुरु अमरदास पुण्य दिवस (प्रा. मत से), मेला गोगामेड़ी (हनुमानगढ़) व बाबा मालकेत लोहार्गल की २४ कोस की परिक्रमा पूर्ण, पितृपक्ष व महालय प्रारंभ तथा प्रतिपदा का श्राद्ध। चन्द्रमा: चन्द्रमा संपूर्ण दिवारात्रि कुम्भ राशि में रहेगा। दिशाशूल: बुधवार को उत्तर दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज पश्चिम दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद रहेगी। राहुकाल: दोपहर १२.०० से दोपहर बाद १.३० तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे
आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (सू, से, सो, द, दी) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। इनकी जन्म राशि कुम्भ है तथा दोपहर १२.५७ तक जन्मे जातकों का जन्म ताम्र पाद से व इसके बाद जन्मे जातकों का लोहपाद से जन्म है। सामान्यत: ये जातक बुद्धिमान, कामासक्त, धनी, सत्यप्रिय, दानी, प्रसिद्ध, पर व्यसन प्रिय, ज्योतिषप्रेमी, थोड़े वाचाल, सुन्दर और कलाकुशल हते हैं। इनका भाग्योदय लगभग २५ वर्ष के आसपास होता है। कुम्भ राशि वाले जातकों को आज पारिवारिक सुख प्राप्त होगा। विवाह योग्य युवक-युवतियों के वैवाहिक सम्बंध बनेंगे।

1
Ad Block is Banned