आंगनबाड़ी केंद्रों पर विकसित होंगी 48 पोषण वाटिकाएं

धौलपुर. जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण वाटिकाएं विकसित की जाएंगी। जिससे गर्भवती महिलाओं व बच्चों को पोषक तत्वों के साथ ताजा सब्जियों का स्वाद मिल सके। जिससे स्वस्थ और मजबूत और कुपोषण मुक्त समाज का निर्माण हो। साथ ही आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को संतुलित पोषक तत्वों से युक्त ताजा आहार उपलब्ध होगा। उल्लेखनीय है

By: Naresh

Published: 17 Jun 2021, 05:09 PM IST

आंगनबाड़ी केंद्रों पर विकसित होंगी 48 पोषण वाटिकाएं

गत वर्ष सर्वाधिक 855 पोषण वाटिका विकसित कर जिला रहा प्रदेश में अव्वल

धौलपुर. जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण वाटिकाएं विकसित की जाएंगी। जिससे गर्भवती महिलाओं व बच्चों को पोषक तत्वों के साथ ताजा सब्जियों का स्वाद मिल सके। जिससे स्वस्थ और मजबूत और कुपोषण मुक्त समाज का निर्माण हो। साथ ही आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को संतुलित पोषक तत्वों से युक्त ताजा आहार उपलब्ध होगा। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष जिले के 1032 आंगनबाड़ी केंद्रों मे से 855 केंद्रों पर पोषण वाटिका स्थापित की जा चुकी है। जिसमें नीति आयोग द्वारा विगत वर्ष 540 केंद्रों के लिए 10.80 लाख रुपए स्वीकृत किए गए थे। जिनके द्वारा प्रत्येक ब्लॉक में विभागीय भवनों के केंद्रों में प्रति केंद्र 2000 रुपए की लागत से पोषण वाटिका विकसित की गई। 315 केंद्र विद्यालय में थे, उनको विद्यालयों में बनाई गई पोषण वाटिका से जोड़ा गया। पोषण वाटिका स्थापित करने के मामले में जिला पूरे प्रदेश भर में अव्वल रहा था।

पोषण वाटिका (न्यूट्री गार्डन) के है कई लाभ

पोषण वाटिका से हर मौसम में ताजी सब्जी उपलब्ध होगी। हरे भरे वातावरण से वायु का शुद्धिकरण रहेगा। ताजे फलों और हरी सब्जियों सेवन से कमजोर एवं कुपोषित बच्चों के शरीर में सही मात्रा में पोषक तत्वों की भरपाई होगी। गर्भवती और धात्री महिलाओं के स्वास्थ में वृद्धि होगी, जिससे शारीरिक तथा मानसिक विकास हो सकेगा।
पौधारोपण होने के बाद गांव में ज्यादा से ज्यादा जनभागीदारी से इसकी सुरक्षा का इंतजाम भी किया जाएगा।

इनका कहना है

पोषण की महत्ता के प्रति जागरूक करने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा संचालित पोषण अभियान को विभिन्न विभागों के समन्वय से जन आन्दोलन के रूप में चलाया जा रहा है। इसी निरन्तरता में मनरेगा कन्वर्जेंस के माध्यम से वृहद स्तर पर वाटिका बनने के लिए जिले में 48 आंगनबाड़ी केंद्र चिहिन्त किए गए हैं। जिन पर इस वर्ष बड़े स्तर पर वाटिका विकसित की जाएंगी।
राकेश कुमार जायसवाल, जिला कलक्टर, धौलपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned