भाजयुमो जिलाध्यक्ष के होटल पर चला पीला पंजा

धौलपुर-करौली नेशनल हाईवे 11 बी पर कस्बे के सरमथुरा बाईपास पर स्थानीय प्रशासन ने सोमवार को एनएचएआई की भूमि को अतिक्रमण मुक्तकराया है। यह होटल भाजयुमो जिलाध्यक्ष अजयसिंह परमार का है।

By: Mahesh Gupta

Updated: 18 Feb 2020, 11:29 AM IST

भाजयुमो जिलाध्यक्ष के होटल पर चला पीला पंजा
हाइवे की भूमि पर चल रहा था ढाबा
पूर्व में नोटिस नहीं देने का लगाया आरोप
मौके पर नहीं था एनएचएआई का कोई अधिकारी मौजूद
बाड़ी. धौलपुर-करौली नेशनल हाईवे 11 बी पर कस्बे के सरमथुरा बाईपास पर स्थानीय प्रशासन ने सोमवार को एनएचएआई की भूमि को अतिक्रमण मुक्तकराया है। यह होटल भाजयुमो जिलाध्यक्ष अजयसिंह परमार का है। उनका आरोप है कि भूमि एनएचएआई की है तो कार्रवाई भी एनएचएआई को करनी चाहिए। लेकिन एनएचएआई की ओर से कोई भी प्रतिनिधि मौजूद नहीं होने के बाद भी कार्रवाई की गई है। तहसीलदार पुरुषोत्तम लाल ने नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी विजय प्रताप सिंह, कनिष्ठ अभियंता दीपक गोयल व पुलिस जाप्ते के साथ हाइवे किनारे अतिक्रमण कर बनाए गए ढाबे को हटाया। ढाबा संचालक व भूमि के कब्जेदार ने इस कार्रवाई के लिए पूर्व में नोटिस न देने की बात कही, लेकिन अधिकारियों ने कोई ध्यान नहीं दिया।
तहसीलदार ने बताया कि कस्बे के सरमथुरा रोड पर बाईपास के बगल में बांके बिहारी नाम से ढाबा संचालित है, जिस पर स्थानीय प्रशासन और नगर पालिका द्वारा 2 दिन पूर्व भूमि की पैमाइश करवाई गई थी। इसमें यह भूमि एनएचएआई की मिल्कियत के खसरा नम्बर 26 8 7 का छह बिस्वा हिस्सा पाया गया। इस पर अतिक्रमण कर चलाए जा रहे ढाबे को एसडीएम के आदेश पर हटा दिया गया। इस दौरान शुरू में हल्की नोकझोंक भी हुई, लेकिन बाद में पुलिस जाप्ते की मौजूदगी में अतिक्रमण हटा दिया गया।
गौरतलब है कि उक्तढाबा व इसके आसपास की भूमि पर भाजपा युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष अजय सिंह परमार व उनके परिजनों का कब्जा बताया गया है। इसके पास ही स्थित आराजी खसरा नंबर 26 8 8 है, जिसकी भी नगर पालिका द्वारा कुछ दिन पूर्व पैमाइश कराई गई थी। विद्युत निगम द्वारा उक्त भूमि के तथा कथित फर्जी कागजात पेश करने और गलत आबादी प्रमाण पत्र जारी करने के चलते युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष और उनके परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। तहसीलदार ने बताया कि एनएचएआई के खसरा नम्बर 26 8 7 और पालिका के खसरा नम्बर 26 8 8 की भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराया है। दूसरी ओर युवा मोर्चा अध्यक्ष व उनके परिजनों का आरोप है कि उन्हें इस कार्रवाई से पूर्व ना तो कोई नोटिस दिया गया है और ना ही एनएचएआई का कोई अधिकारी इस दौरान मौके पर मौजूद था।
अतिक्रमण विरोधी अभियान में कार्यवाही के लिए तहसीलदार को पाबंद किया गया था। इसी के चलते उन्होंने सोमवार को अतिक्रमण हटाया गया है। एनएचएआई का एक पत्र प्राप्त हुआ है, जिसमें उनके अधिकारी के मौके पर उपस्थित नहीं होने की बात कही गई है। - बृजेश मंगल, एसडीएम बाड़ी

Mahesh Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned