scriptBlack shadow of pollution will be eradicated from Rajkheda area, brick | राजाखेड़ा क्षेत्र से मिटेगा प्रदूषण का काला साया, ईंट भट्टों पर कसेगी लगाम | Patrika News

राजाखेड़ा क्षेत्र से मिटेगा प्रदूषण का काला साया, ईंट भट्टों पर कसेगी लगाम

- राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने दिया है 73 भट्टे बंद कराने का आदेश

- जिला कलक्टर के निर्देश पर एसडीएम ने बनाई टीम

- आज से कार्रवाई शुरू होने की संभावना

धौलपुर

Updated: April 07, 2022 07:14:38 pm

राजाखेड़ा क्षेत्र से मिटेगा प्रदूषण का काला साया, ईंट भट्टों पर कसेगी लगाम

- राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने दिया है 73 भट्टे बंद कराने का आदेश

- जिला कलक्टर के निर्देश पर एसडीएम ने बनाई टीम
Black shadow of pollution will be eradicated from Rajkheda area, brick kilns will be controlled
राजाखेड़ा क्षेत्र से मिटेगा प्रदूषण का काला साया, ईंट भट्टों पर कसेगी लगाम
- आज से कार्रवाई शुरू होने की संभावना

मनीष उपाध्याय

राजाखेड़ा. करीब ढाई दशक पहले ताजमहल की सफेदी को बचाने के लिए आगरा क्षेत्र से हटाए गए ईंट भट्टे राजाखेड़ा क्षेत्र में स्थापित होकर पर्यावरण पर काला साया बनकर मंडरा रहे हैं। हालांकि, इनके दिन लदने जा रहे हैं। दरअसल, राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के निर्देशों पर ऐसे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे 73 ईंट भट्टों को बंद करने के लिए प्रशासनिक प्रकिया आरम्भ हो चुकी है। इस कार्रवाई से क्षेत्र के भट्टा माफिया में खलबली मची हुई है। वहीं, क्षेत्र की जनता को स्वच्छ हवा में सांस लेने का मौका मिलेगा। ढाई दशक पूर्व आगरा में ताजमहल की सफेदी पर प्रदूषण की काली छाया पडऩे पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा ताज ट्रीपोजियम योजना लागू करने के निर्देश जारी किए गए। इसके तहत आगरा परिक्षेत्र में धुआं उगलने वाले सभी उद्योगों को सख्ती से बंद करा दिया गया। इन्हें 30 किलोमीटर की हवाई परिधि से बाहर निकलने के निर्देश दिए गए। इसके बाद आगरा क्षेत्र में ईंट भट्टा माफिया की काली नजरें राजाखेड़ा क्षेत्र पर पड़ गई। कुछ ही समय मे यहां 100 से अधिक ईंट भट्टे स्थापित हो गए। वर्तमान में ईंट भट्टों की संख्या 125 से भी अधिक पहुंच चुकी है। इनमें से अधिकतर भट्टे प्रदूषण मानकों पर खरे नहीं उतरते हैं। प्रशासन इन पर कार्रवाई तो दूर इनको नियमित तक नहीं करा पा रहा था। निरंकुश ईंट भट्टे सभी नियमों की धज्जियां उड़ा कर संचालित हो रहे हैं।एनजीटी ने दिए बंद करने के आदेशराजाखेड़ा क्षेत्र में ईंट भट्टों द्वारा प्रदूषण को लेकर एनजीटी में एक याचिका विजय सिंह बनाम राज्य सरकार व अन्य दाखिल की गई। इस पर एनजीटी ने 24 दिसम्बर 2021 को राजाखेड़ा क्षेत्र के 73 ईंट भट्टों को बंद करने के आदेश पारित कर दिए। हालांकि, राजस्थान प्रदूषण मंडल भट्टा माफिया के हित में इन आदेशों को दबा कर बैठा रहा। ईंट भट्टों के पीक सीजन जनवरी से अप्रेल तक इन्हें बचने का मौका दिया जाता रहा। भारी दबाब के बीच मंडल के क्षेत्रीय कार्यालय भरतपुर द्वारा 4 अप्रेल को इन्हें बन्द करने के लिए जिला कलेक्टर को पत्र लिखा गया है। इस पर जिला कलक्टर ने राजाखेड़ा एसडीएम को इन्हें बंद कराने के लिए निर्देशित किया है। 5 अप्रेल को एसडीएम ने तहसीलदार व थानाधिकारी के संयुक्त दल को इन ईंट भट्टों को बंद करने के निर्देश जारी किए हैं।अधिकतर ईंट भट्टे अवैधक्षेत्र में संचालित भट्टा माफिया इतना ताकतवर हो गया कि प्रशासन ने भी नियमों को दरकिनार कर इन्हें काला धुआं उगलने की खुली छूट दे रखी थी। दर्जनों भट्टों का तो भू-रूपांतरण तक नहीं हुआ है। जबकि अधिकतर में श्रम, राजस्व और पर्यावरण नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। यहां तक कि स्टेट हाइवे के किनारे बेशकीमती व्यावसायिक सरकारी भूमि पर भी इन्होंने अवैध कब्जा कर रखा था। जहां इनकी ईंट थपाई होती है। आबादी क्षेत्र में गैरकानूनी स्वीकृतिलगभग 3 दर्जन ईंट भट्टे तो नगरपालिका क्षेत्र में आबादी के बीच संचालित हो रहे हैं। इनमें से 18 भट्टों को तो बाकायदा स्वीकृति प्रदान कर दी गई। शेष बिना स्वीकृति ही संचालित हो रहे हैं। आबादी क्षेत्र में स्वीकृति देने वाले अधिकारियों के विरुद्ध जांच की मांग भी जोरों से उठ रही है।इनका कहना हैहमने एनजीटी के निर्देशों की पालना के लिए बुधवार को बैठक कर तहसीलदार राजाखेड़ा, थानाधिकारी और नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी का दल बनाया है। जिला कलक्टर ने पुलिस अधीक्षक से बात कर बड़ा जाप्ता देने का भरोसा दिलाया है। जिससे भट्टा मालिक प्रतिरोध न कर सकें।- देवीसिंह, उपखंड अधिकारी राजाखेड़ा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

नोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.