कब्रिस्तान भूमि रिकॉर्ड में छेड़छाड़, जांच में खुली पोल

बसेड़ी. कस्बे में सांठगांठ से करोड़ों की कब्रिस्तान की भूमि के विक्रय किए जाने के मामले की जांच में रिकॉर्ड से छेड़छाड़ किए जाने की बात सामने आ रही है। मामले की निष्पक्ष जांच को लेकर स्थानीय मुस्लिम समाज के लोगों की ओर से प्रशासनिक अधिकारियों से मांग उठाते हुए थाने पर मामला भी दर्ज कराया था। वहीं, मामले की जांच में जुटी पांस सदस्यीय समिति की रिपोर्ट में कब्रिस्तान की भूमि पर छेड़छाड़ होना सामने आया है।

By: Naresh

Published: 25 Feb 2021, 10:47 AM IST

कब्रिस्तान भूमि रिकॉर्ड में छेड़छाड़, जांच में खुली पोल
-बसेड़ी क्षेत्र से जुड़ा मामला
बसेड़ी. कस्बे में सांठगांठ से करोड़ों की कब्रिस्तान की भूमि के विक्रय किए जाने के मामले की जांच में रिकॉर्ड से छेड़छाड़ किए जाने की बात सामने आ रही है। मामले की निष्पक्ष जांच को लेकर स्थानीय मुस्लिम समाज के लोगों की ओर से प्रशासनिक अधिकारियों से मांग उठाते हुए थाने पर मामला भी दर्ज कराया था। वहीं, मामले की जांच में जुटी पांस सदस्यीय समिति की रिपोर्ट में कब्रिस्तान की भूमि पर छेड़छाड़ होना सामने आया है।
उल्लेखनीय है कि कस्बे के बाड़ी- बसेड़ी सड़क मार्ग पर स्थित करोड़ों की बेशकीमती कब्रिस्तान की भूमि की अवैध बिक्री को लेकर मुस्लिम समाज ने बसेड़ी पुलिस थाना में तहरीर दी थी। तहरीर में बताया गया कि मनिहारों का कब्रिस्तान कोली अड्डा पर स्थित है, जिसमें कच्ची व पक्की कब्रें बनी हुई है। कब्रिस्तान की जगह को लोक अदालत में न्यायालय उपखंड अधिकारी एवं पदेन सहायक कलेक्टर ने गत 27 मार्च 2017 को प्रकरण संख्या 90/ 2016 में यह स्थान कब्रिस्तान के लिए कर दी थी। जबकि तहसील कार्यालय पर कार्यरत एक निजीकर्मी के तथ्यों के आधार पर द्वारा गत 22 जनवरी विक्रय कर दिया गया। पुलिस ने भी मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। जबकि मामले में तहसीलदार अमित शर्मा के नेतृत्व में 5 सदस्य कमेटी का गठन भी किया गया था।
नक्शे में छेड़छाड, बबलू का दादा बना भूमि मालिक
कमेेटी ने उपखंड अधिकारी को रिपोर्ट में छेड़छाड़ होना बताया गया है, कमेटी की ओर से दी गई रिपोर्ट में बताया है गत 25 जनवरी को बबलूू पुत्र रामवीर कोली की ओर से गणेश पाल पुत्र सुमेरा, गंभीर सिंह पुत्र राम सिंह, रामनिवास पुत्र जगदीश सिंह को गैर मुमकिन आबादी में से विक्रय पत्र किया गया है। विक्रय पत्रों में संलग्न नक्शे तथाकथित कब्रिस्तान की भूमि की है। रिपोर्ट में सामने आया है कि कब्रिस्तान एवं आसपास के अन्य खसरा नंबर की मौके की सटीक स्थिति के पता लगानेे के लिए उचित होगा कि बंदोबस्त सन 2005 के दौरान नक्शे में त्रुटि एवं छेड़छाड़ हुई है।इ से सक्षम कार्यालय से दुरस्त करवाकर संबंधित खसरा नंबरों की सीमा ज्ञान कराया जाए। खसरा नंबरों में छेड़छाड़ के बाद अवैध रजिस्ट्री करने वाला बबलू का दादा हरि सिंह इसका मालिक बन गया। मामले पर पुलिस का अनुसंधान भी जारी बना हुआ है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned