नगर परिषद की बदइंतजामी और अवैध खनन के चलते वेंटिलेटर पर आया धौलपुर का चंबल गार्डन... ड्रोन कैमरे से ली गई तस्वीरों में देखें

धौलपुर देश की प्रसिद्ध नदी के नाम पर विकसित किया गया चंबल गार्डन आज अपनी बदहाली पर आंसू बहाता नजर आ रहा है इन दिनों यहां आने वाले लोगों को सिर्फ पार्क के नाम पर टूटी बाउंड्री वाल ही नजर आती है करीब एक करोड़ इकसठ लाख रुपए की लागत से जिले की शान के रूप में माने जाने वाले थर्मल पावर द्वारा विकसित इस पार्क का उद्घाटन तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एवं ऊर्जा मंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर ने किया था उद्घाटन के बाद पार्क को नगर परिषद को सौंप दिया गया लेकिन नगर परिषद की देखरेख के अभाव में पार्क की व्यवस्थाओं ने कुछ ही दिनों में दम तोड़ दिया पार्क की व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए स्थानीय स्तर पर पत्रों के माध्यम से प्रशासन और जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराया गया लेकिन पत्रों पर आश्वासन मिले काम नहीं हुआ यही वजह है कि चंबल गार्डन के पास दनादन होते अवैध खनन और प्रशासनिक उपेक्षा के चलते आज चंबल गार्डन के अवशेष ही नजर आते है। वीरानी में डूबा हुआ यह पार्क सुबह शाम पहले की तरह आने वालों का इंतजार करता नजर आता है जब यह हरा भरा था अच्छी घास थी पीने और पेड़ों की सिंचाई के लिए पानी था तब यहां शहर की आबोहवा से दूर सुकून पाने के लिए सुबह से लेकर शाम तक लोगों की चहल.पहल रहा करती थी जो आज बिल्कुल खत्म हो गई है यहां आज आते हैं तो सिर्फ समाज कंटक यूँ कहा जा सकता है कि चंबल गार्डन आज समाज कंटकों का अड्डा बन कर रह गया है कुछ समय तक यहां देखभाल के लिए दो चौकीदार भी हुआ करते थे लेकिन जानकारी के अनुसार ठेकेदार द्वारा उनका समय से भुगतान नहीं करने के कारण वे भी इसे भाग्य के सहारे छोड़ कर चलते बने पार्क के पास ही एक किलोमीटर के दायरे में खनिज विभाग का कार्यालय एवं दो थाने और एक पुलिस चौकी भी स्थापित है लेकिन असामाजिक तत्वों द्वारा पार्क में की गई तोडफ़ोड़ और लोहे के दरवाजों ओर जालियों की चोरी किसी जिम्मेदार विभाग को नजर नहीं आती वहीं चंबल गार्डन के बराबर में सालों से चल रहा अवैध खनन भी पार्क को खोखला करने में लगा है जो खनिज विभाग को नजर नहीं आता जल्द ही पार्क की और जिम्मेदार विभागों ने ध्यान नहीं दिया तो पार्क के बचे हुए अवशेष भी समाप्त हो जाएंगे।

फोटो स्टोरी, नरेश लवानिया

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned