धौलपुर के चंद्रेश ने रक्तदान कर बचाई सीकर की गर्भवती महिला की जान

धौलपुर. सोच बदलो-गांव बदलो टीम के युवा चंद्रेश मीणा उर्फ जीतू पुत्र मुन्नालाल निवासी दीवानपुरा ने जयपुर के जनाना अस्पताल में 'ओÓ नेगेटिव रक्तदान कर अनजान गर्भवती महिला की जान बचाई है। जयपुर के जानना हॉस्पिटल में सीकर जिले की गर्भवती महिला पिंकी चौधरी को उनके पति राजेंद्र प्रसाद ने भर्ती कराया। गर्भवती महिला की डिलेवरी होनी थी, लेकिन जांच कराने पर पता चला कि रक्त की कमी है।

By: Naresh

Published: 18 Jul 2021, 07:21 PM IST

धौलपुर के चंद्रेश ने रक्तदान कर बचाई सीकर की गर्भवती महिला की जान

धौलपुर. सोच बदलो-गांव बदलो टीम के युवा चंद्रेश मीणा उर्फ जीतू पुत्र मुन्नालाल निवासी दीवानपुरा ने जयपुर के जनाना अस्पताल में 'ओÓ नेगेटिव रक्तदान कर अनजान गर्भवती महिला की जान बचाई है। जयपुर के जानना हॉस्पिटल में सीकर जिले की गर्भवती महिला पिंकी चौधरी को उनके पति राजेंद्र प्रसाद ने भर्ती कराया। गर्भवती महिला की डिलेवरी होनी थी, लेकिन जांच कराने पर पता चला कि रक्त की कमी है। महिला का रक्त की कमी के कारण डिलेवरी करना मुश्किल था। डॉक्टर ने परिजनों से 'ओÓ नेगेटिव ब्लड की मांग की। परिवार में ओ नेगेटिव ग्रुप का कोई भी व्यक्ति नहीं था, तो महिला के पति राजेंद्र प्रसाद ने लैब में कार्यरत चंद्रेश मीणा धौलपुर से सम्पर्क किया। केस के बारे में जानकारी दी। चंद्रेश मीणा निवासी दिवानपुरा धौलपुर ने तुरन्त देरी ना करते हुए जनाना अस्पताल पहुंच रक्तदान किया। जिसके बाद गर्भवती महिला की सफल डिलेवरी होने पर बच्चा और मां दोनों स्वस्थ है।
वहीं परिजनों ने चंद्रेश मीणा का आभार व्यक्त किया है। रक्तदाता मीणा ने बताया कि ये मेरे जीवन का पहला रक्तदान था। पहले मुझे भी थोड़ा डर था, लेकिन अब मन का भ्रम निकल चुका है। अब समय-समय पर रक्तदान कर असहाय एवं जरूरतमंद लोगों को जीवनदान देता रहूंगा। शुरुआत से ही मेरी सोच थी कि मैं अपने पहला रक्तदान किसी गर्भवती महिला को करूँ। जिससे एक साथ दो जान बचाई जा सकें।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned