डेढ़ लाख लेने पर भी लगा दिया था फर्जी रूप से खराब ट्रांसफॉर्मर, फिर भी मांग रहे थे इतनी राशि

राजाखेड़ा में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सोमवार शाम को विद्युत निगम के तकनीकी सहायक को सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार दबोच लिया। उक्त राशि एक किसान के खराब ट्रांसफॉर्मर को बदलने की एवज में ली गई थी। जिसे ब्यूरो ने आरोपी कर्मचारी से जब्त कर लिया। उसे राजाखेड़ा थाना ले आई, जहां कार्यवाही पूरी कर दल धौलपुर रवाना हो गया।

By: Mahesh Gupta

Published: 03 Dec 2019, 10:56 AM IST

डेढ़ लाख लेने पर भी लगा दिया था फर्जी रूप से खराब ट्रांसफॉर्मर, फिर भी मांग रहे थे इतनी राशि
राजाखेड़ा. राजाखेड़ा में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सोमवार शाम को विद्युत निगम के तकनीकी सहायक को सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार दबोच लिया। उक्त राशि एक किसान के खराब ट्रांसफॉर्मर को बदलने की एवज में ली गई थी। जिसे ब्यूरो ने आरोपी कर्मचारी से जब्त कर लिया। उसे राजाखेड़ा थाना ले आई, जहां कार्यवाही पूरी कर दल धौलपुर रवाना हो गया।
यह था प्रकरण
धौलपुर एसीबी के पुलिस उप अधीक्षक के.के शर्मा ने बताया कि बसई घीयराम निवासी रामखिलाड़ी ने अपने दोस्त सुंदर सिंह के साथ 30 नवंबर को ब्यूरो कार्यालय में परिवाद दिया था। जिसमें बताया कि करीब एक साल पहले विद्युत निगम राजाखेड़ा में अपने कुएं पर ट्रांसफॉर्मर लगाने के लिए यहां नियुक्त एईएन रवि कुमार सोनी और लाइनमैन हरभान सिंह, वीरेन्द्र बाबू, राजवीर सिंह स्टोरकीपर से ट्रांसफॉर्मर देने के लिए बातचीत की। लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं दिया। इनके द्वारा उसके दोस्त सुंदर सिंह के जरिए मुझसे ट्रांसफॉर्मर देने के बदले में एक लाख रुपए रिश्वत में मांगे, जो इनको दे दिए।
जिसके बाद मुझे ट्रांसफॉर्मर दिया, जो ज्यादा दिन नहीं चला और खराब हो गया। जिस पर दोस्त सुंदर सिंह द्वारा विद्युत निगम राजाखेड़ा के अधिकारी व कर्मचारियों से बात की तो पता चला कि जो ट्रांसफॉर्मर दिया था, वह फर्जी कागजों पर दिया गया था। तब मैंने दोस्त द्वारा बात की तो एईएन व स्टोरकीपर राजवीर, बाबू वीरेंद्र ने हरभान सिंह लाइनमैन के जरिए मेरे दोस्त से पचास हजार रुपए की मांग की और दोस्त के हाथों से पचास हजार रुपए ले लिए। लेकिन मुझे दूसरा ट्रांसफॉर्मर नहीं दिया। अब एईएन, वीरेंद्र बाबू व स्टोरकीपर राजवीर, लाइनमैन हरभान सिंह के जरिए मुझसे नया ट्रांसफॉर्मर देने व अवैध कनेक्शन करने के लिए मेरे दोस्त सुंदर सिंह से दस हजार रुपए और मांग रहे हैं।
जिसका सत्यापन कराए जाने पर हरभान सिंह तकनीकी सहायक द्वारा परिवादी के दोस्त सुंदर सिंह से दस हजार रुपए की मांग कर सात हजार रुपए लेने पर राजी
हो गया। यह राशि सोमवार को परिवादी के दोस्त से सात हजार रुपए राजाखेड़ा कस्बा में पुलिस चौकी नायला रोड के पास लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। रिश्वत
राशि पेंट की बायीं जेब से जब्त की गई है।

Mahesh Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned