scriptFemale judge said - use social media carefully | महिला जज बोली- सोशल मीडिया का सावधानी से करें उपयोग | Patrika News

महिला जज बोली- सोशल मीडिया का सावधानी से करें उपयोग

locationधौलपुरPublished: Sep 21, 2022 08:22:23 pm

Submitted by:

rohit sharma

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं इनरव्हील क्लब के संयुक्त तत्वावधान में राजकीय उच्च माध्यमिक कन्या विद्यालय में साइबर अपराध के प्रति विद्यार्थियों को जागरुक करने के लिए विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन हुआ।

महिला जज बोली- सोशल मीडिया का सावधानी से करें उपयोग
महिला जज बोली- सोशल मीडिया का सावधानी से करें उपयोग
धौलपुर. जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं इनरव्हील क्लब के संयुक्त तत्वावधान में राजकीय उच्च माध्यमिक कन्या विद्यालय में साइबर अपराध के प्रति विद्यार्थियों को जागरुक करने के लिए विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सुनीता मीणा ने बिल्डिंग साइबर क्राइम फ्री नेशन के संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि साइबर क्राइम एक ऐसा अपराध है जो किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। इंटरनेट ही एक ऐसा जरिया है जो देश-विदेश में बैठे लोगों को आपस में एक दूसरे के साथ जोडऩे और व्यवसाय को बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में धीरे-धीरे साइबर क्राइम भी बढ़ता जा रहा है। यदि सरल शब्दों में बात की जाए तो साइबर क्राइम एक ऐसा क्राइम है जिसमें कुछ अपराधी आपके फोन और इंटरनेट से कुछ अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके साइबर क्राइम को अंजाम देते हैं। जिस प्रकार से अपराधियों द्वारा इंटरनेट मीडिया को साइबर क्राइम का एक सशक्त माध्यम बनाकर प्रयोग किया जा रहा है। उससे बचने के लिए विद्यार्थियों को खुद जागरुक होने के साथ ही दूसरों को भी जागरुक करना होगा। उन्होंने सभी विद्यार्थियों को फेसबुक हैकिंग, क्यूआर कोड के माध्यम से होने वाले फ्राड, वाट्सएप हैकिंग से बचाव, फर्जी वेबसाइट से होने वाले फ्राड के संबंध में सावधानियां बरतने की सलाह दी। साइबर एक्सपर्ट अमित शर्मा ने विद्यार्थियों को साइबर फ्राड से बचने के उपाय बताए। शर्मा ने बताया कि सोशल मीडिया का प्रयोग करते समय अनजान व्यक्तियों के साथ मित्रता न करें व अपनी प्रोफाइल लॉक करके रखें। किसी भी यूपीआई पिन का उपयोग सिर्फ पैमेंट करने के लिए होता राशि प्राप्त करने के लिए नहीं। किसी भी अनजान लिंक पर क्लिक न करें। किसी भी अनजान व्यक्ति के साथ खाता संबंधी निजी जानकारी प्राप्त न करें। किसी भी व्यक्ति के कहने पर अपने मोबाइल में टीम व्यूअर, क्यूएस, ऐनी डैक्स आदि रिमोट कंट्रोल एप इंश्टॉल न करें। ऑनलाइन ठगी और बैंकिंग संबंधी फ्राड होने पर तुरंत बैंक में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से शिकायत के लिए टोल फ्री नंबर 1930 पर शिकायत करें। एडवोकेट मीनल भार्गव ने संचालन किया। इस मौके पर विद्यालय प्रिंसीपल अर्चना मिश्रा, रेनू भार्गव, विधिक प्रभारी गरिमा गर्ग, मंजू जादौन, निर्मला मीणा, मुकेश नगाइच, मनोज झा, सतीश मीणा, राधा गर्ग, रजनी मीणा, मधु जैन आदि मौजूद थे।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.