उत्तर प्रदेश पुलिस के कांस्टेबल को ट्रैक्टर ट्राली से कुचलने वाले बजरी माफिया गिरफ्तार

धौलपुर. कहने को जिला पुलिस बजरी परिवहन रोकने के तमाम दावे कर रही हो, लेकिन असल हकीकत किसी से भी छुपी नहीं है। ऐसे में यूपी पुलिस ने धौलपुर क्षेत्र से करीब आधा दर्जन से अधिक बजरी माफियाओं दबोचते हुए यूपी पुलिस कांस्टेबल की हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मामले पर यूपी पुलिस की तत्परता और गंभीरता ने धौलपुर पुलिस की कार्यशैली पर कई सवाल खड़े कर दिए है।

By: Naresh

Published: 13 Nov 2020, 05:22 PM IST

उत्तर प्रदेश पुलिस के कांस्टेबल को ट्रैक्टर ट्राली से कुचलने वाले बजरी माफिया गिरफ्तार

आखिर रंग लाया यूपी पुलिस का अभियान,
-सैंया-खेरागढ़ क्षेत्र में बजरी के टे्रक्टर से सिपाई को कुचलने का मामला
-यूपी ने बजरी माफियाओं को पकडऩे के लिए धौलपुर में दी दबिशेें
-यूपी पुलिस की गिरफ्त में सात बजरी माफिया
धौलपुर. कहने को जिला पुलिस बजरी परिवहन रोकने के तमाम दावे कर रही हो, लेकिन असल हकीकत किसी से भी छुपी नहीं है। ऐसे में यूपी पुलिस ने धौलपुर क्षेत्र से करीब आधा दर्जन से अधिक बजरी माफियाओं दबोचते हुए यूपी पुलिस कांस्टेबल की हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मामले पर यूपी पुलिस की तत्परता और गंभीरता ने धौलपुर पुलिस की कार्यशैली पर कई सवाल खड़े कर दिए है।
उल्लेखनीय है कि गत रविवार सुबह आगरा के खेरागढ़-सैंया थाना पुलिस को मिली कि धौलपुर जिले से अवैध चंबल बजरी से भरे ट्रैक्टरों के यूपी होकर भरतपुर जा रहे है। जिस सूचना पर खेरागढ़ व सैंया थाना क्षेत्र के नगला सोन गांव के पास उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा नाकाबंदी शुरू कर दी गई। बजरी से भरे ट्रैक्टर को पकडऩे के लिए हाईवे पर खड़ी पुलिस को धौलपुर की ओर से आते हुए बजरी से भरे ट्रैक्टर दिखाई दिए। जिस पर मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने ट्रैक्टर रोकने का इशारा किया। इस दौरान बजरी माफियाओं ट्रेक्टरों को नहीं रोका और वहां खड़े पुलिसकर्मियों पर ट्रैक्टर चढ़ा दिया। जिसमें कॉन्स्टेबल सोनू सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद यूपी पुलिस ने मौके से भागे बजरी माफियाओं का पीछा भी किया, लेकिन माफिया यहां से भाग निकलने में सफल हो गए। इसके बाद यूपी पुलिस की पड़ताल में सामने आया है कि आरोपी धौलपुर के सैप ऊ व कौलारी थाना इलाके के रहने वाले है। इसके बाद यूपी पुलिस ने राजस्थान-उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे धौलपुर के सैपऊ व कौलारी थाना इलाके के करीब आधा दर्जन से अधिक गांवों में दबिशें देते हुए आरोपियों को चिन्हित करने का प्रयास जारी रखे और नतीजा बजरी माफियाओं की गिरफ्तारी के रूप में सामने आया है। यूपी के आगरा जिले के खेरागढ़, सैंया व जगनेर थाना पुलिस ने अपने-अपने क्षेत्र में संयुक्त तौर पर अभियान चलाया गया। जिसमें खेरागढ़ पुलिस ने चार, सैंया पुलिस ने एक एवं जगनेर थाना पुलिस ने तीन बजरी माफियाओं को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।
यूपी पुलिस गिरफ्त में हत्या का आरोपी व अन्य माफिया
यूपी पुलिस की बजरी माफियाओं की ओर से वारदात के बाद क्षेत्र में अभियान की शुरूआत की। इस दौरान खेरागढ़ पुलिस ने गत बुधवार को क्षेत्र में कड़ी नाकेबंदी लगाई। इस दौरान पुलिस ने धौलपुर के कौलारी थाना इलाके के गांव खरगपुर निवासी विष्णु पुत्र विजेन्द्र सिंह, सुन्दर सिंह पुत्र किशोर सिंह, कलैक्टर पुत्र मंगलिया, गांव भदियाना निवासी हिम्मत पुत्र रामभरोसी को गिरफ्तार कर लिया। जबकि मौके से कौलारी थाना इलाके के गांव खरगपुर निवासी हेत सिंह पुत्र सरदार सिंह, सुरेन्द्र सिंह पुत्र कप्तान सिंह, गजेन्द्र सिंह पुत्र प्रेम सिंह फरार हो गए। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों से चार देसी कट्टे, चार जिंदा करातूस व एक स्कार्पिंयो बरामद की है। इसी क्रम में सैंया थाना पुलिस ने कौलारी थाना इलाके के गांव खरगपुर निवासी प्रकाश पुत्र खिच्चू को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी ने बताया कि गत ८ नवम्बर को उसने, बबलू पुत्र बेताल सिंह गांव खरगपुर, अनूप पुत्र राजपति ने पुलिस के रोके जाने के दौरान एक सिपाई को कुचल दिया था, इसके बाद तीनों जने ट्रेक्टर के छोड़कर अन्य ट्रेक्टर से फरार हो गए थे। पुलिस गिरफ्तार आरोपी से एक देसी कट्टा व एक बाइक बरामद की है। इसी क्रम में जगनेर थाना पुलिस ने धौलपुर के कौलारी थाने के गांव भदियाना निवासी वीरवल सिंह पुत्र गज सिंह, नबाव सिंह पुत्र गज सिंह, सियाराम पुत्र गज सिंह से देसी कट्टे व बाइक बरामद की है।
धौलपुर पुलिस को नहीं लगा यूपी पुलिस अभियान की भनक
यूपी पुलिस की ओर से बजरी माफियाओं का लेकर धौलपुर जिले में दबिशें दी गई, लेकिन इस बारे में धौलपुर पुलिस के उच्चाधिकारियों को भनक तक नहीं लग सकी कि यूपी पुलिस आखिर किन-किन स्थानों पर दबिशें दे रही और किन-किन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इतना ही नहीं यूपी पुलिस ने मामले गंभीरता व तत्परता के कारण जिले के बजरी माफियाओं को पकड़े जाने पर कई सवाल खड़े हो रहे है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बजरी माफियाओं को चिन्हित करने के लिए स्वयं के स्तर पर ही अभियान चलाया । ऐेसे में मामले को लेकर जिला पुलिस अधिकारी किसी प्रकार की जानकारी दिए जाने से बचते नजर आए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned