scriptHoarding and the hope of rising prices is increasing the price of our | जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद बढ़ा रही हमारे आटे-तेल का भाव | Patrika News

जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद बढ़ा रही हमारे आटे-तेल का भाव

- धौलपुर मंडी में रोज बमुश्किल आ रही 10 ट्रॉली सरसों और एक-दो ट्रॉली गेहूं

- फिलहाल भाव अच्छे लेकिन, और बढऩे की संभावना

- बड़े किसान, व्यापारी और ऑयल मिल वाले कर रहे स्टॉक

नितिन भाल

धौलपुर. जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद आम लोगों की थाली पर भारी पड़ रही

धौलपुर

Published: May 07, 2022 04:44:27 pm

जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद बढ़ा रही हमारे आटे-तेल का भाव

- धौलपुर मंडी में रोज बमुश्किल आ रही 10 ट्रॉली सरसों और एक-दो ट्रॉली गेहूं

- फिलहाल भाव अच्छे लेकिन, और बढऩे की संभावना
Hoarding and the hope of rising prices is increasing the price of our flour and oil
जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद बढ़ा रही हमारे आटे-तेल का भाव
- बड़े किसान, व्यापारी और ऑयल मिल वाले कर रहे स्टॉक

नितिन भाल

धौलपुर. जमाखोरी और भाव बढऩे की उम्मीद आम लोगों की थाली पर भारी पड़ रही है। हालात यह हैं कि रेकॉर्ड उत्पादन के बावजूद मंडी में गेहूं और सरसों की आवक नहीं के बराबर है। सिर्फ जरूरतमंद किसान ही सरसों और गेहूं बेचने आ रहे हैं। जिसके पास थोड़ी-बहुत भी क्षमता है वह, फिलहाल अपनी फसल बेचने से परहेज कर रहा है। जिले में रबी की मुख्य फसल सरसों है। जिलेभर में करीब 80 हजार हेक्टेयर में सरसों की बुवाई होने के बावजूद मंडी में इसकी आवक आठ से दस ट्रॉली प्रतिदिन ही है। पिछले सीजन में सरसों के भाव 8000 रुपए प्रति क्विंटल से भी ऊपर पहुंच गए थे। किसानों को उम्मीद है कि इस बार भी भाव ऊपर जाएंगे। ऐसे में फिलहाल वे फसलों का बेचान नहीं कर रहे हैं। गेहूं भी अब 2500 रुपए प्रति क्विंटल पहुंच गया है। कम आपूर्ति होने का असर मध्यम और गरीब वर्ग के लोगों को सता रहा है। उनके लिए आटे और तेल का भाव दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है।सरसों फिलहाल 6800 तकमंडी में सरसों का भाव फिलहाल 6800 रुपए प्रति क्विंटल तक चल रहा है। मंडी में इन दिनों सिर्फ आठ से दस ट्रॉली यानि की 400 से 500 बोरी सरसों की ही आवक है। यह हाल तब हैं जब जिले में लगभग हर किसान ने सरसों की बुवाई की है।नाकाम गेहूं की सरकारी खरीदगेहूं की एमएसपी 2015 रुपए प्रति क्विंटल तय की गई है लेकिन, हालात यह हैं कि बाजार में गेहूं इससे अधिक दामों पर बिक रहा है। ऐसे में सरकारी खरीद नाकाम साबित हो रही है। मंडी में फिलहाल गेहूं 2200 से 2500 रुपए क्विंटल बिक रहा है। किसी किसी दिन तो यह भाव बढकऱ 3000 रुपए तक भी पहुंच रहे हैं।भूसा भी ऊंचाइयों पर गेहूं के साथ इसका भूसा भी लगातार ऊंचाइयां छू रहा है। गेहूं की कम बुवाई और कम उत्पादन के कारण पहले ही इसकी मांग ज्यादा है। पशुओं के लिए चारे के रूप में काम आने वाला भूसा भी 600 से 700 रुपए प्रति मन (40 किलोग्राम) तक बिक रहा है। भूसे के भाव बढऩे के कारण पशुपालकों ने दूध के दाम भी बढ़ा दिए हैं। व्यापारी धड़ाधड़ कर रहे खरीदबड़े एक्सपोर्टर की तरफ से डिमांड आने के कारण छोटे व्यापारी भी धड़ाधड़ गेहूं की खरीद करके उसका भंडारण कर रहे हैं। बाजार में अचानक गेहूं के दाम बढऩे का कारण यह भी माना जा रहा है। व्यापारी किसानों से खेतों पर जाकर सीधे भी गेहूं की खरीद कर रहे हैं। वहीं, मंडी में आने वाले किसानों को बाहर ही रोक कर खरीद की जा रही है।खुले बाजार में जमकर खरीदभारत में खाद्य तेल की कीमतों में और इजाफा होने का संकेतों को देखते हुए खुले बाजार में जबरदस्त तरीके से सरसों की खरीद हो रही है। व्यापारी किसानों को सरसों का सात हजार रुपए प्रति क्विंटल तक का औसत भाव दे रहे हैं। ऐसे मे मंडी में खरीद गंभीर रूप से प्रभावित हुई है। बता दें, भारत खाद्य तेलों का सबसे बड़ा आयातक है। भारत अपनी जरूरत का 50-60 फीसदी खाद्य तेल आयात करता है।अन्तरराष्ट्रीय कारण भी जिम्मेदारयुद्ध के चलते यूक्रेन से आने वाला सनफ्लावर भारत नहीं पहुंच रहा है। इसी के साथ इंडोनेशिया से पाम आयल का निर्यात भी बंद है। मलेशिया ने भी भारत को पाम ऑयल देने से इनकार कर दिया है। दाम बढऩे की उम्मीद में सरसों को आवक भी कम हो रही है, नतीजतन सरसों के तेल के भाव सीजन में 165 से 170 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गया है।इनका कहना हैमंडी में गेहूं-सरसों की आवक बेहद कम है। किसान भाव बढऩे का इंतजार कर रहे हैं। मंडी के बाहर भी व्यापारी और स्टॉकिस्ट खरीद कर रहे हैं। मंडी के बाहर की बात पर हम कोई कार्रवाई नहीं कर सकते हैं।- कैलाश मीना, कार्यवाहक मंडी सचिव, धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra Political Crisis: शिंदे खेमा काफी ताकतवर, उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किल होगा दोबारा शिवसेना को खड़ा करनासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.