शहीद भागीरथ नारों से गूंजा जैतपुरा, प्रतिमा का अनावरण

विगत वर्ष 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद जैतपुरा निवासी भागीरथ की प्रतिमा का शुक्रवार को अनावरण किया गया।
इस दौरान जिला कलक्टर राकेश जायसवाल ने कहा कि भागीरथ ने देश के लिए शहादत देकर एक सच्चे भारतीय होने का कर्तव्य पूरा किया है।

शहीद भागीरथ नारों से गूंजा जैतपुरा, प्रतिमा का अनावरण
राजाखेड़ा. विगत वर्ष 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद जैतपुरा निवासी भागीरथ की प्रतिमा का शुक्रवार को अनावरण किया गया।
इस दौरान जिला कलक्टर राकेश जायसवाल ने कहा कि भागीरथ ने देश के लिए शहादत देकर एक सच्चे भारतीय होने का कर्तव्य पूरा किया है। देश उनकी शहादत का हमेशा ऋणी रहेगा। वे हमेशा युवाओं के प्रेरणा स्रोत बने रहेंगे। पुलिस अधीक्षक मृदुल कछावा ने कहा कि वर्दी में देश के लिए शहादत सबसे बड़ा बलिदान है, जो भारतीय वीरों की परंपरा रही है। भागीरथ ने उसे आगे बढ़ाकर धौलपुर की वीरभूमि का नाम रोशन किया है।
परिवार का सम्मान
समारोह में भागीरथ के पिता परशुराम, वीरांगना रंजना देवी एवं अन्य परिजनों का सम्मान किया गया। शहीद के दोनों मासूम पुत्र और पुत्री को भी अधिकारियों ने दुलारा। कार्यक्रम दौरान समारोह स्थल भागीरथ सिंह अमर रहे, देश के वीर जवानों का बलिदान याद रखेगा हिंदुस्तान, जैसे नारों से गुंजायमान होता रहा। वहीं उपस्थित लोगों ने राष्ट्रगान गाकर शहीद को याद किया। यह रहे मौजूद
कार्यक्रम में राजाखेड़ा उपखण्ड अधिकारी संतोष कुमार गोयल, राजस्थान सरपंच संघ के पूर्व प्रदेश मंत्री जयवीर पोसवाल, पूर्व सरपंच बहादुर सिंह जाट, विजय त्यागी, नेतराम गुर्जर, यशवीर पोसवाल, संजय कसाना मौजूद रहे।
साथियों ने दी सलामी
अनावरण के समय सीआरपीएफ की टुकड़ी ने भी अपने साथी की शहादत को सलामी दी। वीरता ध्वनियों के साथ गार्ड ऑफ ऑनर प्रस्तुत किया। कमांडेंट अर्जुन सिंह ने कहा कि भागीरथ नियुक्ति के साथ से ही वीरता का पर्याय बना रहा और साहसिक कार्यों से औरों के लिए प्रेरणा बना रहा। भारतीय सुरक्षा बलों ने भी अपने साथियों के बलिदान का बदला बखूबी लेकर दुश्मनों को करारा सबक दिया है।

Mahesh Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned