scriptLakhs of loans on schools, no money for food, no cooking | विद्यालयों पर लाखों का कर्जा, न खाने का, न पकाने का मिल रहा पैसा | Patrika News

विद्यालयों पर लाखों का कर्जा, न खाने का, न पकाने का मिल रहा पैसा

- उधारी से पक रहा पोषाहार, संस्था प्रधानों की नहीं हो रही सुनवाई

- मानदेय को तरस रहे ढाई हजार कुक कम हेल्परफैक्ट फाइलजिले में योजना के तहत विद्यालय

- 1172कुल नामांकन- 176776कक्षा पहली से पांचवीं तक

- 115135कक्षा छठी से आठवीं तक - 616414.97 रुपए सामग्री की राशि प्रति विद्यार्थी पांचवीं तक7.45 रुपए सामग्री की राशि प्रति विद्यार्थी आठवीं तक

धौलपुर

Published: September 22, 2022 06:50:28 pm

विद्यालयों पर लाखों का कर्जा, न खाने का, न पकाने का मिल रहा पैसा

- उधारी से पक रहा पोषाहार, संस्था प्रधानों की नहीं हो रही सुनवाई

- मानदेय को तरस रहे ढाई हजार कुक कम हेल्परफैक्ट फाइलजिले में योजना के तहत विद्यालय
 Lakhs of loans on schools, no money for food, no cooking
विद्यालयों पर लाखों का कर्जा, न खाने का, न पकाने का मिल रहा पैसा
- 1172कुल नामांकन- 176776कक्षा पहली से पांचवीं तक

- 115135कक्षा छठी से आठवीं तक - 616414.97 रुपए सामग्री की राशि प्रति विद्यार्थी पांचवीं तक7.45 रुपए सामग्री की राशि प्रति विद्यार्थी आठवीं तक

धौलपुर. सरकारी स्कूलों में चल रही विद्यार्थियों की पोषाहार योजना उधारी की भेंट चढ़ गई है। स्कूलों को न सामग्री की राशि मिल रही और ना ही रसोइयों को मानदेय दिया जा रहा है। करीब छह माह से सरकार ने स्कूलों को मिड-डे मील की सामग्री का बजट नहीं नहीं दिया है। धौलपुर जिले ही नहीं प्रदेश में यही स्थिति बनी हुई है। ऐसे में स्कूल का पोषहार शिक्षक उधारी में सामग्री लाने को मजबूर हैं। अकेले धौलपुर जिले में कुकिंग कन्वर्जन व कुक कम हेल्पर के लाखों रुपए बकाया चल रहा है।
इसमें कुकिंग कन्वर्जन का भी लाखों रुपए बकाया है, जिसको लेकर शिक्षक असमंजस में बना हुए हैं कि आखिर पैसा आएगा तो कब। कुक कम हेल्पर को भी मानदेय नहीं मिलने से घर में आर्थिक किल्लत की वजह से चूल्हा जलाना मुश्किल हो गया है। हालांकि, हाल ही में बसेड़ी ब्लॉक के कुक कम हेल्पर का सितंबर तक के मानदेय का भुगतान कर दिया गया है। वहीं, और राजाखेड़ा ब्लॉक में जुलाई तक का भुगतान किया है। शेष ब्लॉक में फिलहाल भुगतान नहीं हो पाया है। बता दें, राष्ट्रीय पोषाहार कार्यक्रम का संचालन कक्षा पहली से आठवीं के बालक-बालिकाओं के लिए किया जाता है। कोरोना संक्रमण काल में विद्यार्थियों को खाद्यान्न के पैकेट दिए थे।
विद्यालय नियमित खुलने के साथ ही योजना के अन्तर्गत पोषाहार विद्यालयों में देना आरंभ किया, लेकिन समय पर राशि का भुगतान नहीं होने से अब संकट बढ़ गया है और योजना का क्रियान्वयन उधारी के भरोसे हो रहा है। जिले के अधिकतर स्कूलों में अप्रेल से ही बकाया चल रहा बताया है।यह हैं प्रावधानयोजना के अन्तर्गत गेहूं और चावल विभाग की ओर से दिया जाता है। सामग्री की राशि से दाल, सब्जी, तेल, मसाले आदि बाजार से खरीदे जाते हैं। इसके अतिरिक्त प्रत्येक गुरुवार को फल देने का भी प्रावधान है।
रसोइयों को भी भुगतान का इंतजारशिक्षा विभागीय जानकारी के अनुसार योजना के अन्तर्गत विद्यालयों में पोषाहार पकाने वाले रसोइयों को भी मानदेय का तीन माह से भुगतान नहीं हुआ है। जिले में 2432 कुक कम हेल्पर हैं, जिन्हें प्रतिमाह 1742 रुपए मानदेय देने का प्रावधान हैं, किंतु वे भी भुगतान नहीं होने से आर्थिक तंगी झेल रहे हैं।
इनका कहना है

स्कूलों में पोषाहार का पैसा एंडवास डलना चाहिए। छह-छह माह तक पैसा नहीं डलने से दुकानदारों में शिक्षकों के प्रति गलत अवधारणा पैदा होती है। सामग्री की राशि नहीं मिलना हर बार की समस्या है। इससे पोषाहार का प्रभार संभाल रहे शिक्षकों को सामग्री लाने के स्वयं राशि खर्च करनी पड़ रही है।
- राजेश शर्मा, जिलाध्यक्ष, पंचायतीराज कर्मचारी संघ

अभी तक उपलब्ध राशि के हिसाब से बसेड़ी व सरमथुरा में सितंबर तक की राशि का भुगतान कर दिया गया है। राजाखेड़ा में भी जुलाई तक का भुगतान किया गया है। राशि आते ही शेष ब्लॉक में भी भुगतान कर दिया जाएगा। सभी खाते सिंगल नोडल एजेंसी पोर्टल पर भी अपडेट कर दिए गए हैं।
- केदार गिरि गोस्वामी, जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक, धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Death Of Mahsa Amini In Iran: ईरान में महसा आमिनी की मौत पर फूटा गुस्सा, फूंके कई पुलिस थाने, नौ की मौतRussia Army Mobilization: रूस में सैन्य लामबंदी के खिलाफ प्रदर्शन, 1300 से अधिक गिरफ्तार, जवान लोगों के देश छोड़ने पर रोक'क्या अमित शाह को बिहार आने के लिए लेना पड़ेगा पासपोर्ट', गृहमंत्री के सीमांचल दौरे पर रविशंकर प्रसाद का महागठबंधन पर तंजPFI पर छापों के बाद अमित शाह ने की अजीत डोभाल, एनआईए और ईडी के साथ अहम बैठक, बड़े एक्शन की तैयारीहिजाब विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला, संजय हेगड़े ने कहा - "उन्हें शौक है तुम्हें बेपर्दा देखने का..."अब पंजाब में भी राज्यपाल से भिड़ी AAP सरकार, विधानसभा सत्र रद्द किए जाने को सुप्रीम कोर्ट में देगी चुनौतीयूक्रेन के प्रधानमंत्री ने रूस को रोकने के लिए मांगा भारत का साथ, मानवीय सहायता के लिए दिया धन्यवादराज्‍यसभा में अब नहीं होगा ‘नो सर’ शब्द का इस्तेमाल, जानिए क्या है वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.