अब बाड़ी में खुलेंगी दो हीमो डायलिसिस यूनिट

जिले में गुर्दा रोगियों की सुविधा के लिए धौलपुर के सामान्य अस्पताल में अगले माह हीमो डायलिसिस की जहां एक और यूनिट बढ़ाई जाएगी, वहीं बाड़ी अस्पताल में भी दो यूनिट स्थापित किए जाने का प्रस्ताव भेजा गया है।

By: Mahesh Gupta

Published: 03 Jan 2020, 11:49 AM IST

अब बाड़ी में खुलेंगी दो हीमो डायलिसिस यूनिट
राज्य सरकार को भेजा प्रस्ताव
अभी धौलपुर में दो यूनिट स्थापित
धौलपुर. जिले में गुर्दा रोगियों की सुविधा के लिए धौलपुर के सामान्य अस्पताल में अगले माह हीमो डायलिसिस की जहां एक और यूनिट बढ़ाई जाएगी, वहीं बाड़ी अस्पताल में भी दो यूनिट स्थापित किए जाने का प्रस्ताव भेजा गया है। जिले के गुर्दा रोगियों को जहां डायलिसिस कराने के लिए आगरा व ग्वालियर नगरों को जाना पड़ता था, वहीं अब गत दो वर्षों से जिले के रोगियों का बाहर जाना तो रुका ही है। साथ में सीमावर्ती जिलों के रोगी भी सस्ते में उपलब्ध डायलिसिस सुविधा का लाभ लेने धौलपुर आ रहे हैं।इन नगरों की दूरी धौलपुर शहर से करीब 55 से 65 किलोमीटर तक है, जबकि जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों के गांवों से यह दूरी इससे दोगुनी तक रहती है। इससे इन नगरों में डायलिसिस के लिए जाने वाले रोगियों व उनके तीमारदारों को जहां काफी परेशानी होती थी वहीं उनका अपेक्षाकृत खर्च भी बहुत होता था। इसके चलते अनेक रोगी वहां कई बार मजबूरन जा भी नहीं पाते थे और उन्हें पर्याप्त उपचार भी समय पर नहीं मिल पाता था। करीब दो वर्ष पूर्व अप्रेल 2018 में राज्य सरकार द्वारा पीपीपी मोड पर जिला सामान्य चिकित्सालय में कोलकाता की एक कंपनी के माध्यम से दो यूनिट स्थापित की गई हैं। अस्पताल प्रशासन ने नेफ्रोलॉजिस्ट की नियुक्ति के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा है।
अब तक 1249 रोगी लाभान्वित
अस्पताल में संचालित इन हीमो डायलिसिस इकाईयों पर प्रतिदिन 4 पारियों में 7-8 रोगियों की डायलिसिस हो रही है। डायलिसिस इकाई प्रभारी रनजीत सिंह ने बताया कि एक रोगी की डायलिसिस में करीब 4 घंटे का समय लगता है। सामान्य चिकित्सालय में नवम्बर 2019 तक 1249 रोगियों की डायलिसिस की जा चुकी है। यहां डायलिसिस के दौरान रोगी के एथ्रोपोइटिन व आयरन सुक्रोज के इंजेक्शन भी निशुल्क लगाए जाते हंै। सामान्य चिकित्सालय में सामान्य रोगी से मात्र 963 रुपए का ही शुल्क लिया जाता है जबकि भामाशाह कार्ड धारक, आस्था कार्ड धारक दिव्यांग तथा किसी भी वर्ग की महिलाओं की डायलिसिस निशुल्क की जाती है। आगरा व ग्वालियर में डायलिसिस का खर्चा अधिक आने से वहां के भी अनेक रोगी अब धौलपुर में ही इस सुविधा का लाभ ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि अन्य राज्यों के रोगियों के लिए भी यही प्रावधान लागू हैं। जिससे वहां के भी काफी रोगी डायलिसिस के लिए प्रतिदिन यहां आते हैं।
बाड़ी में दो यूनिट प्रस्तावित
राज्य सरकार द्वारा फरवरी में धौलपुर अस्पताल में एक और यूनिट स्थापित करने की तैयारी की जा रही है। वहीं बाड़ी में स्थित सामान्य चिकित्सालय में भी शीघ्र ही हीमो डायलिसिस की दो यूनिटें स्थापित करने का प्रस्ताव भेजा गया है। हाल ही में सरकार ने राज्य के 17 उपखण्ड मुख्यालयों पर स्थित सामान्य चिकित्सालयों में भी हीमो डायलिसिस इकाईयां स्थापित करने के प्रस्ताव तैयार किया है। इनमें धौलपुर जिले के बाड़ी उपखण्ड के सामान्य चिकित्सालय को भी शामिल किया गया है।
प्रतिदिन करीब 7-8 रोगियों की डायलिसिस की जा रही है। सरकार को एक और यूनिट बढ़ाने के लिए आग्रह किया गया है जो अगले माह तक स्थापित हो जाएगी। नेफ्रोलॉजिस्ट की नियुक्ति के लिए भी सरकार को प्रस्ताव भेजा है।
डॉ. समरवीर, पीएमओ सामान्य चिकित्सालय धौलपुर।

Mahesh Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned