नर्सेज से कोरोना सैम्पल कराने के आदेश का नर्सिंगकर्मी करेंगे विरोध

धौलपुर. जिला चिकित्सालय परिसर में शनिवार को राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन की आपात बैठक जिलाध्यक्ष हरिशंकर शर्मा की अध्यक्षता में हुई। इस दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के आदेश का विरोध जताया। जिसमें नर्सिंग स्टाफ को सैंपलिंग इत्यादि कार्य करने के लिए प्रशिक्षण की बात कही गई है।

By: Naresh

Published: 23 Aug 2020, 12:14 PM IST

नर्सेज से कोरोना सैम्पल कराने के आदेश का नर्सिंगकर्मी करेंगे विरोध

धौलपुर. जिला चिकित्सालय परिसर में शनिवार को राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन की आपात बैठक जिलाध्यक्ष हरिशंकर शर्मा की अध्यक्षता में हुई। इस दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के आदेश का विरोध जताया। जिसमें नर्सिंग स्टाफ को सैंपलिंग इत्यादि कार्य करने के लिए प्रशिक्षण की बात कही गई है। यह पूर्णत: नर्सिंग कर्मियों के जॉब चार्ट एवं सेवा नियमों के विरुद्ध है। संगठन के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष विकास त्यागी ने बताया कि सीएमएचओ के नियम विरुद्ध एवं अतार्किक आदेशों के चलते जिले के समस्त नर्सेज कर्मियों में रोष व्याप्त है। महामंत्री हरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि यह आदेश जारी किया गया है। यह प्रदेश स्तर से जारी किए गए आदेश में वर्णित दिशा निर्देशों के भी विपरीत है। संयोजक जगदीश मान ने बताया कि जिले में कोविड 19 के हालातों को देखते हुए कहीं किसी प्रकार से लैब तकनीशियन संवर्ग के कर्मचारियों की कोई कमी भी है, तो जिला प्रशासन को जनता के हितों को देखते हुए जिस काम मे दक्ष है, उसे उसी तरह का काम कराते हुए तुरंत प्रभाव से लैब तकनीशियन की जिले में मौजूद बेरोजगारों में से भर्ती करनी चाहिए। इसके अलावा तात्कालिक रूप से समस्या का समाधान करने के लिए जिले में संचालित निजी लैब में कार्यरत लैब तकनीशियन संवर्ग के कर्मचारियों की सेवाएं लेनी चाहिए। संरक्षक महेन्द्र त्यागी ने कहा कि इस प्रकार के आदेशों से नर्सेज में भारी रोष व्याप्त है। बैठक में मौजूद अन्य पदाधिकारियों ने चर्चा करते हुए कहा कि जिसका काम उसी को साजे कहावत के अनुसार भी उसी व्यक्ति से कार्य करवाया जाए, जो उसमें दक्ष है। जिससे जनता का कार्य गुणवत्ता के साथ हो सके। हरिशंकर शर्मा ने बताया कि नर्सेज की जिले में पहले से ही कमी है। इस प्रकार के नियम विरुद्ध कार्यों से नर्सेज का नर्सिंग कार्य भी प्रभावित होगा।
पूर्व जिला अध्यक्ष व प्रदेश एवं जिला संयोजक रविन्द्र सिंह त्यागी तथा सचिव राजवीर सिंह द्वारा जिले के समस्त पदाधिकारियों से दूरभाष पर हुई वार्ता के बाद बताया कि यदि आदेश वापिस नहीं लिया गया तो संगठन इस आदेश का पुरजोर तरीके से विरोध करेगा और संगठन आंदोलन की रणनीति पर विचार करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। श्याम सुंदर शर्मा ने जिले की सभी नर्सेज को जरूरत पडऩे पर आंदोलन के लिए तैयार रहने की अपील की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned