धौलपुर से एक कविता रोज.....बेटियां सुरक्षा के लिए दक्ष होनी चाहिए

सैपऊ भय का बना हुआ था वातावरण यहां पे
सारी परेशानियां भी ठीक हो रही हैं अब
सीख रहीं हैं स्वयं की सुरक्षा हेतु गुर
खुद से ही खुद नजदीक हो रही हैं अब
धौलपुर ने उठाया साहसी कदम यह
बेटियां अनेक निर्भीक हो रही हैं अब

By: Naresh

Published: 03 Apr 2021, 05:53 PM IST

धौलपुर से एक कविता रोज.....बेटियां सुरक्षा के लिए दक्ष होनी चाहिए

सैपऊ भय का बना हुआ था वातावरण यहां पे
सारी परेशानियां भी ठीक हो रही हैं अब
सीख रहीं हैं स्वयं की सुरक्षा हेतु गुर
खुद से ही खुद नजदीक हो रही हैं अब
धौलपुर ने उठाया साहसी कदम यह
बेटियां अनेक निर्भीक हो रही हैं अब
कलक्टर महोदय के अथक प्रयास से ही
बेटियां भी शौर्य का प्रतीक हो रही हैं अब।।

बेटियां भी बेटों के समान बलवान रहें
भय का न कोई परिवेश होना चाहिए
साहसी निडर निर्भीक ही रहें हमेशा
भूल से न भय का प्रवेश होना चाहिए
अपराधियों से लडऩे की चाह रखती हों
कौशल न अब कोई शेष होना चाहिए
खुद की सुरक्षा हेतु दक्ष हो गईं है अब
अपरधियों को ये सन्देश होना चाहिए।।

धौलपुर की धरा पे हो रहा प्रयास यही
बेटियां भी लक्ष्य के समक्ष होनी चाहिए
दूसरों पे निर्भर हों नहीं कभी भी और
लडऩे को खुद ही प्रत्यक्ष होनी चाहिए
बेटों को हमेशा लाड़ प्यार मिलता रहा है
बेटियां भी अब समकक्ष होनी चाहिए
सिंहनी के ही समान हो दहाड़ बेटियों की
खुद की सुरक्षा हेतु दक्ष होनी चाहिए।।

आकाश राजा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned