गांव में महिलाओं को पानी के लिए परेशान होते देखा तो भैंस बेचकर खुदवा दिया बोरवैल

धौलपुर. गांवों में पानी की समस्या विकराल है। वहीं डांग क्षेत्र में पानी को लेकर भयावह हालात हैं। इसके चलते गांव में महिलाएं पानी के लिए कोसों दूर तक पानी के लिए पैदल चलती हैं। इसे देखकर एक युवा को रहा नहीं गया और उसने निर्धन होते हुए भी अपनी भैंस बेचकर गांव में बोरवैल खुदवाकर पानी की टंकी बनवा दी।

By: Naresh

Published: 22 Jul 2021, 03:30 PM IST

गांव में महिलाओं को पानी के लिए परेशान होते देखा तो भैंस बेचकर खुदवा दिया बोरवैल
-सोच बदलो-गांव बदलो कार्यकर्ता ने ग्रामीणों को पानी की व्यवस्था कर दिया सद्भाव का संदेश

धौलपुर. गांवों में पानी की समस्या विकराल है। वहीं डांग क्षेत्र में पानी को लेकर भयावह हालात हैं। इसके चलते गांव में महिलाएं पानी के लिए कोसों दूर तक पानी के लिए पैदल चलती हैं। इसे देखकर एक युवा को रहा नहीं गया और उसने निर्धन होते हुए भी अपनी भैंस बेचकर गांव में बोरवैल खुदवाकर पानी की टंकी बनवा दी। इससे अब महिलाएं आराम से पानी भर कर घर ले जाती हैं। यह सब कार्य किया है कांकरेट निवासी दिनेश मीणा ने। वह सोच बदलो-गांव बदलों की टीम से जुडï़ा हुआ है और लगातार सामाजिक सरोकारों के कार्य करता रहता है। हालांकि सरकार द्वारा जल जीवन मिशन के माध्यम से घर-घर पानी के नल टेप कनेक्शन उपलब्ध करवाए जाने को लेकर सर्वे कार्य पूर्ण हो चुका है, लेकिन अभी समय लगेगा। दिनेश की इस पहल का आसपास के गांव सहित कई लोगों ने उनकी मुहिम की प्रशंसा की है। उन्होंने बताया कि सामाजिक सरोकार करने का विचार मेरे मन में एसबीजीबीटी टीम के प्रयासों से आया। टीम के प्रणेता आईआरएस अधिकारी डॉ. सत्यपाल मीणा के जन्मदिन को यादगार बनाने के लिए दिनेश मीणा ने जन्मदिन के दिन ही आमजन के लिए पानी की व्यवस्था का उद्घाटन कर पीने के पानी की व्यवस्था का शुभारंभ किया। टीम के मजबूत कार्यकर्ता रामनरेश मीणा ने टंकी का रंग रोगन और चित्रकारी कर आकर्षक बनाया। पानी की टंकी पर स्लोगन लिखकर महत्व को दर्शाया। उन्होंने बताया कि सामाजिक सरोकार को बढ़ावा देकर जरूरतमंद गरीब लोगों को सहारा दिया जा सकता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned