देह व्यापार तथा महिला उत्पीडऩ माफियाओं पर होगी कड़ी कानूनी कार्यवाही

धौलपुर. महिला सशक्तिकरण के लिए जिले में चलाए जा रहे आवाज कार्यक्रम के तहत शनिवार को शहर के समीपवर्ती गांव धीमरी में कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस मौके पर जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल व जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत के अलावा जिले के प्रमुख विभागों अधिकारी व कार्मिक मौजूद रहे।

By: Naresh

Published: 25 Oct 2020, 02:53 PM IST

देह व्यापार तथा महिला उत्पीडऩ माफियाओं पर होगी कड़ी कानूनी कार्यवाही
-पुलिस ने क्षेत्र में चलाया अभियान, २१ किशोरियों को किया जाएंगा बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश
धौलपुर. महिला सशक्तिकरण के लिए जिले में चलाए जा रहे आवाज कार्यक्रम के तहत शनिवार को शहर के समीपवर्ती गांव धीमरी में कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस मौके पर जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल व जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत के अलावा जिले के प्रमुख विभागों अधिकारी व कार्मिक मौजूद रहे। कार्यक्रम में क्षेत्रीय बालिकाओं को शिक्षा से जोडऩे के लिए चर्चा की गई। जिला कलेक्टर ने बताया कि जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के संयुक्त रूप से चलाए गए अभियान आवाज कैंपेन के माध्यम से शहर तथा गांव के आमजन को प्रेरित कर आवाज कैंपेन के माध्यम से धीमरी गांव में महिला जागरूकता के संबंध में कार्यक्रम का आयोजन किया गया । स्थानीय विद्यालय में गांव की पढ़ाई से बंचित बालक बालिकाओं को एकत्रित कर उनका पारिवारिक सर्वेक्षण प्रपत्र भरवाकर शिक्षा से जोडऩे की कार्यवाही की । प्रपत्र में समूचे परिवार का विवरण भरवाया गया है ताकि विधवा पेंशन, वृद्धा पेंशन, पालनहार का नाम जोडऩे ,छात्रवृत्ति से बंचित, खाद्य सुरक्षा से बंचित की पहचान की जा सके । महिला पुलिस कार्मिकों द्वारा सहजता पूर्वक बालिकाओं से गहन पूछताछ कर समस्त प्रपत्र की कार्यवाही संपादित की गई। जिसमें बालिकाओं के पूरे परिवार का विवरण अंकित किया ताकि सरकार द्वारा संचालित विभिन्न प्रकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ ऐसे परिवारों तक पहुंचाया जा सके । उन्होंने बताया कि स्थानीय विद्यालय का स्टाफ, पुलिस विभाग, जिला प्रशासन, सामाजिक एवं महिला आधिकारिता विभाग, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशासहयोगिनी एवं एएनएम तथा महिला सुरक्षा फोर्स मौके पर मौजूद रही । सभी विभागों से आए कार्मिकों ने बालिकाओं से गहन पूछताछ की तथा समस्याओं को जानकारी कर निराकरण के निर्देश दिए ।
देहव्यापार में लिप्तों को चिन्हित करेंगी पुलिस
जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने बताया कि महिलाओं और बालिकाओं के उत्थान के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा आवाज कार्यक्रम के माध्यम से हर संभव मदद की जाएगी तथा उन परिवारों का चिन्हीकरण कार्य करवाने की कार्यवाही की जा रही है ताकि उत्पीडऩ का शिकार तथा शिक्षा से वंचित बालिकाओं की पहचान सुनिश्चित कर उन परिवारों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाएगी । महिला उत्पीडऩ तथा लड़कियों को पलायन करने वाले माफियाओं पर पूर्ण रूप से शिकंजा कसने की कार्यवाही की जाएगी। किसी भी सूरत में ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा जो महिला उत्पीडऩ और देह व्यापार करने का कार्य करवाते है ऐसे लोग समाज के लिए खतरा है । ऐसे लोगों को पकडऩे में आमजन भी सामाजिक सरोकार की भूमिका निभायें ताकि ऐसे समाज विरोधी लोगों की धरपकड़ आसानी से की जा सके । एसपी शेखावत ने बताया कि गांव धीमरी का पुरा में ऐसा गांव है यहां पर लम्बे समय से इस बात की चर्चा है कि स्थानीय लोग यहां से बच्चियों को देह व्यापार के धंधे डालते है, एसपी ने बताया कि इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है, कि यहां माइनर लड़कियां है, वह इस प्रकार का शिकार नहीं रही हो। यहां की स्थिति को भांपते हुए इन बालिकाओं से संवाद करते हुए शैक्षणिक स्तर के बारे में जानकारी की गई साथ ही शिक्षा विभाग के लोगों से जानकारी जुटाई गई। जानकारी जुटाने के बाद ऐसी २१ बालिकाओं का रेस्क्यू किया गया और इन्हें बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया है।
शिक्षा जोडऩे को शुरू होंगे प्रयास
कार्यक्रम में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीना ने बताया कि जो बालिकाएं शिक्षा के अधिकार से वंचित है उन बालिकाओं को शिक्षा से जोडऩे तथा ड्रॉपआउट बालिकाओं को पुन: विद्यालय से जोडऩे के लिए टीम का गठन का सर्वे कार्य करवाया जाएगा, ताकि अधिक से अधिक बालिकाओं को शिक्षा से जोड़ा जा सके । सहायक निदेशक समाज कल्याण एवं महिला आधिकारिता विभाग रामरज मीना ने बताया कि जिन बच्चों के माता या पिता या माता पिता दोनों नहीं है, उनके लिए पालनहार योजना का लाभ दिलाया जाएगा। जिन बालिकाओं का किसी प्रकार का कोई शोषण हो रहा है या उत्पीडऩ का शिकार है तो उन्हें चिन्हित कर उनके परिवारीजनों के खिलाफ सख्त कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाएगी तथा उन चिन्हित परिवारों को नवजीवन योजना से जोडऩे की कार्यवाही की जाएगी। मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी दामोदर लाल मीणा ने गांव की बालिकाओं से बातचीत कर शिक्षा से बंचित बालिकाओं के बारे में जानकारी कर बालिकाओं के अभिभावकों से बच्चों को विद्यालय भेजने की अपील की । उड़ान की नीलम दुबे ने महिलाओं को संबोधित कर कहा कि आवाज का आगाज नारी सशक्तिकरण का बहुत महत्वपूर्ण अभियान है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को नारी सुरक्षा सम्मान अपने अधिकारों और कानूनों के प्रति ***** समानता महिला अपराधों पर अंकुश के साथ ही पुरुषों में नारी सम्मान के महत्व के बारे में समझाते हुए कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं को विस्तार से जानकारी दी तथा उन्होंने बताया कि उड़ान भी किशोरियों के उत्थान के लिए प्रयासरत है। शिक्षक संघ एकीकृत की रेखा शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बचन सिंह मीणा, मुख्य ब्लॉक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी वीरेंद्र भास्कर, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ अजय पाल सिंह, समाज कल्याण एवं महिला आधिकारिता विभाग की कनुप्रिया, नरगिस, भगवान सिंह मीना सहित अन्य विभागीय अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे ।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned