काम नहीं होने पर घूस की राशि वापस लौटाई, मौके पर ही धरा गया रिश्वत खोर एसडीएम

काम नहीं होने पर घूस की राशि वापस लौटाई, मौके पर ही धरा गया रिश्वत खोर एसडीएम

mahesh gupta | Updated: 02 Aug 2019, 11:07:48 PM (IST) Dholpur, Dholpur, Rajasthan, India

अभी तक आपने रिश्वत लेते हुए अधिकारियों को पकड़ते हुए सुना होगा, लेकिन धौलपुर में अनोखा मामला सामने आया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने धौलपुर एसडीएम को घूस की राशि लौटाते हुए दबोचा है। जबकि एसडीएम भंवरलाल कांसोटिया का एक दिन पूर्व ही भुसावर तबादला हुआ है। जाते-जाते परिवादी का कार्य नहीं होने पर उसने दस हजार रुपए की घूस लौटाई और इसी दौरान अपने निवास पर धरा गया।


एक दिन पहले हुआ तबादला
जाते-जाते रखा गया
शराब के नशे में था एसडीएम
लौटाई रिश्वत राशि
अनोखा मामला
धौलपुर. अभी तक आपने रिश्वत लेते हुए अधिकारियों को पकड़ते हुए सुना होगा, लेकिन धौलपुर में अनोखा मामला सामने आया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने धौलपुर एसडीएम को घूस की राशि लौटाते हुए दबोचा है। जबकि एसडीएम भंवरलाल कांसोटिया का एक दिन पूर्व ही भुसावर तबादला हुआ है। जाते-जाते परिवादी का कार्य नहीं होने पर उसने दस हजार रुपए की घूस लौटाई और इसी दौरान अपने निवास पर धरा गया।
सवाईमाधोुपर एसीबी की टीम ने एसडीएम को शुक्रवार शाम सात बजे खुद के निवास पर ही परिवादी को घूस लौटाते हुए दबोच लिया। पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया।
शराब के नशे में था एसडीएम
एसीबी कार्रवाई के दौरान एसडीएम कांसोटिया बीयर पी रहे थे। साथ ही मीट खा रहे थे। वहीं रसोई में भी मीट पक रहा था। पूछताछ के दौरान भी उनकी जुबान लडखड़़ा रही थी।
एक दिन पहले ही हुआ तबादला
एसडीएम का राज्य सरकार ने गुरुवार रात को निकाली गई सूची में भरतपुर जिले के भुसावर में तबादला किया था, लेकिन जाते-जाते घूस की राशि लौटाने के दौरान एसीबी की गिरफ्त में आ गया।
यह था मामला
एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भैंरूलाल मीणा ने बताया कि परिवादी धौलपुर के कायस्थ पाड़ा निवासी भगतसिंह सरदार ने एसीबी मुख्यालय में 30 जुलाई को परिवाद दिया था। इसमें बताया कि उसकी पुत्री मनप्रीत कौर ने वर्ष 2018 में एसडीएम न्यायालय में चार बीघा पुश्तैनी जमीन में से अपना हिस्सा देने का केस किया था। लेकिन भूमि भगतसिंह की मां की तरफ से उसके हक में आई थी। इस कारण उसने याचिका खारिज करने का आग्रह किया। इसके बदले में एसडीएम ने 50 हजार रुपए मांगे थे। प्रकरण का निर्णय 26 जुलाई को होना था। परिवादी ने 26 को ही सुबह 10 हजार रुपए बतौर घूस में दे दिए, लेकिन शाम को फैसला पुत्री के पक्ष में आया। इसके बाद परिवादी ने एसीबी में शिकायत की। इस परिवार को वेरिफिकेशन कराया गया। परिवादी ने एसडीएम से घूस की राशि वापस मांगी तो पहले एक अगस्त को देने की बात कही, बाद में दो तारीख को देना तय हुआ। शुक्रवार शाम को करीब सात बजे एसडीएम ने परिवादी को अपने निवास पर बुलाया और दस हजार रुपए लौटा दिए। इसी दौरान एसडीएम को दबोच लिया। इस दौरान वह बीयर पी रहे थे। टीम में सुनील कुमार, कपिल, केशव, बृजेश, राजीव व साजिद भी शामिल थे। वहीं गवाह के रूप में करौली डाइट से विनय सोनी तथा सुरेश बंसल को लेकर आए थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned