सामान्य मरीजों की पहुंची शिकायत तो कलक्टर ने किया अस्पताल का निरीक्षण

धौलपुर. कोरोना संक्रमितों को कोविड सेंटर में स्थानांतरित करने के बाद भी जिला चिकित्सालय में सामान्य मरीजों को उपचार में आ रही परेशानी की शिकायतों को देखते हुए जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल ने अस्पताल का निरीक्षण किया।

By: Naresh

Published: 30 Jun 2020, 09:53 AM IST

सामान्य मरीजों की पहुंची शिकायत तो कलक्टर ने किया अस्पताल का निरीक्षण

अलग से ओपीडी व्यवस्था की शुरू

धौलपुर. कोरोना संक्रमितों को कोविड सेंटर में स्थानांतरित करने के बाद भी जिला चिकित्सालय में सामान्य मरीजों को उपचार में आ रही परेशानी की शिकायतों को देखते हुए जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल ने अस्पताल का निरीक्षण किया। कलक्टर ने बताया कि जिला चिकित्सालय में नॉन कोविड मरीज के इलाज में उचित ध्यान नहीं देने के के सम्बंध में समस्त स्टॉफ व चिकित्सकों की बैठक ली। जिसमे सामने आया कि कोविड मरीजों के इलाज में चिकित्सकों व अन्य चिकित्साकर्मियों के प्रयास सराहनीय रहे हैं। लेकिन कोविड मरीजों को जिला चिकित्सालय से स्थानांतरित करने के बाद भी चिकित्सालय में सामान्य मरीजों के उपचार में स्थिति सामान्य नहीं हुई है। कहा कि कोविड मरीज के अलावा अन्य बीमारियों के इलाज के लिए आ रहे किसी भी मरीज को कोई परेशानी नहीं आनी चाहिए। इसलिए अधिक ओपीडी काउंटर खोलने के निर्देश दिए। इसके बाद फिर से सोमवार को जिला कलक्टर ने चिकित्सालय पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। कलक्टर की पहल पर सोमवारको अतिरिक्त ओपीडी कक्ष खोले गए। ओपीडी कक्षों का शुभारम्भ करते हुए बैठक कर प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि चिकित्सालय में भीड़ की वजह से अन्य वरिष्ठ चिकित्सक हैं तथा उन पर ज्यादा कार्य नहीं है। उनकी सेवाएं भी ओपीडी में ली जाए। साथ ही फ्लेक्स लगवाएं जाएं कि कौन चिकित्सक कहां बैठे है। इससे मरीजों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सर्जरी पर रोक हटाने के बाद ऑपरेशन पर ध्यान दिया जाए। किसी भी मरीज का ऑपरेशन कोरोना जांच से पहले नहीं किया जाए। इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर किया जाए। उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि राज्य में धौलपुर एकमात्र ऐसा जिला है, जहां समस्त कोविड इलाज की व्यवस्था मूल अस्पताल के बाहर हो रही है। इसके लिए जिले भर में कोविड केयर सेंटर स्थापित किए गए हैं। साफ. सफाई पर जोर देते हुए उन्होंने 30 अतिरिक्त वार्ड बॉय लगाने की स्वीकृति दी। कोरोना संक्रमण की स्थिति में चिकित्सकों व अन्य चिकित्सा कर्मियों की सेवाओं पर कहा कि प्रयास सराहनीय है, लेकिन इस समय और अधिक कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी, ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी को होम आइसोलेशन में रखे व्यक्तियों की प्रतिदिन सुबह शाम जांच कराने के निर्देश देते हुए कहा कि बुखार, ऑक्सीजन की स्थिति पर बराबर नजर रखें। इससे जिला प्रशासन द्वारा लिए गए निर्णय कि कोविड सेम्पलिंग लेने के बाद रिपोर्ट आने तक या पांच दिन तक व्यक्ति को घर पर रहना होगा। इस मौके पर जिला कलक्टर ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव के पोस्टर का विमोचन किया। बैठक में नागरिको के लिए चिकित्सा सम्बन्धी किसी भी समस्या के समाधान के लिए जिला कलक्ट्रेट एवं जिला चिकित्सालय में कंट्रोल रूम स्थापित करने के कलक्टर ने निर्देश दिए। जिस पर तुरन्त ही कन्ट्रोल रूम स्थापित कर दूरभाष नम्बर 05642-220033, 220025, 220738 एवं 7297072084 व 7691837290 जारी किए गए। निरीक्षण के दौरान प्रमुख चिकित्सा अधिकारी समरवीर सिंह सहित चिकित्सक व अन्य कार्मिक उपस्थित रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned