मचकुण्ड के द्वार, श्रद्धा उमड़ी अपार

श्रीकृष्ण की लीला स्थली मचकुंड में बुधवार को विश्वास, आस्था और समर्पण देखने को मिला। यहां आस्था का ऐसा ज्वार उमड़ा कि शहर के विभिन्न प्रवेश मार्गों सहित कुंड के चारों ओर श्रद्धालु ही श्रद्धालु ही नजर आ रहे थे। आस्था के इस केन्द्र पर आए श्रद्धालुओं की ना चाल में थकान थी और ना ही डगमग रास्तों की चिंता।

By: Mahesh gupta

Published: 05 Sep 2019, 11:18 AM IST

धौलपुर. श्रीकृष्ण की लीला स्थली मचकुंड में बुधवार को विश्वास, आस्था और समर्पण देखने को मिला। यहां आस्था का ऐसा ज्वार उमड़ा कि शहर के विभिन्न प्रवेश मार्गों सहित कुंड के चारों ओर श्रद्धालु ही श्रद्धालु ही नजर आ रहे थे। आस्था के इस केन्द्र पर आए श्रद्धालुओं की ना चाल में थकान थी और ना ही डगमग रास्तों की चिंता। मचकुण्ड की ओर जाने वाले हर रास्ते पर श्रद्धालुओं का सैलाब था। करीब तीन किलोमीटर लम्बे रास्ते पर भी पैर नहीं डगमगाए। बच्चे हो या बड़े हर कोई दरबार में धोक लगाने बस चले जा रहा था। मचकुण्ड सरोवर के हर घाट पर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई और मनौती मांगी। स्थिति यह थी मचकुण्ड सरोवर के सभी घाटों पर महिला-पुरुष श्रद्धालु जमे हुए थे। इस दौरान बच्चों ने भी सरोवर में परिजनों के साथ डुबकी लगाकर पुण्य कमाया।
सौंदर्य प्रसाधन की जमकर की खरीदारी
मचकुण्ड तिराहे से लेकर मंदिर तक लगी सैकड़ों दुकानों पर श्रद्धालु खरीदारी करते दिखाई दिए। महिलाओं ने सुहाग के प्रतीक सिंदूर, चूड़ी, बिंदी खरीदी तो बच्चों ने खिलौनों की खरीदारी की। इस दौरान बच्चों ने झूलों व चकरी का भी आनंद लिया। वहीं चाट-पकौड़ी के ढकेलों पर भी भीड़ दिखाई दी।

Mahesh gupta Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned