बुजुर्ग के कुर्ते पर गन्दगी डाल बदमाशों ने पार किए 50 हजार रुपए

बाड़ी. शहर में पुलिस उदासीनता के चलते छीनाझपटी, चोरी आदि की वारदातों पर अंकुश नहीं लग रहा है। बदमाश लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। बदमाशों ने फिर वारदात को अंजाम देते हुए एक बुजुर्ग को अपना शिकार बनाया। जिसके थैले में से 50 हजार रुपए पार कर लिए। घटनाक्रम के अनुसार गिरोह के सदस्यों ने पुलिस चौकी के पास एक दुकान के बाहर बैठे बुजुर्ग के कपड़ों पर सॉस डाला और उसे कपड़े धोने के लिए विवश कर दिया।

By: Naresh

Published: 07 Sep 2021, 09:25 AM IST

बुजुर्ग के कुर्ते पर गन्दगी डाल बदमाशों ने पार किए 50 हजार रुपए

- बैंकों के आसपास बदमाश गिरोह सक्रिय

- पुलिस की उदासीनता के चलते बदमाश दे रहे वारदातों को अंजाम

बाड़ी. शहर में पुलिस उदासीनता के चलते छीनाझपटी, चोरी आदि की वारदातों पर अंकुश नहीं लग रहा है। बदमाश लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। बदमाशों ने फिर वारदात को अंजाम देते हुए एक बुजुर्ग को अपना शिकार बनाया। जिसके थैले में से 50 हजार रुपए पार कर लिए। घटनाक्रम के अनुसार गिरोह के सदस्यों ने पुलिस चौकी के पास एक दुकान के बाहर बैठे बुजुर्ग के कपड़ों पर सॉस डाला और उसे कपड़े धोने के लिए विवश कर दिया। जब बुजुर्ग कपड़े धोने गया तो थैले में रखी पचास हजार की रकम को पार कर दिया। घटना के बाद बुजुर्ग ने पुलिस को तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
उपखंड के सनोरा गांव निवासी पीडि़त बुजुर्ग रामनाथ पुत्र विद्यासिंह परमार बैंक से पैसे निकालने आया था। पीएनबी बैंक से 50 हजार की रकम निकालकर अपने थैले में रखकर बाजार से कुछ सामान खरीदा और माता मंदिर के ठीक सामने पुलिस चौकी के बगल में स्थित एक नाई की दुकान पर बैठ गया। जहां से वह बस में बैठकर सनोरा जाना चाहता था, लेकिन इस दौरान उसके ऊपर किसी ने सॉस रूपी गन्दगी फेंक दी। जब उसने कपड़ों को देखा तो उसने थैले को पास में खड़े ढकेल वाले से देखने की कहकर कपड़े धोने बगल में पानी की टंकी पर चला गया। जब वापस आकर देखा तो थैला और सामान तो मौजूद था, लेकिन पैसों की थैली गायब मिली। जिसमें बड़ौदा और पंजाब बैंक की पासबुक एवं 50 हजार रुपए की रकम थी। घटना को लेकर पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बीते 3 वर्षों में 3 दर्जन से अधिक हुई वारदात, नहीं हो पाया खुलासा

गौरतलब है कि बाड़ी की बैंकों के आसपास शातिर चोरों का गिरोह सक्रिय है, जो लगातार वारदातों को अंजाम दे रहा है। पुलिस पिछले डेढ़ साल में करीबन 3 दर्जन से अधिक वारदातों में से किसी का भी खुलासा नहीं कर पाई है। पिछले महीने भी एक सरकारी महिला अध्यापिका के थैले में कट लगाकर 49 हजार की नकदी पार की गई थी। जिसमें पुलिस ने अभी तक कोई तफ्तीश नहीं की है। लोगों का आरोप है कि बैंकों के अंदर जो सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, वह भी खराब पड़े हैं। बैंकों के बाहर कोई कैमरा नहीं है। जिससे ऐसे शातिर चोरों का कुछ पता लगाया जा सके। ऐसे में शहर के नागरिकों ने अब उपखंड प्रशासन से मामले में कार्यवाही की मांग की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned