वयोवृद्ध प्रधानाचार्य और उनकी पुत्रवधु के साथ दो युवा हुए कोरोना के शिकार

बाड़ी. कोरोना महामारी का प्रकोप जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है। वैसे वैसे जांच परिणाम भी देरी से मिल रहे हैं। वहीं किसी की कांटेक्ट लिस्ट में किसी का नाम आ रहा है, तो कहीं एक ही परिवार की जांच टुकड़ों में प्राप्त हो रही है। रविवार को आई एक जांच रिपोर्ट में परिणाम जारी करने की तिथि 26 जून है। वह 28 जून को प्राप्त हुई है।

By: Naresh

Updated: 29 Jun 2020, 07:10 PM IST

वयोवृद्ध प्रधानाचार्य और उनकी पुत्रवधु के साथ दो युवा हुए कोरोना के शिकार

एक रिपीट पॉजिटिव
बाड़ी. कोरोना महामारी का प्रकोप जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है। वैसे वैसे जांच परिणाम भी देरी से मिल रहे हैं। वहीं किसी की कांटेक्ट लिस्ट में किसी का नाम आ रहा है, तो कहीं एक ही परिवार की जांच टुकड़ों में प्राप्त हो रही है। रविवार को आई एक जांच रिपोर्ट में परिणाम जारी करने की तिथि 26 जून है। वह 28 जून को प्राप्त हुई है। जिसमें एक महिला सहित शहर के पांच लोग कोरोना संक्रमित दिखाए गए है। जिनमें से एक रिपीट पॉजिटिव आया है। बाकी चार लोग कांटेक्ट वाले है। यह सूची 26 जून को जारी हुई है, जो दो दिन बाद धौलपुर पहुंची है। अब सूची के आधार पर बाड़ी चिकित्सा विभाग सभी मरीजों को आइसोलेट कर उपचार दे रहा है।
जानकारी के अनुसार पांच कोरोना पॉजिटिवों में से एक अस्पताल का प्रसूताओं को दाल दलिया देने वाला ठेकेदार रिपीट पॉजिटिव आया है। जबकि उसकी पत्नी पॉजिटिव से नेगेटिव हो गई है। इसके अलावा कायस्थ पाड़ा मोहल्ले का एक युवा कोरोना संक्रमित पाया गया है। होद मोहल्ले से भी एक युवा कोरोना पॉजिटिव आया है। इनके अलावा कोटपाड़ा मोहल्ले से दो कोरोना पॉजिटिव आए हैं। उनमें एक वयोवृद्ध पूर्व प्रधानाचार्य हैं। उनके साथ उनके बेटे की बहू भी पॉजिटिव बताई गई है।
वयोवृद्ध प्रधानाचार्य के पुत्र ने बताया कि चिकित्सा विभाग की कोरोना जांचों मे गलफत का आलम यह है कि उनके बड़े भाई, जो पूर्व प्राचार्य रहे हैं। उनका बाड़ी से गए सैंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई थी, लेकिन जब उनकी तबीयत बिगड़ी और उन्हें जयपुर जाकर महात्मा गांधी हॉस्पिटल में दिखाया गया तो वहां हुए सैंपल में वे कोरोना पॉजिटिव पाई गए। इसके बाद उन्होंने जयपुर से फोन कर पूरे घर को सैंपल देने को कहा। जिस पर घर के 11 सदस्य 24 जून को सैंपल देकर आए। जिनमें से 5 की रिपोर्ट 26 जून को नेगेटिव आ गई थी। अब 28 तारीख को उन्हें दिन में फोन आया कि उनके पिता सहित एक बहू की रिपोर्ट पॉजिटिव है और एक बेटा नेगेटिव आया है। अभी भी 3 सैंपल की रिपोर्ट नहीं आई है। ऐसे में वे मानसिक रूप से तो परेशान है ही, अभी तीन सैम्पलों की जांच कब आएंगी। उसे लेकर चिंतित है। पिता और बहू के उपचार के लिए घर पर रहने की सलाह दी है। ना कोई सैनिटाइजेशन हुआ है ना ही किसी प्रकार की कोई ऐतिहात और सावधानी बरती जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned