scriptVaccines for children above the age of 3 to 15 years will be taken in | जिले में 3 से लगेंगे 15 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों के टीके | Patrika News

जिले में 3 से लगेंगे 15 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों के टीके

धौलपुर. जिले में आगामी 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष तक की आयु के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू किया जाएगा। जिसके लिए एक जनवरी से रजिस्ट्रेशन भी प्रारम्भ हो जाएंगे। जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल ने इस संबंध में जिला व खण्ड स्तर के अधिकारियों को तैयारियां पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं।

धौलपुर

Published: December 31, 2021 07:43:32 pm

जिले में 3 से लगेंगे 15 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों के टीके

धौलपुर. जिले में आगामी 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष तक की आयु के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू किया जाएगा। जिसके लिए एक जनवरी से रजिस्ट्रेशन भी प्रारम्भ हो जाएंगे। जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल ने इस संबंध में जिला व खण्ड स्तर के अधिकारियों को तैयारियां पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। कलक्टर ने बताया कि दिसम्बर 2007 तक जन्मे बच्चे, जिनकी उम्र 15 साल से अधिक हो गई है, उनका 3 जनवरी से टीकाकरण किया जाना है। उन्होंने आईसीडीएस, शिक्षा विभाग, स्वयंसेवी संस्थाओं एवं अन्य सामाजिक संस्थानों को सबसे पहले स्कूलों में अध्ययनरत बच्चों का ही टीकाकरण करने में सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही आमजन से भी अपील की है कि सभी नागरिक, जिनके बच्चे 15 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हैं। उनका टीकाकरण अवश्य कराएं। उन्होंने टीकाकरण के लिए अतिरिक्त कार्मिकों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान जिला मुख्यालय पर भार्गव वाटिका पर केवल 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। साथ ही सभी विद्यालयों में भी टीकाकरण सत्र लगाए जाएंगे।
 Vaccines for children above the age of 3 to 15 years will be taken in the district
जिले में 3 से लगेंगे 15 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों के टीके
बच्चों का बेहतर स्वास्थ्य हम सबकी जिम्मेदारी: मलिंगा

- लुपिन ने कंचनपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपलब्ध कराईं बच्चों की जीवनरक्षक मशीनें

धौलपुर. ओमिक्रोन के बढ़ते खतरे के बीच धौलपुर जिले के कंचनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लुपिन फाउंडेशन की ओर से बेबी वार्मर, फोटोथेरैपी मशीन, पोर्टेबल सक्शन मशीन आदि उपलब्ध कराई गईं। इस मौके पर बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने कहा कि शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए सरकार अस्पतालों में बच्चों के इलाज के लिए कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। आधुनिक उपकरण उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इसी क्रम में नवजात शिशु को पीलिया या तापमान में कमी होने से होने वाली मृत्यु दर में कमी लाने के लिए जीवन रक्षक मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं।
इस मौके पर उपस्थित खंड मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गब्बर सिंह ने बताया कि जन्म के बाद शिशु में पीलिया रोग के लक्षण पाए जाने पर उसे फोटोथेरेपी यूनिट मशीन में सुलाकर इलाज किया जाता है। बेबी वार्मर की मदद से जन्म के समय कम वजन वाले बच्चों की जान बचाई जा सकती है। बता दें, कि हाल ही में मनियां के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी ये मशीनें लुपिन के द्वारा उपलब्ध कराई गई हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.