औषधीय गुणों से भरपूर है बथुआ, जानें इसके फायदे

आयुर्वेद में किए गए शोध के मुताबिक बथुए को नियमित खाने से ब्रेस्ट कैंसर की आशंका कम हो जाती है।

By: विकास गुप्ता

Published: 28 Nov 2017, 04:09 PM IST

सब्जी, रायते व खाने में कई तरह से प्रयोग में लाया जाने वाला बथुआ अनेक औषधीय गुणों से भरपूर है। इसमें शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्त्व पाए जाते हैं।

ब्रेस्ट कैंसर: आयुर्वेद में किए गए शोध के मुताबिक बथुए को नियमित खाने से ब्रेस्ट कैंसर की आशंका कम हो जाती है। इसमें मौजूद सेलिनियम, ओमेगा-3 व 6 फैटी एसिड ब्रेस्ट कैंसररोधक होते हैं।
जोड़ों में दर्द: इसके 10 ग्राम बीजों को करीब 200 मिलिलीटर पानी में उबालें। 50 मिलिलीटर बचने पर गर्मागर्म पिएं। एेसा एक महीने तक सुबह-शाम करने से जोड़ों के दर्द में लाभ होता है। इसकी ताजी पत्तियों को पीसकर हल्का गर्म करें और दर्द वाले स्थान पर बांधें। इससे भी दर्द में आराम मिलता है।

 

 

एनीमिया: इसमें आयरन व फोलिक एसिड होता है। करीब डेढ़ माह तक सब्जी बनाकर खाने या इसका 15-20 मिलिलीटर (करीब 4 चम्मच) रस सुबह-शाम लेने से खून की कमी की समस्या दूर होती है।
पीलिया: इसके 15 मिलिलीटर रस को 30 मिलिलीटर गिलोय रस के साथ करीब 10 दिनों तक लेने से पीलिया में राहत मिलती है।
बवासीर: इसके पंचांग (तना, जड़, पत्ते, फूल व बीज) को सुखाकर चूर्ण बना लें। करीब 10 ग्राम चूर्ण 15 दिनों तक सुबह-शाम बकरी के दूध के साथ लें, समस्या दूर होगी।
अनियमित माहवारी: 10 ग्राम बीज को 200 मिली पानी में उबालें। 50 मिली बचने पर छान लें। छने हुए पानी में करीब 2 ग्राम सौंठ मिलाकर गर्म-गर्म पिएं। इससे अनियमित माहवारी की समस्या व दर्द में आराम मिलता है।
पथरी: बथुआ में क्षार होता है। पथरी की शुरुआती स्टेज में इसके रस को 20 दिनों तक पीने से पथरी टूटकर यूरिन के जरिए बाहर आ जाती है।

थकान दूर करता है सरसों का तेल
सो ते समय यदि सरसों के तेल से पैरों के तलवों की मालिश की जाए तो कई तरह की परेशानियों में राहत मिल सकती है।
इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म दुरुस्त रहता है। साथ ही मोटापा कंट्रोल करने में मदद मिलती है।
दिनभर की थकान दूर होकर शारीरिक व मानसिक रूप से सुकून मिलता है। तनाव कम होता है व अच्छी नींद आती है।
यह शरीर में मौजूद वसा को कम करने में सहायक है। साथ ही इससे मालिश करने से पसीने के माध्यम से शरीर के विषैले तत्त्व भी बाहर निकल जाते हैं। इससे रक्तसंचार बेहतर होता है। और पैरों की त्वचा में भी कोमलता व निखार आता है।
तलवों में एक्यूप्रेशर पॉइंट होते हैं। मालिश करने से इन पॉइंट्स पर दबाव बनता है जिससे शरीर के कई विकार दूर होते हैं।
विटामिन-ई, एंटीऑक्सीडेंट्स, मिनरल्स से युक्त सरसों के तेल की मालिश शरीर को पोषण देती है।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned