तुकमरिया खाने से डायबिटीज टाइप-2 में मिलता है फायदा

तुकमरिया खाने से डायबिटीज टाइप-2 में मिलता है फायदा

Yuvraj Singh Jadon | Updated: 16 Aug 2019, 10:28:49 AM (IST) डाइट-फिटनेस

तुकमरिया को सब्जा के बीज, मीठी तुलसी के बीज, काजा पिंगेन, बाबची आदि नाम से भी जानते हैं

तुकमरिया को सब्जा के बीज, मीठी तुलसी के बीज, काजा पिंगेन, बाबची आदि नाम से भी जानते हैं। इसके स्वादविहीन बीज भिगोने पर अपने आकार से तीस गुना फूलते हैं। आधा चम्मच तुकमरिया का एक बार में प्रयोग करना काफी है। इसका उपयोग गर्मी के दिनों में तरावट के लिए किया जाता है। आइए जानते हैं इनके फायदाें के बारे में :-

डायबिटीज : डायबिटीज टाइप-2 में लाभकारी है। वैसे इसके द्वारा बिना शक्कर के प्रयोग से पेय तैयार किया जा सकता है जिसे दूध के साथ या सोयाबीन के दूध के साथ भी बनाया जा सकता है।

संक्रमण : यूरिनरी ब्लैडर में संक्रमण को रोकता है। इसका प्रयोग शहद के साथ लाभ देता है। गुलाब की पत्तियों के साथ भी इसका प्रयोग करने से अच्छे परिणाम सामने आते हैं।

पेट की जलन : गर्मी से पेट, आंखों, हथेलियों और पैरों के तलवों की जलन को शांत करता है तकमरिया।

एसिडिटी: दूध में भिगोकर पीने और गुलाब की पत्तियों के साथ लेने से एसिडिटी में आराम मिलता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned