महीनों से बंद है बीएसएनल का टावर

महीनों से बंद है बीएसएनल का टावर
BSNL's tower has been closed for months

Rajkumar Yadav | Publish: Sep, 18 2019 09:39:48 AM (IST) Dindori, Dindori, Madhya Pradesh, India

उपभोक्ताओं को हो रही है परेशानी

करंजिया. मुख्यालय में विगत् 2 माह से बीएसएनएल नेटवर्क उपभोक्ताओं को खासा परेशान कर रहा है। पिछले एक माह से बीएसएनएल का नेटवर्क निरंतर रूप से बंद है। क्षेत्र में बीएसएनएल के उपभोक्ताओं की संख्या बहुत है जो लंबे समय से सिम का उपयोग करते आ रहे हैं। अपने महत्वपूर्ण दस्तावेजों एवं रिकार्डों पर जैसे आधार कार्ड बैंक खाता एटीएम इंटरनेट बैंकिंग एवं अन्य जगहों पर नंबरों को पंजीकृत कराया है। जिससे उन्हें सुविधा हो सके परंतु इसके विपरीत नेटवर्क के बंद होने से लोग फोन कॉल करने के साथ-साथ अन्य सुविधाएं लेने में भी वंचित हैं। इस संबंध में जब जिले के बीएसएनएल कार्यालय में संपर्क किया गया तो राकेश साहू एसडीओ ने बताया कि करंजिया एक्सचेंज में बिजली का बिल बकाया है। जिसके कारण विद्युत विभाग ने टावरों की लाइन काट दी है। हमने भोपाल में पत्र लिखकर उच्च अधिकारियों को अवगत कराया है परंतु अभी तक बिलों का भुगतान नहीं हो पाया। आगे जानकारी देते हुए बताया कि एक टावर में अकाशीय बिजली गिर जाने के कारण वह भी बंद पड़ा हुआ है जिससे दूरसंचार की सेवाएं बंद है। वही जब इस बात की पुष्टि विद्युत विभाग के कार्यालय में की गई तो वहां के जेई अनिल ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि बीएसएनल एक्सचेंज करंजिया का विद्युत बिल बकाया है परंतु इस हेतु उनके एक्सचेंज एवं टावरों की सप्लाई बंद नहीं की गई है। इस रवैये से क्षेत्र के लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लाखों रुपए शासन के द्वारा खर्च किए जाते हैं ताकि उपभोक्ताओं को सस्ती एवं अच्छी सुविधा प्रदान की जा सके परंतु इस के विपरीत अधिकारी एवं कर्मचारियों का रवैया लापरवाही पूवर्क है। जिस कारण समस्याओं का सामना उपभोक्ताओं को करना पड़ रहा है ।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned