सूख गए प्राकृतिक स्त्रोत, नल-जल योजना भी ठप, आसपास के गांवों से ला रहे पानी

जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों से लगाई गुहार, नहीं हुई व्यवस्था

By: ayazuddin siddiqui

Published: 14 Apr 2021, 06:29 PM IST

मेंहदवानी. गर्मी के आगाज के साथ ही ग्रामीण अंचलो में जलसंकट गहराने लगा हैं। प्राकृतिक जलस्त्रोतों के सूखने के साथ ही अन्य वैकल्पिक संसाधन दम जोडऩे लगे हैं। जिसके चलते ग्रामीणों को अभी से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ ऐसी ही स्थिति विकास खंड मुख्यालय मेंहदवानी में भी देखने मिल रही है। यहां मुख्यालय सहित ग्रामीण अंचलो में लोग पीने के पानी के लिए परेशान होने लगे हैं। मेंहदवानी के रहवासी इन दिनों जल संकट से जूझ रहे है। यहां के कुएं, तालाब सहित अन्य जलस्त्रोतो ने जवाब दे दिया है। इन जलस्त्रोतों के सूखने की वजह से लोग पीने के पानी के लिए परेशान है।
जलस्त्रोतों के सूखने की वजह से लोग नजदीकी ग्राम सारसडोली, फतेहपुर सहित अन्य ग्रामों से पानी लाने के लिए मजबूर हो गए हैं। जानकारी के अनुसार मेंहदवानी स्थित तीन तालाब, दर्जन भर कुंए तथा शत प्रतिशत हैंडपंप सूख चुके हैं। जिससे पानी के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है।
गर्मी के पहले बिगड़ जाती है स्थिति
बताया जा रहा है कि मेंहदवानी में पानी की समस्या गर्मी शुरु होने के पहले से ही प्रारंभ होने लगती है। जनवरी, फरवरी माह से ही जलसंकट के आसार नजर आने लगते हैं। गर्मी के शुरुआती दौर से ही यहां के रहवासियों को पीने के पानी के लिए आस-पास के गांव की ओर रुख करना पड़ता है। यह जलसंकट बरसात के एक महीने बाद तक रहती है।
नल-जल योजना से भी सप्लाई बंद
ग्राम पंचायत मुख्यालय मेंहदवानी में लोगों के घरों तक पानी पहुंचाने के लिए नल जल योजना प्रारंभ की गई थी। जिससे लोगों को उम्मीद थी कि उन्हे कम से कम पीने का पानी मिलेगा। ऐसा हो नहीं पाया, कुंए तालाब तथा नलकूप सूखने के साथ ही नल-जल योजना ने भी दम तोड़ दिया। टंकी भराव न हो पाने की वजह से नल-जल योजना की सप्लाई भी ठप पड़ गई है।
सबको सुनाया दुखड़ा
पानी की समस्या को लेकर केन्द्रीय मंत्री व सांसद, क्षेत्रीय विधायक तथा संबंधित विभाग के अधिकारी सभी को स्थानीय जनप्रतिधियों ने अवगत कराया है। इसके बाद भी अभी तक इस समस्या का कोई समाधान नहीं निकाला गया। ग्रामीणों द्वारा नर्मदा से पानी सप्लाई कराए जाने की मांग की गई है परन्तु इस ओर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिससे दिनों दिन पानी की समस्या विकराल रुप लेती जा रही है। ऐसी स्थिति में ग्रामीणों के साथ साथ मवेशियों को पीने का पानी नसीब नहीं हो रहा है।
इनका कहना है
ग्राम पंचायत के सभी तालाब कुंए तथा नलकूप सूख गए हैं जिससे नल जल योजना लगभग ठप्प हो गई है। प्रशासन से मांग की गई है कि पानी उपलब्ध कराने के लिए कोई ठोस कदम उठाया जाए।
चन्द्र सिंह, सरपंच मेंहदवानी।
-------------
ग्राम पंचायत के जल स्रोत सूखे हुए हैं। हमने जानकारी जुआई है। कुछ निजी नलकूपों में पर्याप्त पानी है उन्हें ही आम नागरिकों के लिए खुलवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। कोशिश की जा रही है।
गणेश पाण्डेय, सीईओ जनपद पंचायत मेंहदवानी।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned