राज्यपाल के स्वागत के बाद दिया गार्ड ऑफ ऑनर

राज्यपाल ने राष्ट्रीय उद्यान घुघवा में देखे साढ़े छह करोड़ वर्ष पुराने जीवाश्म

By: shubham singh

Published: 06 Oct 2021, 12:53 PM IST

डिंडोरी. राज्यपाल मध्यप्रदेश मंगुभाई पटेल मंगलवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर डिंडोरी पहुंचे। इस अवसर पर कलेक्टर रत्नाकर झा, पुलिस अधीक्षक संजय सिंह, विधायक शहपुरा भूपेंद्र मरावी, अपर कलेक्टर अरूण कुमार विश्वकर्मा, सीईओ जिला पंचायत अंजू अरूण कुमार, एसडीएम काजल जावला ने पुष्पगुच्छ भेंटकर उनका स्वागत किया। राज्यपाल के स्वागत के बाद उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। इसके बाद राज्यपाल मंगुभाई पटेल अपने निर्धारित कार्यक्रम के तहत घुघवा स्थित राष्ट्रीय जीवाश्म उद्यान के लिए रवाना हुए। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने राष्ट्रीय जीवाश्म उद्यान भ्रमण के बाद पार्क की विजिटर बुक में अपने अनुभवो का उल्लेख किया। उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि डिंडोरी प्रवास के दौरान जीवाश्मों के वारे में जानकर प्रसन्नता हुई। उद्यान में जीवाश्मों का संरक्षण एवं संकलित जानकारी सराहनीय है।
समाज को मुख्य धारा से जोडऩे हो प्रयास
राज्यपाल शहपुरा क्षेत्र के जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां की रजत जयंती समारोह कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। मुख्य समारोह को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि जनजातीय कल्याण केन्द्र द्वारा आदिवासी, गरीब एवं पिछडे समाज के उत्थान के लिए सराहनीय कार्य किया जा रहा है, यह कार्य पुण्य का है। मध्यप्रदेश सरकार भी जनजातीय समाज के विकास को प्राथमिकता से सुनिश्चित कर रही है। जनजातीय समाज को समाज की मुख्य धारा से जोडऩे के लिए हम सभी के सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है। राज्यपाल ने कहा कि जनजातीय समाज की समस्याओं को समझते हुए उनका निराकरण आवश्यक है। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां के परिसर का निरीक्षण कर गौ-पूजन किया। जनजातीय कल्याण केन्द्र के अध्यक्ष मनोहरलाल साहू ने केन्द्र की विभिन्न गतिविधियों का ब्यौरा दिया। राज्यपाल ने कार्यक्रम के दौरान जनजातीय केन्द्र की गतिविधियों का परिचय आधारित वर्तिका पुस्तिका का विमोचन किया। केन्द्र के सदस्यों द्वारा रजत जयंती के अवसर पर स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया। कार्यक्रम के बाद उन्होने जनजातीय कल्याण केन्द्र के भोजनालय का शुभारंभ किया एवं विद्यार्थियों के साथ सहभोज में शामिल हुए। समारोह का आभार प्रदर्शन जनजातीय कल्याण केन्द्र के सचिव दिग्विजय सिंह ने किया।
विशेषताओं को संरक्षित रखना महत्वपूर्ण
जनजातीय समाज की संस्कृति को संरक्षित रखते हुए उनकी विशेषताओं को बनाए रखना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। जनजातीय समाज अमिट मूल्यों से परिपूर्ण एवं सादगी पसंद समाज है। इनकी कलाकृतियों में समय की गहराई का गुण विद्यमान होता है। उन्होने जनजातीय समाज के लोगों में काष्ठशिल्प, हस्तशिल्प, चित्रकारिता, संगीत एवं नृत्य की अनूठी शैलियों एवं गुणों का जिक्र किया। उन्होने कहा कि जनजातीय कल्याण केन्द्र प्रकृति की गोद में स्थित है। हम सभी को पौधे लगाना चाहिए साथ ही उनका संरक्षण करना चाहिए। उन्होने फिल्म निर्माता के रूप में पैनलबद्ध सुधीर कसार द्वारा केन्द्र के कार्य पर आधारित निर्मित डॉक्युमेंट्री फिल्म कौशल विकास के नये आयाम का विमोचन एवं प्रदर्शन किया गया।
क्षेत्रीय विधायक की अनदेखी, बंद कर दिया माइक
वन ग्राम चाड़ा में आयोजित कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल के सामने ही क्षेत्रीय विधायक की अनदेखी का मामला सामने आया है। जिसे लेकर क्षेत्रीय विधायक के साथ ही उनके समर्थको में नाराजगदी देखने मिली। हालांकि कुछ लोग इसे विधायक का स्टंट भी मान रहे है। जनचर्चा यह भी है कि जब भी कोई विशिष्ट अतिथि आते है तो कुछ न कुछ हंगामा इनके द्वारा अवश्यक किया जाता है। दरासल पूरा मामला यह है कि मंगलवार को वन ग्राम चाड़ा में राज्यपाल के मुख्यआतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम में मंचासीन अन्य जनप्रतिनिधियों को भी संबोधित करने का अवसर दिया गया। जबकि वहां क्षेत्रीय विधायक भी मौजूद थे। जिन्हे नजर अंदाज करते हुए कार्यक्रम के समापन की घोषणा कर दी गई। यह बात विधायक को नागवारा गुजरी और वह आगे बढ़कर मंच पर बोलने लगे। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारी पहले तो विधायक के पास पहुंच कहा लेकिन जब बात नहीं बनी तो माइक ही बंद कर दिया गया। जिससे विधायक की नाराजगी और भी बढ़ गई और वह मंच से ही स्थानीय प्रशासन पर भेदभाव के आरोप लगाने लगे। स्थिति बिगड़ते देख प्रशासनिक महकमे के सामने उहापोह की स्थिति निर्मित हो गई। हालांकि बाद में किसी तरह स्थिति को नियंत्रित किया गया। हालांकि इसे कई लोग क्षेत्रीय विधायक की स्टंटबाजी भी बता रहे हैं। वहीं कार्यकम के दौरान स्थानीय मीडिया कर्मियों को भी प्रशासन द्वारा नजर अंदाज किया गया। राज्यपाल के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम में मीडिया कर्मियों की अनदेखी को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।

shubham singh Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned