काम के बहाने नाबालिगों को दिल्ली ले जा रहे थे पति-पत्नी

आरोपियों के चंगुल से तीन नाबालिग बरामद

By: Rajkumar yadav

Published: 07 Jul 2019, 09:44 AM IST

डिंडोरी. अमरपुर पुलिस चौकी इलाके में नाबालिग लड़कियों की तस्करी का मामला सामने आया है। तस्करी के आरोप में पुलिस ने पति पत्नी को गिरफ्तार कर तीन नाबालिग लड़कियों को बरामद कर परिजनों को सौंप दिया है। मामले का खुलासा करते हुये पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपी पति पत्नी इलाके की नाबालिग लड़कियों को काम दिलाने के बहाने दिल्ली ले जाने की फिराक में थे लेकिन जानकारी लगते ही पुलिस ने आरोपी का पीछा किया तो आरोपी लड़कियों को मंडला में छोड़कर फरार हो गये थे। पुलिस की मानें तो तस्करी के इस गोरखधंधे में दंपत्ति के अलावा अन्य दो और आरोपी शामिल हैं जिनकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है। गौरतलब है कि तस्करी के इस रैकेट में स्थानीय व्यक्ति को एजेंट के रूप में शामिल किया जाता है जो महानगरों में बैठे तस्करों के इशारे पर नाबालिग लड़कियों को नौकरी का झांसा देकर गांव से महानगरों तक ले जाते हैं और वहां लड़कियों को दलालों के हवाले कर दिया जाता है। इस पूरे काम को बेहद सुनियोजित तरीके से संचालित कर इस रैकेट में शामिल स्थानीय एजेंट को कमीशन के तौर पर मोटी रकम दी जाती है और नौकरी के लालच में महानगर पहुंची नाबालिगों को बंधुआ मजदूरी एवं जिस्म फरोशी जैसे अवैध कारोबार में धकेल दिया जाता है।
सैकडो मामले है इस तरह के
डिंडोरी और शहपुरा के थाने के रिकार्ड को यदि खंगाला जाए तो इस तरह के सैकडो मामले मिल जाएगें। जहां पर स्थानीय लोगो से सांठगांठ कर बाहर के लोग यहां के गरीब आदिवासी युवक युवतिया को यहां से अच्छे काम और मोटी पगार का लालच देकर महानगरो में ले जाते है और वहां पर उन्हे जिस्म फरोसी और बंधुआ मजदूरी के ध्ंाधे में झोक दिया जाता है। इन सब मामलो से यदि प्रसाशन सबक ले तो इस प्रकार की अन्य वारदात क्षेत्रो में घटित ना हो।

Patrika
Rajkumar yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned