लगातार बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त, नदी नाले उफान में

लगातार बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त, नदी नाले उफान में

Shiv Mangal Singh | Publish: Sep, 08 2018 04:42:08 PM (IST) Dindori, Madhya Pradesh, India

बढ़ा नर्मदा का जल स्तर, घर खाली करने लगे तट में बसे लोग

डिंडोरी। जिले में गुरूवार की रात से हो रही बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। बारिश ने आम जनजीवन को अस्त व्यस्त कर रखा है। लगातार बारिश के चलते नर्मदा के जलस्तर में काफी बढोत्तरी हुई है और पानी जोगी टिकरिया के पुल को छूने लगा हालांकि कुछ देर बाद जलस्तर घट गया। नर्मदा तटों पर बने छोटे छोटे मंदिर डूब गए और पानी ने सभी घाटों को अपनी आगोश में ले लिया। सुबह से बढ़ रहे जलस्तर को देखने के लिए नर्मदा तटों पर दिन भर लोगों का तांता लगा रहा। नगर के मुख्य घाटों पर एसडीईआरएफ की टीम कमांडेंट ललित उद्दे के नेतृत्व में तैनात रही और पानी के नजदीक लोगों को न जाने की समझाईश दी गई। इस बीच तट पर बसे लोगों की धडकनें भी तेज हो गईं और सटे लोगों ने अपने घरों को खाली करना भी शुरू कर दिया। नर्मदा में मिलने वाले नालों में पानी रिटर्न हो रहा था और तट के नजदीक तो नालों में भी कई फिट तक पानी भरा रहा। नगर के रानी अवंती बाई चौक में गुरूवार की रात से तालाब जैसा माहौल है। यहां पर लगातार पानी भरा हुआ है जिससे वाहन चालकों व राहगीरों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। कच्चे घरों व निचले इलाकों में रहने वाले लोगों के लिये बीते चौबीस घण्टे काफी मुश्किल भरे रहे। रात भर अपने घर की सुरक्षा व पानी निकालने के इंतजाम में लोग लगे रहे। जबलपुर मार्ग के जोगी टिकरिया की तो यहां का पुल डूबने की कगार पर पहुंच गया लगातार बढते जलस्तर के बीच दोपहर में हालात ऐसे हो गये कि पानी पुल के ऊपरी हिस्से तक पहुंच गया। यहां पर सुरक्षा के सारे इंतजाम नदारद रहे कोई भी सुरक्षाकर्मी स्थिति को सम्हालने के लिये मौजूद नहीं रहा। दोनों ओर से वाहनों की आवाजाही लगातार जारी रही वहीं जोगी टिकरिया व डिंडोरी के घाटों व पुल पर सेल्फी के शौकीनों का जमावडा लगा रहा। जिससे लगातार दुर्घटना की आशंका बनी रही।
48 घंटे में लगभग 100 मिमी वर्षा
जिले में मानसून की मेहरबानी से पिछले 48 घंटों में लगभग 100 मिमी वर्षा मापी गई है। जानकारी के मुताबिक 1 जून से 7 सितंबर तक जिले में औसत 1020 मिमी बारिश दर्ज की गई है। जबकि पिछले साल यह आंकड़ा 763 मिमी तक ही पहुंचा था। आंकड़ो के मुताबिक गुरूवार से शुक्रवार सुबह तक सबसे अधिक वर्षा 112 मिमी शहपुरा में मापी गई थी। जबकि डिंडोरी में 79 मिमी अमरपुर में 85 मिमी, समनापुर में 30 मिमी, बजाग में 24 मिमी तथा मेंहदवानी में 23 मिमी वर्षा मापी गई है। औसत वर्षा पर गौर करे तो गुरूवार से शुक्रवार सुबह तक 62 मिमी बारिष दर्ज की गई है। वही शुक्रवार दिनभर तथा देर रात तक जारी वर्षा के मद्देनजर यह आकड़ा 100 मिमी पार करने का अनुमान लगाया गया है। दिनभर की वर्षा 25 मिमी मापी गई थी।
खोले गए बिलगढ़ा के नौ गेट
लगातार हो रही बारिश के कारण सिलगी नदी का जलस्तर काफी बढ गया और शहपुरा विकासखण्ड के बिलगढा में सिलगी नदी में बने डेम के नौ गेट खोल दिए गए। जिसके बाद बरगांव में जबलपुर अमरकण्टक मार्ग पर लंबा जाम लगा रहा। यहां लगभग चार से पांच घण्टे लगातार जाम लगा रहा। सुरक्षा के लिये थाना प्रभारी के के त्रिपाठी अपने अमले के साथ यहां पर मौजूद रहे। जिले के सबसे व्यस्ततम मार्ग पर घण्टों लगे जाम से यात्री काफी परेशान होते नजर आए। वहीं मुख्यमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम की तैयारियों में जुटे प्रशासन को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को लेकर यहां पर केबिनेट मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे को भी आना था लेकिन भारी बारिश व मार्ग बाधित होने के कारण वह भी यहां नहीं पहुंच सके। ग्रामीण इलाकों में भी हालात काफी खराब रहे। लगातार हो रही बारिश के कारण शहपुरा की निचली बस्तियों में जल भराव की समस्या देखी गइर्। ग्रामीण इलाकों में चल रहे प्रधानमंत्री आवास व शौचालयों के कारण ग्रामीणों ने अपने घर तोड दिये हैं और वैकल्पिक आवास पर रह रहे हैं। बिलगढा बांध में जल भराव के बाद यहां नहरों से पानी छोडा जाता है लेकिन योजना के तहत बनाई गई नहरें गुणवत्तापूर्वक नहीं हैं पहले ही नहरें फूटकर किसानों की फसलें चौपट कर चुकी हैं। रही सही कसर इस बारिश ने पूरी कर दी है अब किसानों पर दोहरी मार पडी है। विगत एक माह से क्षेत्र मे हो रही भारी बारिष का असर पर जनजीवन पर भी पडने लगा है गुरूवार- शुक्रवार की दरमियान रात मे क्षेत्र मे हुई झमाझम बारिश के कारण नगर से लगे ग्राम सूहगी के कूछ घरो मे बारिश का पानी घर के अन्दर तक भर गया। जिस कारण घरो के अन्दर रखा समान पूरी तरह खराब हो गया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned