लॉकडाउन : समझाइश भी बेअसर, बेखौफ हो घरों से निकल रहे लोग

दो गुने हो गए सब्जियों के दाम, आम जन हो रहे परेशान
सावधानी बरतने व घरो में रहने प्रशासन दे रहा समझाइश

डिंडोरी. कोरोना संक्रमण के बढते खतरे को देख बतौर समझाइश और अपीलों के माध्यम से घर पर ही रहने की हिदायत दी जा रही है। इसके बाद भी कुछ लोग ऐसे है जिन पर इस समझाइश का कोई असर नहीं दिखा रहा है और लो लॉकडाउन के बाद भी घरों से बाहर निकल रहे हैं। पुलिस पिछले चार दिनों से हरसंभव प्रयास कर रहा है कि लोग घरों के अंदर ही रहें। इसके बाद भी शहर की गलियों पर फर्राटा मारते हुए गुजर रहे हैं। हालांकि पुलिस अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रही है। बावजूद इसके जो स्थितियां है उसे देखते हुए पुलिस को सख्ती दिखाने की आवश्यक्ता है। जिला मुख्यालय के साथ ही समनापुर में भी लॉक डाउन बे-असर है। यहां भी लोग बेवजह सडकों पर घूम फिर रहे है।
मंदिरों में रहा सन्नाटा
लॉकडाउन के चलते जिले के सारे मंदिरों में सन्नाटा पसरा रहा। हालांकि हिन्दू नव वर्ष का पहला दिन होने के चलते कुछ एक मंदिरों में स्थानीय जन सुबह पूजन पाठ करते देखे गये। प्रशासन भी चप्पे चप्पे पर मौजूद था। ऐसी स्थिति में जहां भीड़ लगने का अंदेशा था। वहां समझाइश देकर लोगों को घर पर रहकर ही पूजन पाठ करने को कहा गया।
सख्ती से खाली कराए नर्मदा घाट
कोरोना वायरस व उससे जनित बीमारी के खतरे को देखते हुये उसकी रोकथाम के लिए कलेक्टर ने आदेश जारी किया था कि आगामी दिनों में जिले में आयोजित होने वाले सभी प्रकार के धार्मिक एवं सांस्कृतिक पर्वों के दौरान नर्मदा घाटों पर स्नान के लिये प्रतिबंध लगा दिया गया था। बावजूद इसके लोग मुख्यालय स्थित नर्मदा घाटों पर एकत्रित होने लगे थे। ऐसी स्थिति में कोतवाली पुलिस ने मोर्चा संभाला और बतौर समझाइश व सख्ती दिखाते हुये घाट खाली कराये गये।
दो गुने हुए दाम
लॉकडाउन के चलते स्थानीय सब्जी विक्रेताओं ने भी मुनाफा खोरी चालू कर दी है। बढ़ती मांग के अनुरूप सब्जियों के दाम दो गुने कर दिए है। जहां लॉकडाउन से पहले टमाटर 20 रुपये किलो बिकता था। वह 40 रुपये प्रतिकिलो पर जा पहुंचा है। 20 रुपये किलो बिकने वाले आलू के दाम भी 30 रुपये किलो हो चुके है। जो बैगन 20 रुपये किलो थे वह भी अब 40 रुपये किलो कि दर पर बिक रहे है। जिसके चलते आम आदमी के जेब पर अतिरिक्त भार पडने लगा है।
मदद को आगे आ रहे युवा
कुछ ऐसे युवा हैं जो विषम परिस्थितियों का सामना कर रहे पुलिस के सिपाहियों का हर परिस्थितियों में खयाल रखने तैयार है। बुधवार को नगर के अकील अहमद भी पुलिस जवानों की मदद करते देखे गये और पुलिस कर्मियों को चाय पिलाई और अन्य युवाओं ने हर संभव मदद किया। नगर में ऐसे युवाओं को भी खासा सराहा जा रहा है जो मुश्किल परिस्थितियों में भी जिले के सिपाहियों के सांथ खड़े हैं।

Patrika
Rajkumar yadav Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned