गांजा की जगह बना दिया शराब का प्रकरण

विभाग की कार्य पद्धति पर लगा प्रश्न चिन्ह

By: Shahdol online

Published: 11 Dec 2017, 11:57 AM IST

शहपुरा. शहपुरा थाना अंतर्गत मालपुर गांव मे पिछले दिनों एक व्यक्ति के उपर शराब बेचने के मामले में आबकारी विभाग द्वारा कार्रवाई की गई थी। जिसे लेकर आरोप प्रत्योराप का दौर शुरु हो गया है और आबकारी विभाग की कार्यप्रणाली पर ऊंगली उठनी शुरु हो गई है।
ग्रामीणों समेत जनपद अध्यक्ष शहपुरा थानी सिंह धुर्वे ने आबकारी विभाग पर आरोपी के साथ मिलीभगत कर गांजा के मामले को शराब विक्रय के आरोप मे तब्दील करते हुये मामला दर्ज करने के आरोप लगाये हैं।

जनपद अध्यक्ष की माने तो कुछ दिनों पूर्व उनके गृहग्राम में एक व्यक्ति के घर की बाड़ी से आबकारी विभाग की छापेमार कार्रवाई में गांजा के सैकड़ों पेड़ बरामद किये गये थे। लेकिन आबकारी विभाग द्वारा आरोपी के विरूद्ध नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं की गई बल्कि मिलीभगत करते हुये आरोपी के विरूद्ध शराब बेचने की कार्रवाई की गई थी। जिसे लेकर ग्रामीणों मे भी चर्चाओं का दौर जारी है। इस संबंध मे आरोपी तीरथ तेकाम भी शराब बेचने और पीने से इंकार करते हुये बतलाया कि आबकारी विभाग का अमला उसके घर मे दबिश दिया और घर के पीछे बाड़ी मे घूमकर तलाशी शुरू की। इसके बाद उन्हे कुछ भी नहीं मिला तीरथ ने बतलाया कि उसके ऊपर आबकारी विभाग क्या कार्रवाई किया है इसकी जानकारी उसे नहीं है।

वह शराब नहीं बेचता और न ही शराब का सेवन करता है। इस बात की गवाही पूरा गांव दे देगा। वहीं जनपद अध्यक्ष का आरोप है कि विभाग द्वारा गांजा के लगभग 150 पौधे बरामद किये गये थे। लेकिन आरोपी से लेनदेन करने के बाद शराब बेचने का मामला दर्ज किया गया है। जिसकी जांच की भी जनपद अध्यक्ष द्वारा
मांग की गई है।

इनका कहना है
आबकारी विभाग शहपुरा के सम्हर सिंह के मुताबिक मालपुर मे शराब विक्रय करने की शिकायत प्राप्त हुई थी। जिसके बाद दबिश देकर आरोपी के पास से शराब की जप्ती करते हुये कार्रवाई की गई है। ग्रामीणों द्वारा लगाये गये आरोप गलत है।

Shahdol online
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned