गली-गली गूंज रहे माता के जयकारे, मंदिरों में जल चढ़ाने उमड़ रही भीड़

शक्ति की उपासना में लीन भक्त, आज स्कंद माता की होगी आराधना

By: ayazuddin siddiqui

Updated: 21 Oct 2020, 07:30 PM IST

शहपुरा. नगर की बड़ी देवी मढिया, शारदा टेकरी, बरगांव, करौंदी, बांकी, बिछिया, मानिकपुर रैपुरा सहित अंचल में नवरात्र पर्व पर श्रद्धालुओ में उत्साह देखने मिल रहा है। मां भगवती की नौ शक्तियों की उपासना का महापर्व नवरात्र के चलते जगह-जगह पंडालों में विराजित मां दुर्गा की प्रतिमा के दर्शनार्थ व पूजा पाठ करने श्रद्धालुओं की भीड़ लग रही है। नवरात्रि के चौथे दिन मंगलवार को मां कुष्मांडा देवी की पूजा अर्चना की गई। मानिकपुर के दुर्गा मंदिर में जल चढ़ाने सुबह से ही भक्तों का आना जाना शुरू हो गया। नवरात्र के पर्व के चलते मानिकपुर के माता के मंदिर सहित पंडाल में आकर्षक विद्युत साज सज्जा व सजावट से पूरा मंदिर 9 दिनों तक जगमगाता रहेगा। मानिकपुर के दुर्गा मंदिर में भी रंग रोगन करवाया गया है। साथ सजाकर देवी स्थापना कर मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना की जा रही है। महिलाओं बच्चों सहित बुजुर्ग वर्ग के लोग मां की आराधना में लीन हैं। महिलाएं सुबह 4 बजे से ही मंदिरों में जल चढ़ाने के लिए निकल पड़ती हैं इसके साथ ही मानिकपुर दुर्गा मंदिर में रामायण पाठ, जस गायन से मां की आराधना और आरती में शामिल होकर धर्म लाभ उठा रहे हैं। गौरतलब है कि इस बार कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने गाइडलाइन जारी की है। इसके चलते सांस्कृतिक कार्यक्रम में समिति के सदस्य दूरी बनाए रखें है जबकि पंडाल में समिति के द्वारा कोविड 19 के नियम का पालन करते हुए माता के दर्शन करने की अनुमति है। समिति के लोगों ने अपने व्यवस्थापको को निर्देश दिए हैं की संक्रमण की रोकथाम के लिए शासन प्रशासन लगातार जिन बातों को अमल करने की बात कह रही है जैसे चेहरे पर मास्क लगाना, सामाजिक दूरी बनाए रखना,ै सैनिटाइजर का उपयोग करना सहित गाइउ लाइन के अनुसार सभी नियमों को कड़ाई से पालन करना है।
सुख समृद्धि की कर रहे कामना
डिंडोरी. नवरात्रि के चलते जिला मुख्यालय सहित सम्पूर्ण जिले में मातारानी के जयकारे गूंज रहे है। 9 दिनों तक मां के अलग अलग स्वरूपों की पूजा अर्चना की जा रही है। मंगलवार को जहां मां कुष्मांडा देवी की विधि विधान से पूजा की गई और श्रद्धालुओं ने सुख समृद्धि की कामना की। वहीं बुधबार को मां स्कंदमाता की पूजा होगी। पंचांग के अनुसार 21 अक्टूबर को नवरात्रि का पांचवा दिन है। नवरात्रि का पांचवा दिन स्कंदमाता को समर्पित है। इस दिन को नवरात्रि की पंचमी भी कहा जाता है क्योंकि इस दिन आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि है। इस दिन माता स्कंदमाता की आराधना का प्रावधान है। जिनकी पूजा अर्चना से भक्तों की सभी मनोकमनाएं पूरी होती है। मातारानी सभी के कष्टो का पल भर में हरण कर सुख शान्ति प्रदान करती हैं।
पूजा विधि
इस दिन पीले रंग के कपडे पहनकर माता की पूजा करें। इससे शुभ फल की प्रप्ति होती है। उन्हें पीले फूल अर्पित करें। उन्हें मौसमी फल, केले, चने की दाल का भोग लगाए।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned